News Nation Logo
Banner

आईआईटी गुवाहाटी के शोधकर्ताओं ने मेमोरी चिप्स में महत्वपूर्ण सफलता की हासिल

आईआईटी गुवाहाटी के शोधकर्ताओं ने मेमोरी चिप्स में महत्वपूर्ण सफलता की हासिल

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 16 Aug 2021, 06:10:01 PM
IIT Guwahati

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

गुवाहाटी:   आईआईटी-गुवाहाटी के शोधकर्ताओं की एक टीम ने मेमोरी चिप्स में एक महत्वपूर्ण सफलता हासिल की है। डेटा मूल्यों में अतिरेक को रोकने और मल्टी-कोर प्रोसेसर सिस्टम में धीमी और लगातार लिखने में सुधार के मेमोरी आ*++++++++++++++++++++++++++++र्*टेक्च र में मौलिक योगदान दिया है।

सफलता मल्टी-कोर प्रोसेसर-आधारित सिस्टम में समस्याओं का समाधान करेगी, जिन्हें लगातार बढ़ते अनुप्रयोगों की डेटा मांगों के अनुरूप समान रूप से बड़ी ऑन-चिप मेमोरी की आवश्यकता होती है, यह सुनिश्चित करने के लिए ऊर्जा खपत को रोकने के लिए थर्मल डिजाइन पावर (टीडीपी) के तहत तापमान बना रहता है।

प्रोफेसर हेमांगी के कपूर, सीएसई विभाग, आईआईटी गुवाहाटी ने कहा,एप्लिकेशन डेटा एक्सेस पैटर्न समान रूप से वितरित नहीं होते हैं और इसलिए दूसरों की तुलना में कुछ मेमोरी स्थानों पर लिखने के कई आदेश होते हैं। इस तरह के भारी लिखित स्थान पहनने के लिए प्रवण हो जाते हैं और इस प्रकार त्रुटि सुधार के बिना पूर्ण मेमोरी डिवाइस के उपयोग को रोकता है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) और मशीन लनिर्ंग (एमएल) का उपयोग कई वास्तविक समय की समस्याओं को हल करने के लिए उपकरण के रूप में किया जाता है।

शोध टीम ने कहा, विशाल डेटासेट पर भारी गणना शामिल करते हैं। डेटा को सेव करने के लिए स्मृति त्वरक के करीब निर्माण प्रदर्शन के साथ-साथ ऊर्जा में भी कुशल हैं।

उनके शोध के निष्कर्ष कई प्रतिष्ठित सहकर्मी-समीक्षित पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए हैं।

कपूर ने कहा,टीम उन्हें ऑफ-चिप मुख्य मेमोरी तक विस्तारित करने पर भी काम कर रही है। भविष्य की चुनौतियां गैर-वाष्पशील मेमोरी को सुरक्षित करने के लिए उपयोग की जाने वाली एन्क्रिप्शन विधियों की उपस्थिति में आजीवन वृद्धि को संभालने और तापमान और प्रक्रिया प्रौद्योगिकी संचालित गड़बड़ी त्रुटियों को संभालने के लिए शुरू की गई हैं जब कोशिकाओं को पढ़ा या लिखा जाता है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 16 Aug 2021, 06:10:01 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.