News Nation Logo
Banner
Banner

कोविड के बाद के समय में बुजुर्ग अधिक अकेलेपन और अवसाद के हुए शिकार

कोविड के बाद के समय में बुजुर्ग अधिक अकेलेपन और अवसाद के हुए शिकार

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 30 Sep 2021, 06:45:01 PM
Elderly more

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

लखनऊ: कोविड के बाद के दौर में बुजुर्ग तेजी से कम होते याददाश्त के साथ-साथ अकेलेपन और अवसाद से पीड़ित हो रहे हैं।

किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में जेरियाट्रिक मेडिसिन के एचओडी कौसर उस्मान के अनुसार, एक साथी की हानि, लंबे समय तक कोविड के बाद की परेशानी जैसे कमजोर चेस्ट और स्मृति हानि कुछ प्रमुख कारक हैं।

उस्मान ने कहा, कई बुजुर्ग मरीज ओपीडी में आते हैं। कुछ के पास घर पर कोई नहीं है, क्योंकि उनके बच्चे दूसरे शहरों में रहते हैं। बुजुर्गों के लिए अकेलापन सबसे बड़ा जोखिम है।

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े कहते हैं कि लखनऊ में कुल 2.38 लाख मामलों में 33 फीसदी (79,099) 50 साल से अधिक उम्र के लोग थे।

कुल मिलाकर, 50 वर्ष की आयु के बीच 42,649 लोगों और 60 वर्ष से ऊपर के 36,450 लोगों ने कोविड के लिए सकारात्मक परीक्षण किया।

1 जनवरी, 2020 से, 50 से 60 वर्ष की आयु के 723 और 60 वर्ष से अधिक आयु के 1,378 लोगों की कोविड के लिए सकारात्मक परीक्षण के बाद मृत्यु हो गई।

डॉक्टर ने कहा कि उम्र से संबंधित मुद्दों के अलावा, कोविड के बाद के युग में बुजुर्ग लोगों को बाहरी दुनिया में दुर्गमता और कुछ मामलों में कमजोर फेफड़े के कारण अवसाद और साथी के छोड़ जाने का दर्द का सामना करना पड़ा है।

डॉक्टरों ने कहा कि बच्चों या पड़ोसियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि बुजुर्ग अकेले न रहें।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 30 Sep 2021, 06:45:01 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो