News Nation Logo
विपक्षी सांसदों की नारेबाजी के बीच राज्यसभा आज दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित हुई भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से हराकर टेस्ट मैच श्रृंखला 1-0 से जीती टीम इंडिया ने घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीती न्यूजीलैंड पर 372 रनों से जीत रनों के लिहाज से भारत की टेस्ट मैचों में सबसे बड़ी जीत है उत्तराखंड के चमोली में देवल ब्लॉक के ब्रह्मताल ट्रेक मार्ग पर बर्फबारी हुई रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ नई दिल्ली में बैठक की बाबा साहब आंबेडकर का महापरिनिर्वाण दिवस आज. बसपा कर रही बड़ा कार्यक्रम नीट काउंसिलिंग में हो रही देरी के खिलाफ रेजिडेंट डॉक्टर्स आज ठप रखेंगे सेवा रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन आज आ रहे भारत. कई समझौतों को देंगे अंतिम रूप पंजाब के पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह आज करेंगे अमित शाह-जेपी नड्डा से मुलाकात.

एमफिल्टरआईटी ने डिजिटल विज्ञापन में धोखाधड़ी को लेकर मिथकों का किया खुलासा

एमफिल्टरआईटी ने डिजिटल विज्ञापन में धोखाधड़ी को लेकर मिथकों का किया खुलासा

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 16 Nov 2021, 05:45:02 PM
mFilterIt but

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: वैश्विक डिजिटल ब्रांड सुरक्षा और रोकथाम मंच एमफिल्टरआईटी ने मंगलवार को जागरूकता बढ़ाने और धोखाधड़ी के प्रभाव को कम करने के प्रयासों में तेजी लाने के लिए विज्ञापन धोखाधड़ी और ब्रांड सुरक्षा के आसपास के मिथकों के एक सेट का अनावरण किया।

धोखाधड़ी विरोधी जागरूकता और शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए हर साल 14 से 21 नवंबर के बीच अंतर्राष्ट्रीय धोखाधड़ी जागरूकता सप्ताह मनाया जाता है।

भारत में, डिजिटल विज्ञापन का कुल हिस्सा लगभग 30 प्रतिशत है, लेकिन इसके वैश्विक औसत 9 प्रतिशत के मुकाबले सालाना 25 प्रतिशत बढ़ने की उम्मीद है। इसका मतलब यह भी है कि विज्ञापन धोखाधड़ी के मौजूदा औसत 25-35 प्रतिशत से बढ़कर 45-55 प्रतिशत तक पहुंचने का अनुमान है क्योंकि कंपनियां अपने विज्ञापन बजट को पारंपरिक से डिजिटल में स्थानांतरित करती हैं।

एमफिल्टरआईटी ब्रांड सुरक्षा रिपोर्ट 2021 के अनुसार, विज्ञापन धोखाधड़ी के लिए सबसे बड़ी चुनौतियों में जागरूकता (42 प्रतिशत), ब्रांड उल्लंघन (23 प्रतिशत), धोखाधड़ी (12 प्रतिशत), निवेश (12 प्रतिशत) और प्लेसमेंट (11 प्रतिशत) जैसे मुद्दे शामिल थे। ऐसा अनुमान है कि 2022 तक डिजिटल विज्ञापन धोखाधड़ी से विज्ञापनदाताओं और ब्रांडों की धोखाधड़ी गतिविधियों में 44 बिलियन डॉलर का खर्च आएगा।

एमफिल्टरआईटी के संस्थापक और सीटीओ, धीरज गुप्ता ने एक बयान में कहा, विज्ञापन धोखाधड़ी से लड़ने के लिए सबसे अच्छे साधनों में से एक इस विषय पर जागरूकता है। ब्रांडों और निर्णय लेने वालों के लिए इस मुद्दे की गंभीरता के बारे में जागरूक होना और अपने वित्तीय संसाधनों के लिए जिम्मेदार होना बेहद जरूरी है।

गुप्ता ने कहा, इस डिजिटल युग में, यह एक तथ्य है कि अधिकांश धोखाधड़ी जटिल डिजिटल भूलभुलैया में की जाती है, अंतर्राष्ट्रीय धोखाधड़ी जागरूकता सप्ताह को चिह्न्ति करने के लिए, हम मिथकों का एक सेट जारी कर रहे हैं जिन्हें इस खतरे से लड़ने के लिए नष्ट करने की आवश्यकता है ताकि हम इसे एक सुरक्षित डिजिटल अर्थव्यवस्था की ओर ले जाएं।

कंपनी डिजिटल अभियान चलाने से जुड़े कुछ मिथकों पर भी प्रकाश डालती है, जिसमें यह भी शामिल है कि विज्ञापन धोखाधड़ी मौजूद नहीं है। इसका कारण यह है कि डिजिटल विज्ञापन अभियानों में, या तो निर्णय लेने वालों को यह नहीं पता होता है कि विज्ञापन धोखाधड़ी से उनका पैसा खत्म हो रहा है या धोखाधड़ी वाले ट्रैफिक को सामान्य रूप से खारिज कर दिया जाता है क्योंकि उन्हें समस्या का कोई पूर्वाभास नहीं होता है।

बहुत से लोग यह भी मानते हैं कि विज्ञापन धोखाधड़ी का औसत उनके कुल विज्ञापन खर्च का लगभग 2 प्रतिशत है। इस प्रचलित भ्रांति के विपरीत, वास्तविक धोखाधड़ी कहीं भी 15-18 प्रतिशत के बीच होती है और सहयोगी कंपनियों पर यह 22-35 प्रतिशत के बीच कहीं भी बढ़ सकती है।

ब्रांड और विज्ञापन एजेंसियों के बीच एक और आम गलत धारणा यह है कि प्रदर्शन अभियान धोखाधड़ी से मुक्त होते हैं क्योंकि वे लक्षित अभियान होते हैं। उनका मानना है कि हालांकि मीडिया अभियान विज्ञापन धोखाधड़ी के मुद्दों का सामना कर सकते हैं, प्रदर्शन अभियान दुर्भावनापूर्ण प्रकाशकों के प्रभाव से मुक्त हैं जो अमान्य ट्रैफिक प्रदान करते हैं। लेकिन वास्तव में, प्रदर्शन अभियान पूरे उद्योग में 30-35 प्रतिशत तक अमान्य ट्रैफिक को ही आकर्षित करते हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 16 Nov 2021, 05:45:02 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.