News Nation Logo
भारत का लगातार तीसरा झटका, सूर्य कुमार यादव भी आउट प्रकाश झा की अपकमिंग मूवी आश्रम-3 की शूटिंग के दौरान बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने तोड़फोड़ भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 13 ओवर में 4 विकेट खोकर 87 रन बनाए T20: पाकिस्तान के खिलाफ भारत के 100 रन पूरे पीएम मोदी ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से फोन पर बात की पीएम ने सीएम धामी से राहत बचाव कार्यों का जायजा लिया अमित शाह ने BSF के जवानों से मुलाकात कर उनका हौसला बढ़ाया ICC T20 World Cup: विराट कोहली ने दिखाई बल्लेबाजी की क्लास, 18 गेंदों पर ठोके नाबाद 20 रन ICC T20 World Cup: 4 ओवर में 2 विकेट के नुकसान पर भारत ने बनाए 21 रन रोहित बिना खाता खोले आउट प्रभाकार कोर्ट में जवाब दें, सोशल मीडिया पर नहीं: एनसीबी प्रभाकर का एफिडेविट एनसीबी के डीजी को भेजा गया: एनसीबी आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव पहुंचे पटना, बेटों ने किया स्वागत जम्मू-कश्मीर: अमित शाह ने मकवाल में स्थानीय निवासियों के साथ बातचीत की 70 साल तीन परिवार वालों ने जम्मू-कश्मीर पर राज किया, आपने क्या दिया हिसाब दो: गृहमंत्री अमित शाह

लंबे कोविड सिंड्रोम के कारण बनता है रक्त का थक्का: अध्ययन

लंबे कोविड सिंड्रोम के कारण बनता है रक्त का थक्का: अध्ययन

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 17 Aug 2021, 05:15:01 PM
Blood clotting

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

लंदन: एक शोध में पाया गया है कि लॉन्ग कोविड सिंड्रोम वाले मरीजों में रक्त के थक्के जमने का इलाज उनके लक्षणों को पता लगाने मदद कर सकता हैं, जैसे कि कम शारीरिक फिटनेस और थकान।

गंभीर तीव्र कोविड -19 के रोगियों में खतरनाक थक्के देखे गए हैं, लॉन्ग कोविड सिंड्रोम के बारे में बहुत कम जानकारी है, जहां लक्षण प्रारंभिक संक्रमण के हल होने के बाद हफ्तों से लेकर महीनों तक रहते हैं। इससे दुनिया भर में लाखों लोग प्रभावित हो सकते हैं।

आयरलैंड में आरसीएसआई यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिसिन एंड हेल्थ साइंसेज के शोधकतार्ओं ने लॉन्ग कोविड सिंड्रोम के लक्षणों वाले 50 रोगियों की जांच की ताकि यह बेहतर ढंग से समझा जा सके कि रक्त का थक्का क्यों बनता है।

उन्होंने पाया कि स्वस्थ नियंत्रण की तुलना में लॉन्ग कोविड सिंड्रोम वाले रोगियों के रक्त में क्लॉटिंग का स्तर काफी बढ़ा हुआ है। ये क्लॉटिंग मार्कर उन रोगियों में अधिक थे जिन्हें अपने प्रारंभिक कोविड -19 संक्रमण के साथ अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता थी, लेकिन उन्होंने यह भी पाया कि जो लोग घर पर अपनी बीमारी का प्रबंधन करने में सक्षम थे, उनमें भी लगातार उच्च थक्के पाए गए थे।

जर्नल ऑफ थ्रोम्बोसिस एंड हेमोस्टेसिस में प्रकाशित अध्ययन में, टीम ने देखा कि उच्च थक्के का सीधा संबंध लॉन्ग कोविड सिंड्रोम के अन्य लक्षणों से होता है, जैसे कि कम शारीरिक फिटनेस और थकान। भले ही सूजन के निशान सभी सामान्य स्तर पर लौट आए थे, लेकिन बढ़ी हुई थक्के की क्षमता अभी भी लॉन्ग कोविड रोगियों में मौजूद थी।

आरसीएसआई स्कूल ऑफ फामेर्सी एंड बायोमोलेक्यूलर साइंसेज में आयरिश सेंटर फॉर वैस्कुलर बायोलॉजी में डॉक्टरेट की छात्रा, प्रमुख लेखक डॉ हेलेन फोगार्टी ने कहा कि चूंकि क्लॉटिंग मार्कर ऊंचे हो गए थे, जबकि सूजन के निशान सामान्य हो गए थे, हमारे परिणाम बताते हैं कि क्लॉटिंग सिस्टम लॉन्ग कोविड सिंड्रोम के मूल कारण में शामिल हो सकता है।

डेली मेल ने बताया कि एक अलग अध्ययन में, यूके में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय की एक टीम ने पाया कि साइटोकिन्स नामक छोटे प्रोटीन अणुओं का लॉन्ग कोविड की स्थिति से संबंध है।

साइटोकिन्स, जो संक्रमण के जवाब में शरीर द्वारा निर्मित होते हैं, अक्सर संक्रमण के बाद महीनों तक किसी व्यक्ति के शरीर में पाए जाते हैं।

उन्होंने एक सरल नया रक्त परीक्षण विकसित किया जो यह निर्धारित कर सकता है कि कोविड -19 बचे लोगों को दीर्घकालिक लक्षणों का अनुभव होगा।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 17 Aug 2021, 05:15:01 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.