News Nation Logo

गगनयान के पहले मानवरहित मिशन को लेकर आई बड़ी खबर, जानिए क्या है मामला

ISRO के अध्यक्ष और अंतरिक्ष विभाग के सचिव के सिवन ने बताया कि कोरोना के प्रसार और देश भर में लॉकडाउन के कारण, विक्रेता कम क्षमता पर काम कर रहे हैं या बंद हो गए हैं जिससे बदले में घटकों की आपूर्ति प्रभावित हुई है.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 02 Jul 2021, 09:44:54 AM
ISRO-Indian Space Agency-Gaganyaan

ISRO-Indian Space Agency-Gaganyaan (Photo Credit: IANS )

highlights

  • पहले मानव रेटेड जीएसएलवी-एमके थ्री दो परीक्षण उड़ानों में से पहली, 2021 के अंत तक उड़ान भरने के लिए निर्धारित की गई थी
  • उड़ान के परिणाम लेते हुए एक और मानव रहित रॉकेट जाएगा जबकि तीसरा रॉकेट भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को ले जाएगा

नई दिल्ली :  

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी (Indian Space Agency) के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल-एमके थ्री(जीएसएलवी एमके थ्री) की पहली परीक्षण उड़ान, जो भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को बाद में अंतरिक्ष में ले जाएगी, इस साल कोविड महामारी और लॉकडाउन के कारण संपन्न नहीं होगी. उन्होंने यह भी कहा कि रॉकेट के लिए अधिकांश डिजाइन और प्रलेखन गतिविधियां पूरी कर ली गई हैं. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (Indian Space Research Organisation-ISRO) के अध्यक्ष और अंतरिक्ष विभाग के सचिव के सिवन ने बताया कि कोरोनावायरस संक्रमण के प्रसार और देश भर में लॉकडाउन के कारण, विक्रेता कम क्षमता पर काम कर रहे हैं या बंद हो गए हैं जिससे बदले में घटकों की आपूर्ति प्रभावित हुई है. यहां तक कि हमारे अधिकारी भी लॉकडाउन के कारण घर से 
काम कर रहे हैं.

कोविड 19 के प्रसार और लॉकडाउन ने संचालन कम किया
ब्राजील के उपग्रह अमेजोनिया -1 और 18 अन्य उपग्रहों के सफल प्रक्षेपण के साथ इसरो ने वर्ष 2021 की शुरूआत की ओर इशारा करते हुए कहा कि कोविड 19 के प्रसार और लॉकडाउन ने संचालन को कम कर दिया है. पहले मानव रेटेड जीएसएलवी-एमके थ्री दो परीक्षण उड़ानों में से पहली, 2021 के अंत तक उड़ान भरने के लिए निर्धारित की गई थी. उड़ान के परिणाम लेते हुए एक और मानव रहित रॉकेट जाएगा जबकि तीसरा रॉकेट भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को ले जाएगा. सिवन ने कहा कि गंगानयान परियोजना के लिए प्रमुख डिजाइन और प्रलेखन गतिविधियां पूरी कर ली गई हैं.

लिक्विड फ्यूल इंजन का टेस्ट किया जाएगा
इसरो के एक अधिकारी ने पहले बताया था कि क्रू मॉड्यूल का विकास किया जा रहा है और 80 प्रतिशत हार्डवेयर के ऑर्डर दिए जा चुके हैं. अधिकारी के मुताबिक, रॉकेट के सॉलिड फ्यूल मोटर के स्टैटिक टेस्ट इस सितंबर में होने हैं और लिक्विड फ्यूल इंजन का भी टेस्ट किया जाएगा. इस बीच, चार भारतीय अंतरिक्ष यात्री रूस में अपना प्रशिक्षण पूरा करने के बाद इस मार्च में भारत लौट आए और अब देश में विभिन्न अंतरिक्ष मिशन विशिष्ट प्रशिक्षण से गुजरेंगे.

सिवन ने यह भी कहा कि इसरो भारत के पहले जियो इमेजिंग सैटेलाइट (जीआईएसएटी -1) को भूस्थिर कक्षा में स्थापित करने के लिए लॉन्च करने की प्रतीक्षा कर रहा है. एरियनस्पेस के एरियन जैसे विदेशी रॉकेट का उपयोग करके उपग्रह को लॉन्च करने के बारे में पूछे जाने पर सिवन ने कहा कि केवल चीन और अमेरिका ही रॉकेट लॉन्च कर रहे हैं, अन्य नहीं। वैसे भी हमारे पास लॉन्च करने के लिए अपना रॉकेट है. उन्होंने कहा कि एक बार जब कोविड का प्रसार कम हो जाएगा, तो उपग्रह लॉन्च किया जाएगा. उपग्रह और रॉकेट (जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल - एफ10 (जीएसएलवी एफ10) श्रीहरिकोटा के रॉकेट लॉन्च सेंटर में तैयार है.

जीआईएसएटी -1 भूस्थिर कक्षा में स्थापित होने वाला देश का पहला आकाश नेत्र या पृथ्वी अवलोकन उपग्रह होगा. मूल रूप से जीआईएसएटी -1 को 5 मार्च, 2020 को लॉन्च किया जाना था, लेकिन लॉन्च से कुछ घंटे पहले इसरो ने कुछ तकनीकी गड़बड़ के कारण मिशन को स्थगित करने की घोषणा की गई. इसके बाद, जीआईएसएटी -1 का प्रक्षेपण मार्च 2021 के लिए निर्धारित किया गया था, लेकिन उपग्रह की बैटरी साइड में समस्याओं के कारण, उड़ान में देरी हुई और बैटरी को बदल दिया गया. भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने पहले कहा था कि 2,268 किलोग्राम वजनी जीआईएसएटी -1 लगातार अंतराल पर रुचि के एक बड़े क्षेत्र की वास्तविक समय की छवि प्रदान करेगा. यह प्राकृतिक आपदाओं, प्रासंगिक घटनाओं और किसी भी अल्पकालिक घटनाओं की त्वरित निगरानी को भी सक्षम करेगा. -इनपुट आईएएनएस

First Published : 02 Jul 2021, 09:44:31 AM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.