News Nation Logo
Banner

नया कोविड स्ट्रेन बी.1.1.1.529 डेल्टा से भी अधिक घातक क्यों है?

नया कोविड स्ट्रेन बी.1.1.1.529 डेल्टा से भी अधिक घातक क्यों है?

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 26 Nov 2021, 07:30:01 PM
coronaviru

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   कोविड-19 महामारी और 18-20 महीनों के लॉकडाउन के बाद दुनिया फिर से खुल गई है, लेकिन दक्षिण अफ्रीका में पाए गए कोरोना वायरस के एक नए वेरिएंट - बी.1.1.1.529 ने एक बार फिर से चिंताएं बढ़ा दी है। इस नए वेरिएंट ने वैज्ञानिक समुदाय को और विश्वभर में लोगों को फिर से चिंतित कर दिया है, क्योंकि जानकारों को लगता है कि यह डेल्टा वेरिएंट से ज्यादा तेज रफ्तार से फैलता है और यह वैक्सीन को चकमा दे सकता है। यानी इस पर वैक्सीन बेअसर है।

दक्षिण अफ्रीका में इस वेरिएंट के 100 से अधिक मामलों का पता चला है, जहां नया स्ट्रेन धीरे-धीरे तेजी से फैलता जा रहा है।

इस सप्ताह पहली बार इस वेरिएंट की पहचान दक्षिण अफ्रीका में हुई। यह स्ट्रेन बोत्सवाना सहित आसपास के देशों में फैल गया है। यहां पूरी तरह से वैक्सीनेटेड लोग भी इससे संक्रमित हो गए हैं। बोत्सवाना में चार और दक्षिण अफ्रीका में 100 से अधिक मामलों को इस नए वायरस से जोड़कर देखा गया है। कोरोना के नए वेरिएंट का नाम बी.1.1.529 है जिसे बोत्सवाना वेरिएंट भी कहा जा रहा है।

यहां पांच चीजें हैं जो आपको इस घातक सुपर कोविड संस्करण के बारे में जाननी चाहिए, जिसने यूके, इजराइल, इटली और सिंगापुर सहित कई देशों को दक्षिण अफ्रीका और इस क्षेत्र के अन्य देशों से यात्रा को प्रतिबंधित करने के लिए मजबूर किया है।

1. दक्षिण अफ्रीका के स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार, बी.1.1.1.529 वेरिएंट में वैज्ञानिकों की अपेक्षा कई अधिक उत्परिवर्तन हैं, विशेष रूप से एक गंभीर तीसरी लहर के बाद, जो डेल्टा वेरिएंट द्वारा संचालित थी। कई उत्परिवर्तन इम्यून इवेसन और ट्रांसमिसिबिलिटी के लिए चिंता का विषय हैं।

2. बी.1.1.1.529 अपने स्पाइक प्रोटीन में उच्च संख्या में उत्परिवर्तन करता है, जो मानव शरीर में कोशिकाओं में वायरस के प्रवेश में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। बी.1.1.1.529 वैरिएंट में कुल मिलाकर 50 म्यूटेशन हैं, जिसमें अकेले स्पाइक प्रोटीन पर 30 से अधिक म्यूटेशन शामिल हैं जो कि अधिकांश वर्तमान कोविड टीकों का लक्ष्य है।

3. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि नए वेरिएंट के प्रभाव को समझने में कुछ सप्ताह लगेंगे। वैज्ञानिकों ने कहा है कि यह अब तक का सबसे भारी उत्परिवर्तित वेरिएंट है, जिसका अर्थ है कि टीके, जो चीन में वुहान से मूल तनाव का उपयोग करके डिजाइन किए गए थे, हो सकता है कि वे उतने प्रभावी न हों। डब्ल्यूएचओ ने बी.1.1.529 पर चर्चा करने और यह तय करने के लिए एक बैठक बुलाई है कि क्या इसे आधिकारिक तौर पर चिंता का एक प्रकार नामित किया जाएगा।

4. इस सप्ताह पहली बार दक्षिण अफ्रीका में पहचाना गया, यह स्ट्रेन बोत्सवाना सहित आसपास के देशों में फैल गया है। इजराइल ने मलावी से लौटे एक व्यक्ति में बड़ी संख्या में उत्परिवर्तन के साथ एक कोविड-19 वेरिएंट के मामले की पहचान की है। हांगकांग में दो मामलों का पता चला है। भारत ने दक्षिण अफ्रीका, बोत्सवाना और हांगकांग के यात्रियों की कठोर जांच का आहवान किया है।

5. अभी भी वैरिएंट की उत्पत्ति के बारे में अटकलें चल रही हैं। लंदन स्थित यूसीएल जेनेटिक्स इंस्टीट्यूट के निदेशक फ्रेंकोइस बेलौक्स के अनुसार, नया स्ट्रेन एक प्रतिरक्षा-समझौता व्यक्ति के पुराने संक्रमण के दौरान संभवत: एक अनुपचारित एचआईवी/एड्स रोगी में विकसित होने की संभावना है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 26 Nov 2021, 07:30:01 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.