News Nation Logo

BREAKING

Banner

मंगल पर भी आते हैं भूकंप के झटके, Insight Lander ने किया खुलासा

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) के इनसाइट लैंडर ने हाल में ही मंगल पर दो बड़े भूकंपीय झटकों का पता लगाया है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 04 Apr 2021, 02:54:34 PM
Insight Lander

तीन साल में आए हैं मंगल पर 500 से अधिक भूकंप के झटके. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • इनसाइट लैंडर ने मंगल पर दो बड़े भूकंपीय झटकों का पता लगाया
  • रिक्टर स्केल पर इन झटकों की तीव्रता 3.3 और 3.1 मापी गई
  • तीन साल में मंगल पर कुल 500 से ज्यादा भूकंप के झटके

नई दिल्ली:

धरती और चंद्रमा की तरह मंगल (Mars) ग्रह पर भी भूकंप आते रहते हैं. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) के इनसाइट लैंडर ने हाल में ही मंगल पर दो बड़े भूकंपीय झटकों का पता लगाया है. रिक्टर स्केल पर इन झटकों की तीव्रता 3.3 और 3.1 मापी गई है. वैज्ञानिकों ने इसे मार्कक्वेक का नाम दिया है. उन्होंने बताया है कि इनसाइट लैंडर (Insight Lander) ने मंगल पर कम के कम 500 भूकंपों को महसूस किया है, लेकिन इनमें से दो का डेटा लिया जा सका है. वैज्ञानिकों का कहना है कि पृथ्वी या चंद्रमा पर भूकंप के विपरीत मार्सक्वेक न तो ग्रह के माध्यम से सीधे स्रोत से यात्रा करते हैं, न ही तितर-बितर होते हैं, बल्कि इन दोनों श्रेणियों के बीच में बने रहते हैं. 5 मई 2018 को लांच किए गए इनसाइड लैंडर के जरिए नासा को इस साल मार्च में मंगल पर आए कई भूकंपों का पता चला है. इससे जिससे नासा को अपनी भू-आकृति और भूकंपीय गतिविधि का अध्ययन करने के लिए नए डाटा भी मिले हैं.

मंगल पर सक्रिय हैं कई भूकंप जोन
मंगल पर भूकंप के इन डाटा से वैज्ञानिकों के उस अवधारणा को भी बल मिला है जिसे सेर्बस फोसाए के नाम से जाना जाता है. इसके अनुसार, मंगल के सतह पर ज्वालामुखियों के विस्फोट से जो आकृतियां बनी हैं वे सक्रिय भूकंपीय क्षेत्र भी हैं. बताया जा रहा है कि इनसाइट लैंडर ने अपने तीन साल की गतिविधि के दौरान मंगल पर कुल 500 से ज्यादा भूकंप के झटकों को रिकॉर्ड किया है. इनसाइट लैंडर ने 7 मार्च को 3.3 रिक्टर स्केल और 18 मार्च को 3.1 रिक्टर स्केल के दो भूकंप के झटकों को रिकॉर्ड किया. आमतौर पर मंगल ग्रह पर इस तरह के स्पष्ट भूकंपीय आंकड़ों को पकड़ना आसान नहीं है. इस लाल ग्रह पर अधिकतर समय तेज रफ्तार से हवाएं चलती रहती हैं, जिसके कारण कई बार भूकंप के डाटा उड़ जाते हैं. नासा को आखिरी बार दो साल पहले मंगल के उत्तरी ध्रुव पर भूकंपीय गतिविधि की स्पष्ट जानकारी मिली थी.

यह भी पढ़ेंः कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की रफ्तार तीन गुनी, अप्रैल-मई हो सकता है भयावह

मंगल के बारे में हो सकता है बड़ा खुलासा
इसके तीन साल बाद नासा के इनसाइट लैंडर को दो भूकंपीय संकेतों पर स्पष्ट डेटा रिकॉर्ड करने में सफलता मिली है. इंस्टीट्यूट डे फिजिक डु ग्लोब डे पेरिस के एक शोधकर्ता डॉ ताइची कवामुरा ने लैंडर के जरिए दर्ज किए गए बड़े मार्सक्वेक की एक और विशिष्ट विशेषता को इंगित किया. उन्होंने बताया कि वे उन भूकंपों से मिलते-जुलते थे जो ग्रह की सतह के माध्यम से सीधे स्रोत से यात्रा करते हैं.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 04 Apr 2021, 02:50:52 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो