News Nation Logo
Breaking
पहले बड़े मंगल के मौके पर लखनऊ में बजरंगबली के मंदिरों पर दर्शनार्थियों की भीड़ मैरिटल रेप का मामला SC पहुंचा, याचिकाकर्ता खुशबू सैफी ने दिल्ली HC के फैसले को SC में चुनौती दी मुंबई : कार्तिक चिदंबरम और उनसे जुडे ठिकानों पर सीबीआई की छापेमारी दिल्ली : कुतुबमीनार के कुव्वुतुल इस्लाम मस्जिद मामले की याचिका पर साकेत कोर्ट में सुनवाई टली मथुरा जिला अदालत में एक और याचिका, शाही ईदगाह मस्जिद को सील करने की मांग दाऊद के करीबी और 1993 मुंबई धमाकों के वॉन्टेड आरोपियों को गुजरात ATS ने पकड़ा हरिद्वार हेट स्पीच मामला : जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी उर्फ़ वसिम रिज़वी को 3 महीने की अंतरिम जमानत जम्मू : म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन में गैर कानूनी लाउडस्पीकर बैन के प्रस्ताव के पारित होने पर हंगामा चिंतन शिविर के बाद हरियाणा कांग्रेस की कोर टीम आज शाम राहुल गांधी से करेगी मुलाकात वाराणसी कोर्ट में आज ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश नही होगी, तीन दिन का और समय मांगा जाएगा राजस्थान : पुलिस कांस्टेबल भर्ती में 14 मई की द्वितीय पारी की परीक्षा दोबारा ली जाएगी जम्मू कश्मीर : राजौरी इलाके के कई वन क्षेत्रों में भीषण आग, बुझाने में जुटे फायर टेंडर्स
Banner

कोविन ऐप में मानवीय त्रुटि को तकनीकी गड़बड़ी कहना निराशाजनक: स्वास्थ्य मंत्रालय

कोविन ऐप में मानवीय त्रुटि को तकनीकी गड़बड़ी कहना निराशाजनक: स्वास्थ्य मंत्रालय

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 09 May 2022, 11:10:01 PM
Calling manual

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नयी दिल्ली:   केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि कोविन ऐप जैसी जनोपयोगी डिजिटल व्यवस्था को दिन-रात जनता की सेवा में बनाये रखने वाली टीम की क्षमता को बदनाम करने के लिये एक मानवीय त्रुटि को तकनीकी गड़बड़ी के रूप में वर्णित करना निराशाजनक है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविन ऐप में तकनीकी गड़बड़ी के संदर्भ में मीडिया में आई रिपोर्टों को खारिज करते हुये कहा कि कोविन एक बहुमुखी प्लेटफार्म है जिसने रिकॉर्ड गति से देश की पूरी आबादी के लिये अपना विस्तार किया है।

मंत्रालय ने कहा कि मीडिया की कुछ खबरों में यह आरोप लगाया गया है कि कोविन में तकनीकी गड़बड़ियों की वजह से पुणे जिले में 2.5 लाख लाभार्थियों को कोविड के टीके की पहली खुराक लेने पर दो प्रमाण - पत्र जारी किये गये हैं।

मंत्रालय ने कहा कि कोविन ने देश के कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम के डिजिटल आधारस्तंभ के रूप में सफलतापूर्वक कार्य किया है। इसमें समस्या बतायें की सुविधा के साथ एक मजबूत शिकायत निवारण प्रणाली भी उपलब्ध है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि यह प्लेटफार्म बेहद सरल और उपयोग करने में आसान है। इस प्लेटफार्म पर पंजीकरण के लिये लाभार्थी को तीन विकल्प - वॉक-इन (ऑफलाइन), ऑनलाइन पोर्टल और हेल्पलाइन एवं सीएससी (सामान्य सेवा केंद्र) के माध्यम से सहायता - प्रदान किये जाते हैं।

एक व्यक्ति को पंजीकरण के लिए सिर्फ अपना मोबाइल नंबर देने के साथ टीकाकरण के लिये अपॉइंटमेंट निर्धारित करने या टीकाकरण केन्द्र पर पहुंचने के बाद टीका लेने के लिये नाम, आयु (जन्म का वर्ष) और लिंग संबंधी न्यूनतम जानकारी मुहैया कराने की जरूरत होती है। पहचान संबंधी प्रमाण के तौर पर नौ फोटोयुक्त पहचान पत्रों में से किसी एक को चुनने का विकल्प दिया गया है।

मंत्रालय ने कहा कि हालांकि, यह ध्यान रखा जाना चाहिये एक लाभार्थी को टीकाकरण की पहली खुराक के समय उपयोग किये गये मोबाइल नंबर के साथ ही उसी टीके की दूसरी खुराक निर्धारित करने या लेने की जरूरत होती है।

एक ही लाभार्थी को दी गई पहली और दूसरी खुराक के विवरण को दर्ज करने की यही एकमात्र विधि है। यदि कोई लाभार्थी दूसरी खुराक के लिये एक अलग मोबाइल नंबर का उपयोग करता है और टीकाकरण का समय निर्धारित करता है, तो यह स्वत: ही उस लाभार्थी के लिये पहली खुराक के रूप में दर्ज किया जायेगा।

इसके अलावा, दो अलग-अलग मोबाइल नंबरों पर एक ही पहचान प्रमाण का उपयोग करने की अनुमति नहीं है।

यह धारणा बेमानी है कि इस प्रणाली को दो अलग-अलग मोबाइल नंबरों और फोटो पहचान पत्रों के साथ पंजीकृत किसी लाभार्थी के दो प्रथम खुराक के प्रमाणपत्रों को अवश्य स्वीकृत करना चाहिये।

मंत्रालय ने कहा कि एक अरब से अधिक आबादी वाले इस देश में एक ही नाम, आयु और लिंग के सैकड़ों-हजारों व्यक्ति हो सकते हैं। यदि ऐसी सेवा प्रदान की जाती तो असमंजस की स्थिति हो जाती।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि इसी कारण डाटा-एंट्री से संबंधित मानवीय त्रुटि को तकनीकी गड़बड़ी कहना एक निराधार तर्क है।

ऐसी स्थिति हो सकती है जिसमें किसी लाभार्थी को अपने पति या माता-पिता के साथ दूसरे व्यक्ति के मोबाइल नंबर और उनके ड्राइविंग लाइसेंस के तहत टीकाकरण की पहली खुराक मिल गई हो।

उसी लाभार्थी ने बाद में अपने पैन कार्ड के साथ अपने मोबाइल नंबर के तहत व्यक्तिगत रूप से अपनी दूसरी खुराक ली हो। इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि उस लाभार्थी के पास प्रथम खुराक के दो अलग-अलग प्रमाण पत्र होंगे, क्योंकि यह प्रणाली तक उसे दो अलग-अलग व्यक्ति के रूप में पहचानेगी।

कोविन प्रणाली ऐसी संभावनाओं से अनजान नहीं है और उसमें शिकायत निवारण की एक मजबूत व्यवस्था उपलब्ध है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 09 May 2022, 11:10:01 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.