News Nation Logo
संयुक्त किसान मोर्चा के रेल रोको आंदोलन के आह्वान पर प्रदर्शनकारी बहादुरगढ़ में रेलवे ट्रैक पर बैठे बद्रीनाथ में बारिश हुई। मौसम विभाग के मुताबिक चमोली में आज बादल छाए रहेंगे और तेज़ बारिश होगी। उत्तराखंड में बारिश का अलर्ट जारी. सीएम धामी ने की श्रद्धालुओं से अपील दिल्ली में लगातार दूसरे दिन भी बारिश का दौर जारी. जगह-जगह जलभराव लखीमपुर हिंसा के विरोध में किसानों का रेल रोको आंदोलन आज. 6 घंटे ठप करेंगे ट्रैक दिल्ली सरकार का प्रदूषण के खिलाफ अभियान आज से. ढाई हजार स्वयंसेवक होंगे शामिल डेरा सच्चा सौदा राम रहीम के खिलाफ हत्या के मामले में सजा पर फैसला आज. जिले में अलर्ट जारी मुंबई-पुणे हाईवे पर खंडाला घाट के पास भीषण हादसा, 3 की मौत 24 घंटे में कोरोना के 13,596 नए केस आए सामने
Banner
Banner

आईआईटी दिल्ली ने तैयार किया पानी की बूंदों से बिजली उत्पन्न करने वाला उपकरण

आईआईटी दिल्ली ने तैयार किया पानी की बूंदों से बिजली उत्पन्न करने वाला उपकरण

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 18 Sep 2021, 12:15:02 AM
IIT Delhi

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

दिल्ली: आईआईटी दिल्ली के शोधकर्ताओं ने एक उपकरण तैयार किया है जो पानी की बूंदों से बिजली उत्पन्न कर सकता है। बहुत सारी छोटी छोटी डिवाइसिस हैं जिनको की इस उपकरण से पावर दी जा सकती है। इससे घड़ी ट्रांसमीटर, आईओटी डिवाइसेज आदि को पावर दी जा सकती हैं।

आईआईटी दिल्ली द्वारा विकसित किए गए इस अनोखे उपकरण की एक खासियत और है। शोधकर्ताओं के मुताबिक यह उपकरण नमकीन पानी से भी बिजली उत्पन्न कर सकता है।

आईआईटी दिल्ली के मुताबिक पानी की बूंदों से बारिश की बूंदों, पानी की धाराओं और यहां तक कि समुद्र की लहरों से ट्राइबोइलेक्ट्रिक इफेक्ट और इलेक्ट्रोस्टैटिक इंडक्शन का उपयोग करके बिजली उत्पन्न कर सकता है। उत्पन्न बिजली को आगे के उपयोग के लिए बैटरी में संग्रहित किया जा सकता है।

इस विषय में अधिक जानकारी देते हुए आईआईटी दिल्ली के प्रोफेसर नीरज खरे ने कहा हमने आया कि दिल्ली में डिवाइस बनाई है इसकी खास बात यह है कि उसमें पानी की बूंदे गिरने पर बिजली पैदा की जा सकती है। इस डिवाइस का डिजाइन बहुत ही सरल है। यह ट्राइबो इलेक्ट्रिक इफ्केट पर बेस है। ट्राइबो इफ्केट जब दो अलग-अलग मटेरियल को कांटेक्ट में लाते हैं तो उस से बिजली पैदा होती है, इसमें एक नैनो कंपोजिट पॉलीमर फिल्म है। जब पानी की बूंदे इस पर गिरती है तो पानी की बूंदों में कुछ न कुछ चाजिर्ंग होती है। एक प्रक्रिया के तहत इससे बिजली उत्पन्न होती है।

आईआईटी दिल्ली ने बताया कि इस प्रोजेक्ट को बनाने में 3 वर्ष का समय लगा है।

आईआईटी दिल्ली के प्रोफेसर नीरज खरे ने कहा कि जो इसमें मिलीवाट की पावर पैदा करते हैं उससे बहुत सारी छोटी छोटी डिवाइसिस हैं जिनको की हम पावर दे सकते हैं। इनमें कई सारी डिवाइस इस शामिल है जिनको कि हम पावर दे सकते हैं जैसे घड़िया, ट्रांसमीटर, आईओटी डिवाइसेज को पावर दी जा सकती हैं। भविष्य में इस प्रकार के बहुत सारे उपकरणों में इसका उपयोग हो सकता है।

आईआईटी दिल्ली के प्रोफेसर नीरज खरे का कहना है कि यदि पानी खारा हो तो भी कोई समस्या नहीं है। उल्टा नमकीन पानी से और भी अधिक बिजली उत्पन्न की जा सकती है। इसका अर्थ यह हुआ यदि यदि समुद्री लहरें आ रही हैं तो वहां पर इस डिवाइस का उपयोग करके और भी अधिक बिजली उत्पन्न की जा सकती है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 18 Sep 2021, 12:15:02 AM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो