News Nation Logo
बाबुल सुप्रियो का संसद की सदस्यता से इस्तीफा मंजूर दिल्ली के सदर बाजार में आज आतंकी हमलों को लेकर मॉक ड्रिल की गई T20 World Cup: साउथ अफ्रीका ने वेस्टइंडीज को 8 विकेट से हराया चाहें तो गोली मरवा सकते हैं और कुछ नहीं कर सकते: लालू प्रसाद यादव के बयान पर नीतीश कुमार आर्यन खान की जमानत पर बॉम्बे हाईकोर्ट में कल फिर होगी सुनवाई बिजनेस के सिलसिले में उनसे बातचीत होती थी: हैनिक बाफना प्रभाकर ने मेरा नाम क्यों लिया मैं नहीं जानता: हैनिक बाफना भारत के पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी आर्यन खान की ओर से कर रहे हैं दलील पेश प्रभाकर को अच्छी तरह जानता हूं: हैनिक बाफना मेरे खिलाफ कोई सुबूत नहीं: हैनिक बाफना अगर सुबूत है तो प्रभाकर लाकर दिखाएं: हैनिक बाफना टीम इंडिया के मुख्य कोच पद के लिए राहुल द्रविड़ ने किया आवेदन वीवीएस लक्ष्मण के NCA में पदभार संभालने की संभावना आर्यन खान के वकील ने HC में दाखिल किया हलफनामा HC में आर्यन खान की जमानत याचिका पर सुनवाई शुरू पश्चिम बंगाल में तंबाकू और निकोटिन वाले गुटखा-पान मसाला एक साल के लिए बैन कोवैक्सीन को मिल सकती है अंतरराष्ट्रीय मंजूरी, डब्ल्यूएचओ की बैठक आज उमर मलिक के बेटे पर यूपी सरकार कसेगी शिकंजा, एडमिशन के नाम पर रेस का आरोप पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह कल प्रेसवार्ता कर नई पार्टी का ऐलान कर सकते हैं अरविंद केजरीवाल का ऐलान - यूपी में सरकार बनी तो मुफ्त में अयोध्या की तीर्थ यात्रा कराएंगे

साक्ष्य से पता चलता है कि कोविड वैक्स कैंसर रोगियों के लिए सुरक्षित और प्रभावी है

साक्ष्य से पता चलता है कि कोविड वैक्स कैंसर रोगियों के लिए सुरक्षित और प्रभावी है

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 21 Sep 2021, 04:15:01 PM
Evidence how

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

लंदन: यूरोपियन सोसाइटी फॉर मेडिकल ऑन्कोलॉजी के वार्षिक सम्मेलन में प्रस्तुत अध्ययनों के अनुसार, कोविड -19 के खिलाफ टीकाकरण कैंसर के रोगियों में प्रभावी है, जिनकी प्रतिरक्षा प्रणाली विभिन्न कैंसर विरोधी दवाओं से कमजोर हो जाती है।

निष्कर्षों से पता चला कि कैंसर से पीड़ित व्यक्तियों में सामान्य आबादी की तुलना में किसी भी अधिक दुष्प्रभाव का अनुभव किए बिना टीकाकरण के लिए एक उपयुक्त, सुरक्षात्मक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया होती है। अप्रत्यक्ष साक्ष्य यह भी बताते हैं कि एक तीसरा बूस्टर शॉट इस रोगी आबादी के बीच सुरक्षा के स्तर को और बढ़ा सकता है।

वीओआईसीई नाम के एक अध्ययन से पता चला है कि कैंसर के मरीज जिन्होंने कोविड जैब लिया था, उन्हें मौजूदा ऑन्कोलॉजी उपचार की परवाह किए बिना सुरक्षित रखा गया था।

इस अध्ययन ने नीदरलैंड के कई अस्पतालों के 791 रोगियों को चार अलग-अलग अध्ययन समूहों में नामांकित किया, जिनमें कैंसर के बिना व्यक्ति, इम्यूनोथेरेपी के साथ इलाज किए गए कैंसर के रोगी, कीमोथेरेपी के साथ इलाज किए गए रोगियों और अंत में एक कीमो-इम्यूनोथेरेपी संयोजन के साथ इलाज किए गए रोगियों को मॉडर्न के दो के प्रति उनकी प्रतिक्रियाओं को मापने के लिए डोज एमआरएनए-1273 वैक्सीन में शामिल किया गया था।

इटली के मिलान में यूरोपियन इंस्टीट्यूट ऑफ ऑन्कोलॉजी में फेफड़े के कैंसर विशेषज्ञ डॉ एंटोनियो पासारो के अनुसार, ये परिणाम कैंसर के बिना व्यक्तियों के समूह के लगभग सभी (99.6 प्रतिशत) में देखी गई एंटीबॉडी प्रतिक्रियाओं के साथ अनुकूल रूप से तुलना करते हैं, जो अध्ययन में शामिल नहीं हैं।

उन्होंने कहा कि परीक्षण आबादी में देखे गए टीके की प्रभावकारिता की उच्च दर, कैंसर विरोधी उपचार के प्रकार की परवाह किए बिना, रोगियों और उनके डॉक्टरों के लिए एक मजबूत और आश्वस्त करने वाला संदेश है।

इसी तरह के परिणाम इजराइल में कैंसर के 232 रोगियों और 261 नियंत्रण विषयों के बीच टोजि़नामेरन (फाइजर-बायोएनटेक) के प्रभावों पर किए गए एक अन्य अध्ययन में पाए गए। कैंसर से पीड़ित एक तिहाई से भी कम (29 प्रतिशत) ने पहली खुराक प्राप्त करने के बाद एंटीबॉडी विकसित की, जबकि नियंत्रण समूह में 84 प्रतिशत की तुलना में, दूसरी खुराक के प्रशासन के बाद यह अनुपात बढ़कर 86 प्रतिशत हो गया।

उपरोक्त दोनों अध्ययनों ने वायरस के खिलाफ पर्याप्त सुरक्षात्मक एंटीबॉडी विकसित करने के लिए कैंसर के रोगियों के लिए कोविड वैक्स का दूसरा शॉट लेने की आवश्यकता पर भी जोर दिया।

न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित एक अध्ययन से पता चला है कि 60 वर्ष या उससे अधिक उम्र के लोगों पर एक बूस्टर शॉट, उनके टीकाकरण चक्र को पूरा करने के पांच महीने बाद, कोविड -19 और गंभीर बीमारी की घटनाओं को कम करता है।

डॉ लुइस कैस्टेलो ने कहा कि ये निष्कर्ष कैंसर के रोगियों को उनकी सुरक्षा में सुधार करने के लिए संभावित रूप से तीसरी बूस्टर खुराक सहित पूरे चक्र की पेशकश के सिद्धांत को अतिरिक्त समर्थन देते हैं, क्योंकि इससे पता चलता है कि उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली अतिरिक्त उत्तेजना का जवाब देगी। ब्रैंको, मेडिकल ऑन्कोलॉजिस्ट, ईएसएमओ साइंटिफिक एंड मेडिकल डिवीजन, जो अध्ययन का हिस्सा नहीं थे।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 21 Sep 2021, 04:15:01 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.