News Nation Logo
Banner

इस दशक में अधिक समय तक चांद पर रह सकता है इंसान : NASA

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 21 Nov 2022, 12:41:33 PM
NASA

(source : IANS) (Photo Credit: Twitter)

लंदन:  

सिर्फ स्पेसएक्स के सीईओ एलन मस्क ही नहीं, अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का भी मानना है कि इस दशक में मनुष्य चंद्रमा पर अधिक समय तक रह सकते हैं. नासा के लिए ओरियन चंद्र अंतरिक्ष यान कार्यक्रम का नेतृत्व करने वाले हॉवर्ड हू ने बीबीसी को बताया कि आर्टेमिस मिशन हमें एक स्थायी मंच और परिवहन प्रणाली के लिए सक्षम बनाता है जो हमें यह सीखने की अनुमति देता है कि गहरे अंतरिक्ष वातावरण में कैसे काम किया जाए. रविवार को सामने आई रिपोर्ट में हू के हवाले से कहा गया, हम लोगों को चांद की सतह पर भेजने जा रहे हैं और वे वहां रहने जा रहे हैं.

उन्होंने कहा, यह वास्तव में हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण होने जा रहा है कि हम अपनी पृथ्वी के अलावा दूसरी कक्षा से थोड़ा बहुत सीखें और फिर जब हम मंगल ग्रह पर जाएं तो एक बड़ा कदम उठाएं. साढ़े 25 दिवसीय आर्टेमिस मिशन में पांच दिन ओरियन चंद्रमा की ओर अपना प्रक्षेपवक्र जारी रखेगा. रविवार को बिना चालक दल के ओरियन ने पृथ्वी से 232,683 मील की यात्रा की थी और चंद्रमा से 39,501 मील की दूरी पर था, जो 371 मील प्रति घंटे की गति से चल रहा था.

हू ने कहा, यह पहला कदम है जो हम न केवल संयुक्त राज्य अमेरिका, बल्कि दुनिया के लिए लंबी अवधि के गहरे अंतरिक्ष अन्वेषण का बीड़ा उठा रहे हैं. नासा के अधिकारी ने कहा, मेरा मतलब है, हम चंद्रमा पर वापस जा रहे हैं, हम एक स्थायी कार्यक्रम की दिशा में काम कर रहे हैं और यह वह वाहन है जो लोगों को ले जाएगा जो हमें फिर से चंद्रमा पर वापस लाएगा.

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने पिछले हफ्ते अपनी अगली पीढ़ी के रॉकेट को अपने महत्वाकांक्षी, बिना चालक दल वाले आर्टेमिस आई मून मिशन के हिस्से के रूप में अंतरिक्ष में भेजा, जिसमें वर्षों की देरी और अरबों डॉलर खर्च होने के बीच दो असफल प्रयासों का सामना करना पड़ा. स्पेस लॉन्च सिस्टम (एसएलएस) रॉकेट ने फ्लोरिडा में केप कैनावेरल से उड़ान भरी और ओरियन अंतरिक्ष यान को चंद्रमा की कक्षा में भेजा.

ओरियन चंद्रमा की ओर आगे बढ़ना जारी रखेगा, जो 11 दिसंबर को पृथ्वी पर लौटने की संभावना से पहले यह कई दिनों तक चांद की परिक्रमा करेगा. नासा ने 1972 में अपोलो 17 मिशन के बाद 2025 में पहली क्रू मून लैंडिंग शुरू करने की योजना बनाई है. इसमें चंद्रमा पर चलने वाली पहली महिला होगी. आर्टेमिस गहरे अंतरिक्ष में मानव अन्वेषण के लिए एक आधार प्रदान करेगा और चंद्रमा और उससे आगे मानव अस्तित्व का विस्तार करने के लिए नासा की प्रतिबद्धता और क्षमता का प्रदर्शन करेगा.

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 21 Nov 2022, 12:41:33 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.