News Nation Logo
बर्बाद फ़सलों का आकलन हो रहा है, डेढ़ महीने में किसानों को मुआवज़ा मिलने की उम्मीद है: सीएम, दिल्ली बारिश से जिन किसानों की फसलें बर्बाद हुईं, उन्हें 50,000 रु./हे. मुआवज़ा दिया जाए: अरविंद केजरीवाल उत्तर प्रदेश: पीएम नरेंद्र मोदी ने कुशीनगर में श्रीलंका के मंत्री नमल राजपक्षे से मुलाकात की आर्यन खान पर फैसला आज दोपहर 2.45 पर आएगा मौसम खुल चुका है और चारधाम यात्रा शुरू हो चुकी है: उत्तराखंड के DGP अशोक कुमार दुनिया में जहां-जहां भी बुद्ध के विचारों को आत्मसात किया गया, वहां प्रगति के रास्ते बने: पीएम मोदी उड़ान योजना के तहत बीते कुछ सालों में 900 से अधिक नए रूट्स को स्वीकृति दी जा चुकी है: पीएम मोदी कुशीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा उनकी श्रद्धा को अर्पित पुष्पांजलि है: पीएम मोदी भारत विश्व भर के बौद्ध समाज की श्रद्धा, आस्था और प्रेरणा का केंद्र है: कुशीनगर में पीएम मोदी 50 से अधिक नए या ऐसे एयरपोर्ट जो पहले सेवा में नहीं थे, उन्हें चालू किया जा चुका है: पीएम मोदी CBI-CVS कांफ्रेंस में बोले पीएम मोदी-भ्रष्टाचार सिस्टम का हिस्सा नहीं हो सकता है लखीमपुर हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज होगी अहम सुनवाई. पंजाब में कांग्रेस का बढ़ा दलित प्रेम. राहुल गांधी आज दिखाएंगे शोभा यात्रा को हरी झंडी आज शाम उत्तराखंड जाएंगे गृहमंत्री अमित शाह, बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का लेंगे जायजा क्रूज ड्रग्स केस में आर्यन खान को आज मिलेगी बेल या रहेंगे जेल में ही

कोवैक्सीन के लिए ईयूएल को मंजूरी नहीं देने के डब्ल्यूएचओ के फैसले पर एआईपीएसएन ने चिंता व्यक्त की

कोवैक्सीन के लिए ईयूएल को मंजूरी नहीं देने के डब्ल्यूएचओ के फैसले पर एआईपीएसएन ने चिंता व्यक्त की

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 30 Sep 2021, 02:50:01 PM
Bharat Biotech

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: वैज्ञानिकों के एक राष्ट्रीय नेटवर्क, एआईपीएसएन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा आईसीएमआर-भारत बायोटेक के कोवैक्सिन के लिए आपातकालीन उपयोग सूची प्रदान नहीं करने पर चिंता व्यक्त की है।

ऑल इंडिया पीपल्स साइंस नेटवर्क (एआईपीएसएन) ने सरकार, संबंधित मंत्रालयों और विभागों से क्लिनिकल परीक्षण के परिणामों के संचालन और विश्लेषण के लिए वैज्ञानिक मानकों का पालन करने और सहकर्मी-समीक्षा लेखों के रूप में परिणामों के प्रकाशन और पूर्ण पारदर्शिता का आग्रह किया है।

एआईपीएसएन ने एक बयान में कहा, ऑल इंडिया पीपल्स साइंस नेटवर्क (एआईपीएसएन) दुख और गंभीर चिंता के साथ नोट करता है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने आईसीएमआर-भारत बायोटेक (बीबी) कोवैक्सिन वैक्सीन के लिए आपातकालीन उपयोग सूची (ईयूएल) की मंजूरी नहीं दी है, जबकि उसने भारत बायोटेक अधिक तकनीकी विवरण देने के लिए कहा है।

इसमें आगे कहा गया है कि यह कोवैक्सिन के लिए और देश में भारत के टीकाकरण कार्यक्रम के लिए यह एक गंभीर झटका है, और साथ ही अन्य देशों में टीके वितरित करने की भारत की योजना के लिए भी एक झटका है।

वैज्ञानिकों के राष्ट्रीय नेटवर्क ने कहा कि विदेशों में यात्रा करने वाले कई भारतीय, विशेष रूप से छात्र, जिन्होंने कोवैक्सिन लिया है, को पहले से ही अन्य देशों में वीजा या प्रवेश प्राप्त करना मुश्किल हो रहा है, जो आमतौर पर केवल डब्ल्यूएचओ-अनुमोदित टीकों को मान्यता देते हैं। यह खेदजनक स्थिति तब तक जारी रहेगी जब तक कि वैज्ञानिक कठोरता के साथ-साथ सार्वजनिक जवाबदेही, पारदर्शिता नहीं होगी।

हालांकि, हैदराबाद स्थित फार्मा प्रमुख भारत बायोटेक ने मंगलवार को कहा कि कंपनी कोविड वैक्सीन कोवैक्सिन के लिए आपातकालीन उपयोग सूची प्राप्त करने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ काम कर रही है।

एक बयान में, भारत बायोटेक ने कहा कि फार्मा प्रमुख उचित समय पर नियामक अनुमोदन की उपलब्धता को इंगित करने के लिए एक घोषणा करेगा।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 30 Sep 2021, 02:50:01 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो