News Nation Logo

क्या तबाह हो जाएगी पृथ्वी? पृथ्वी के बेहद करीब आ रहा है ये बड़ा Black Hole

अंतरिक्ष में, ब्लैक होल सबसे जटिल चीजों में से एक हैं जिसकी गुत्थी को आज तक नहीं सुलाझाया जा सका है.

News Nation Bureau | Edited By : Vikas Kumar | Updated on: 02 Aug 2019, 09:04:55 AM
Black Hole

Black Hole

highlights

  • पृथ्वी के बेहद करीब आ रहा है 'V616 मोनोसेरोटिस' Black Hole.
  • यह ब्लैक होल हमारे सूर्य से 6.6 गुना ज्यादा भारी है.
  • Black Hole की ग्रेविटी इतनी तेज होती है कि वो किसी भी चीज को अपनी ओर खींच लेती है. 

नई दिल्ली:

अंतरिक्ष में, क्षुद्रग्रह, उल्का, धूमकेतु, ब्लैक होल और यूएफओ सहित हजारों खगोलीय चीजें पड़ी हैं जिनके बारे में हमें अभी तक बहुत कुछ नहीं पता है. यहां यह उल्लेखनीय है कि इन खगोलीय पिंडों के प्रभाव से पृथ्वी और पूरी आकाशगंगा को नुकसान पहुंच सकता है. अगर ब्लैक होल के बारे में बात की जाए तो करते हुए, यह अंतरिक्ष-समय का एक क्षेत्र है जिसमें गुरुत्वाकर्षण त्वरण इतना मजबूत होता है कि इससे कोई भी चीज यहां तक की प्रकाश और चुम्बकीय विकिरण भी नहीं बच पाते.
वो हर चीज को अपने में खींच लेता है. अंतरिक्ष में, ब्लैक होल सबसे जटिल चीजों में से एक हैं जिसकी गुत्थी को आज तक नहीं सुलाझाया जा सका है. मार्डन साइंस भी ये बताने में असमर्थ रहा है कि आखिर ऐसा क्यों होता है. इस अंतरिक्ष में सैकड़ों ऐसे ही ब्लैक होल मौजूद हैं जो कि हमारे लिए काफी खतरनाक साबित हो सकते हैं.

यह भी पढ़ें: Mission Shakti के बाद अब Space War के लिए तैयार भारत, पढ़िए पूरी Detail

अंतरिक्ष में सैकड़ों ब्लैक होल मौजूद हैं और ये सभी हमारे लिए हानिकारक हो सकते हैं. अब, यहां पर सवाल ये उठता है कि अगर इस ब्लैक होल में हमारी पृथ्वी फंस गई तो क्या होगा? क्या पृथ्वी का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा? हो सकता है कि मानव जाती पूरी तरह से विलु्प्त ही हो जाए.

Black Hole की ग्रेविटी या अपने ओर (गुरुत्वाकर्षण) खींचने की शक्ति इतनी होती है कि इसके पास से गुजरने वाली हर चीज, चाहे वो बड़े पिण्ड ही क्यों ने हो या प्रकाश ही क्यों न हो इसकी ओर खिचने और इसमें लुप्त हो जाने से नहीं बच पाते हैं.

हालाँकि, आपको चिंता करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि पृथ्वी के काफी करीब कोई ब्लैक होल नहीं हैं जो सीधे हमें प्रभावित कर सके. पृथ्वी के सबसे नज़दीकी ब्लैक होल का नाम 'V616 मोनोसेरोटिस' है. इसे A0620-00 के रूप में भी जाना जाता है. यह ब्लैक होल हमारे सूर्य से 6.6 गुना ज्यादा भारी है.
यदि हमारा ग्रह इस सुपरमैसिव ब्लैक होल के लगभग 800,000 किलोमीटर (3.7 प्रकाश सेकंड) के भीतर पहुंच जाता है तो यह अलग हो जाएगा. लेकिन ऐसा होने की संभावना नहीं है और निश्चित रूप से आपके जीवनकाल में नहीं है क्योंकि V616 मोनोक्रोटिस लगभग 3,300 प्रकाश वर्ष दूर है और यह बहुत, बहुत दूर है.

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

First Published : 02 Aug 2019, 08:51:51 AM