News Nation Logo
Agnipath Scheme: आज से Air Force में भर्ती के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू होंगे 2002 Gujarat Riots: जाकिया जाफरी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आज Agnipath Scheme: एयरफोर्स के लिए अग्निवीरों का रजिस्ट्रेशन आज से शुरू, ऐसे करें आवेदनRead More » राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा 27 जून को राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपना नामा Coronavirus: भारत में 17000 से ज्यादा केस, 5 माह में सबसे ज्यादा मामलेRead More » यशवंत सिन्हा को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल का 'जेड (Z)' श्रेणी का सशस्त्र सुरक्षा कवच प्रदान किया NCP प्रमुख शरद पवार से मिलने मुंबई के लिए शिवसेना नेता संजय राउत वाई.बी. चव्हाण सेंटर पहुंचे सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी जांच के खिलाफ जाकिया जाफरी की याचिका की खारिजRead More » महाराष्ट्र सियासी संकट पर सुप्रीम कोर्ट बुधवार को करेगा सुनवाई

नासा ने सोलर कोरोना का पता लगाने के लिए सोलर एक्स-रे इमेजर किया लॉन्च

नासा ने सोलर कोरोना का पता लगाने के लिए सोलर एक्स-रे इमेजर किया लॉन्च

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 03 Aug 2021, 05:30:01 PM
NASA’ MaGIXS

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

वाशिंगटन:   नासा के वैज्ञानिकों ने सब-ऑर्बिटल उड़ान पर साउंडिंग रॉकेट के माध्यम से एक परिष्कृत एक्स-रे सोलर इमेजर को सफलतापूर्वक लॉन्च किया है। इस बारे में जानकारी जुटाने की कोशिश हो रही है कि कैसे और सूर्य का कोरोना पृथ्वी के मूल तारे की वास्तविक सतह की तुलना में इतना गर्म क्यों होता है।

अलबामा के हंट्सविले में नासा के मार्शल स्पेस ़फ्लाइट सेंटर के डेवलपर्स, मिशन को मैगिक्स कहते हैं - मार्शल ग्राजि़ंग इंसीडेंस एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर। इसे दोपहर 2.20 बजे न्यू मैक्सिको में व्हाइट सैंड्स मिसाइल रेंज से लॉन्च किया गया।

मैगिक्स मिशन ने अपने पेलोड को भेजा, जिसमें एक बड़े शक्ति वाला कैमरा, टेलीस्कोप और एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर शामिल है।

मैगिक्स के प्रमुख अन्वेषक मार्शल हेलियोफिजिसिस्ट एमी वाइनबर्गर ने कहा, कोरोना के ताप तंत्र के बारे में हमारा ज्ञान सीमित है, आंशिक रूप से क्योंकि हम अभी तक इस क्षेत्र में सौर प्लाज्मा के तापमान वितरण का विस्तृत अवलोकन और माप नहीं कर पाए हैं।

सूर्य की सतह का तापमान 10,000 डिग्री फारेनहाइट से अधिक है, लेकिन कोरोना नियमित रूप से 1.8 मिलियन डिग्री फारेनहाइट से अधिक मापता है।

एक सक्रिय सौर क्षेत्र के विभिन्न भागों में विशिष्ट तापमान वितरण को मापने के लिए मैगिक्स पहला इमेजर होगा। वह सटीक डेटा वैज्ञानिकों को इस बहस को सुलझाने में मदद करेगा कि कोरोना कैसे और कितनी बार सुपर हीट होगा है।

कोरोनल हीटिंग मैकेनिज्म पर नई रोशनी डालने से शोधकतार्ओं को संभावित सोलर फ्लेयर्स और कोरोनल मास इजेक्शन को बेहतर ढंग से समझने और यहां तक कि भविष्यवाणी करने में मदद मिल सकता है, जो दोनों कोरोनल हीटिंग में क्षेत्रीय स्पाइक्स के संबंध में सबसे अधिक बार होता हैं।

मैगिक्स साउंडिंग रॉकेट मिशन भविष्य के नासा मिशनों के लिए अधिक विस्तार से सौर फ्लेयर्स का अध्ययन करने के लिए इंस्ट्रूमेंटेशन के लिए एक परीक्षण के रूप में कार्य करता है।

नासा नियमित रूप से ऐसे संक्षिप्त, केंद्रित विज्ञान मिशनों के लिए परिज्ञापी रॉकेटों का उपयोग करता है। वाइनबर्गर ने कहा कि वे बड़े पैमाने पर उपग्रह मिशनों की तुलना में अक्सर छोटे, अधिक किफायती और डिजाइन और निर्माण के लिए तेज होता हैं।

उन्होंने कहा, वे अद्वितीय, सबऑर्बिटल विज्ञान के अवसर, नए उपकरण विकसित करने का मौका और निवेश पर तेजी से वापसी प्रदान करते हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 03 Aug 2021, 05:30:01 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.