News Nation Logo
Banner
Banner

कोविड संक्रमण से बढ़ता है प्री-एक्लेमप्सिया का खतरा-अध्ययन

कोविड संक्रमण से बढ़ता है प्री-एक्लेमप्सिया का खतरा-अध्ययन

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 23 Sep 2021, 12:25:01 PM
Covid-19 infection

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

न्यूयॉर्क: एक नए अध्ययन के अनुसार, जो महिलाएं गर्भावस्था के दौरान कोविड संकमित होती हैं, उनमें प्री-एक्लेमप्सिया विकसित होने का काफी अधिक जोखिम होता है। यह बीमारी दुनिया भर में मातृ और शिशु मृत्यु का प्रमुख कारण है।

प्री-एक्लेमप्सिया गर्भावस्था के 20वें सप्ताह के बाद रक्तचाप में अचानक वृद्धि है।

अमेरिकन जर्नल ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी में प्रकाशित अध्ययन से पता चला है कि गर्भावस्था के दौरान सॉर्स कोव 2 संक्रमण वाली महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान संक्रमण के बिना प्रीक्लेम्पसिया विकसित होने की संभावना 62 प्रतिशत अधिक होती है।

वेन स्टेट यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन में आणविक प्रसूति और आनुवंशिकी के प्रोफेसर रॉबटरे रोमेरो ने कहा कि यह जुड़ाव सभी पूर्वनिर्धारित उपसमूहों में उल्लेखनीय रूप से सुसंगत था। इसके अलावा, गर्भावस्था के दौरान सॉर्स कोव 2 संक्रमण गंभीर विशेषताओं, एक्लम्पसिया और एचईएलएलपी सिंड्रोम के साथ प्री-एक्लेमप्सिया की बाधाओं में उल्लेखनीय वृद्धि के साथ जुड़ा है।

एचईएलएलपी सिंड्रोम गंभीर प्री-एक्लेमप्सिया का एक रूप है जिसमें हेमोलिसिस (लाल रक्त कोशिकाओं का टूटना), ऊंचा लिवर एंजाइम और कम प्लेटलेट काउंट शामिल हैं।

टीम ने पिछले 28 अध्ययनों की समीक्षा के बाद अपने निष्कर्ष प्रकाशित किए, जिसमें 790,954 गर्भवती महिलाएं शामिल थीं, जिनमें 15,524 कोविड -19 संक्रमण का निदान किया गया था।

रोमेरो ने कहा कि ऐसेम्प्टोमैटिक और रोगसूचक दोनों तरह के संक्रमण ने प्री-एक्लेमप्सिया के खतरे को काफी बढ़ा दिया है।

फिर भी, प्री-एक्लेमप्सिया विकसित होने की संभावना रोगसूचक बीमारी वाले रोगियों में स्पशरेन्मुख बीमारी वाले लोगों की तुलना में अधिक है।

उच्च रक्तचाप के अलावा प्री-एक्लेमप्सिया चेतावनी के संकेतों में सिरदर्द, चेहरे और हाथों में सूजन, धुंधली ²ष्टि, सीने में दर्द और सांस लेने में तकलीफ शामिल हैं।

प्री-एक्लेमप्सिया फाउंडेशन के अनुमानों के अनुसार, यह स्थिति हर साल 76, 000 मातृ मृत्यु और 500,000 से अधिक शिशु मृत्यु के लिए जिम्मेदार है।

शोधकतार्ओं ने कहा कि स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों को एसोसिएशन के बारे में पता होना चाहिए और प्री-एक्लेमप्सिया का जल्द पता लगाने के लिए संक्रमित गर्भवती महिलाओं की बारीकी से निगरानी करनी चाहिए।

अमेरिकन जर्नल ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी-मातृ-भ्रूण चिकित्सा में प्रकाशित एक अलग अध्ययन से पता चला है कि गर्भावस्था के दौरान एमआरएनए कोविड -19 वैक्सीन प्राप्त करने वाली महिलाएं अपने बच्चों को उच्च स्तर के एंटीबॉडी पास करती हैं।

36 नवजात शिशुओं, जिनकी माताओं को गर्भावस्था के दौरान फाइजर-बायोएनटेक और मॉडर्न कोविड -19 वैक्सीन प्राप्त हुई थी, उसके अध्ययन से पता चला कि 100 प्रतिशत शिशुओं में जन्म के समय सुरक्षात्मक एंटीबॉडी थे।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 23 Sep 2021, 12:25:01 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.