News Nation Logo

निजी अस्पताल की ओर से थमाए गए 1.8 करोड़ रुपये के कोविड बिल मामले में हस्तक्षेप करेंगे स्वास्थ्य मंत्री

निजी अस्पताल की ओर से थमाए गए 1.8 करोड़ रुपये के कोविड बिल मामले में हस्तक्षेप करेंगे स्वास्थ्य मंत्री

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 11 Oct 2021, 06:55:01 PM
Mandaviya to

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने सोमवार को कहा कि वह इस मामले को देखेंगे कि आखिर कैसे एक अस्पताल ने एक मरीज को 1.8 करोड़ रुपये का बिल थमा दिया।

कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी को एक लिखित जवाब में, मंडाविया ने कहा है कि वह इस मामले पर संज्ञान लेंगे।

दरअसल दक्षिण दिल्ली स्थित मैक्स अस्पताल ने हाल ही में एक कोविड-19 मरीज का इलाज करने के बाद उसे 1.8 करोड़ रुपये का बिल थमा दिया था। इस मामले के प्रकाश में आते ही कई तरह के सवाल खड़े हो गए। विपक्ष द्वारा इस मामले को प्रमुखता से उठाया गया। कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने ट्वीट करते हुए जानकारी दी कि स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने मामले पर संज्ञान लिया है। उन्होंने मांडविया की ओर से मिला एक पत्र साझा किया है।

इससे पहले, स्वास्थ्य मंत्री को लिखे एक पत्र में, तिवारी ने लिखा था, मैं आपसे आग्रह करूंगा कि आप तुरंत स्पष्टीकरण मांगें कि अस्पताल ने एक मरीज से इतनी अधिक राशि क्यों और कैसे वसूल की, चाहे मरीज कितना भी अस्वस्थ क्यों न रहा हो।

तिवारी ने स्वास्थ्य मंत्री से एक स्वतंत्र नियामक स्थापित करने के लिए संसद में एक विधेयक लाने के लिए भी कहा था।

पत्र का जवाब देते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि वह दोनों मामलों पर जल्द ही पलटवार करेंगे। यह मामला तब सामने आया है, जब मालवीय नगर के विधायक सोमनाथ भारती ने मैक्स अस्पताल, साकेत में अप्रैल के अंत में भर्ती एक व्यक्ति से कोविड के इलाज के लिए कथित तौर पर 1.8 करोड़ रुपये वसूलने का मामला उठाया है। उक्त मरीज को पिछले महीने की शुरुआत में अस्पताल से छुट्टी दी गई थी।

कांग्रेस सांसद ने सोमनाथ भारती से इस मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के हस्तक्षेप के लिए भी कहा है, जिसमें कहा गया है कि स्वास्थ्य राज्य का विषय है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री के पत्र को साझा करते हुए, कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने ट्वीट किया, मैक्स अस्पताल साकेत द्वारा एक मरीज से लिए गए 1.8 करोड़ के बिल की जांच का वादा करने वाला स्वास्थ्य मंत्री का पत्र। मैं भारती से अनुरोध करता हूं कि कृपया मुख्यमंत्री एनसीटी दिल्ली से ऐसा करने के लिए कहें, क्योंकि स्वास्थ्य राज्य का विषय है।

हालांकि, कुछ रिपोटरें के अनुसार, अस्पताल ने स्पष्ट किया कि रोगी मधुमेह, उच्च रक्तचाप से ग्रस्त था और उनके शरीर में यकृत की शिथिलता और सेप्सिस के कारण कई जटिलताएं विकसित हुईं। रोगी लगभग साढ़े चार महीने तक अस्पताल में भर्ती रहा और 6 सितंबर को उसे छुट्टी दे दी गई।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 11 Oct 2021, 06:55:01 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो