News Nation Logo
भारत में अब तक कोविड के 3.46 करोड़ मामले सामने आए हैं: लोकसभा में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हरियाणा में अगले आदेश तक गुरुग्राम, सोनीपत, फरीदाबाद और झज्जर के स्कूलों को बंद करने का आदेश Omicron Update: 31 देशों में 400 से ज्यादा संक्रमण के मामले मलेशिया में ओमीक्रॉन के पहले मामले की पुष्टि अमेरिका में ओमीक्रॉन से संक्रमण के मामले बढ़कर 8 हुए केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: CCTV के मामले में दिल्ली दुनिया में नंबर 1 केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में महिलाएं पूरी तरह सुरक्षित केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में 1.40 कैमरे और लगाए जाएंगे थोड़ी देर में ओमीक्रॉन पर जवाब देंगे स्वास्थ्य मंत्री IMF की पहली उप प्रबंध निदेशक के रूप में ओकामोटो की जगह लेंगी गीता गोपीनाथ 12 राज्यसभा सांसदों के निलंबन को लेकर विपक्षी दलों के सांसदों का गांधी प्रतिमा के पास विरोध-प्रदर्शन यमुना एक्‍सप्रेसवे पर सुबह सुबह बड़ा हादसा, मप्र पुलिस के दो जवानों समेत चार की मौत जयपुर में दक्षिण अफ्रीका से लौटे एक ही परिवार के चार लोग कोरोना संक्रमित

भूकंप के रहस्यों को उजागर करने के लिए ऑस्ट्रेलियाई वैज्ञानिकों ने यात्रा शुरू की

भूकंप के रहस्यों को उजागर करने के लिए ऑस्ट्रेलियाई वैज्ञानिकों ने यात्रा शुरू की

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 23 Nov 2021, 11:55:01 AM
Autralian cientit

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

कैनबरा: ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी (एएनयू) के शोधकर्ताओं ने पृथ्वी की आंतरिक परतों के रहस्यों को उजागर करने के लिए एक यात्रा शुरू की है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, एएनयू के नेतृत्व वाली टीम 10 नवंबर को दक्षिणी महासागर में मैक्वेरी द्वीप के पास समुद्र तल से 27 सीस्मोमीटर - भूकंप के दौरान जमीन की गति को रिकॉर्ड करने वाले उपकरण को पुन: प्राप्त करने के लिए तीन सप्ताह के मिशन पर रवाना हुई।

ये उपकरण अक्टूबर 2020 में पृथ्वी के केंद्र की ओर इशारा करते हुए तैनात किए गए थे और अत्यधिक पानी के नीचे भूकंप पर डेटा एकत्र कर रहे हैं।

शोधकर्ताओं को उम्मीद है कि डेटा उन्हें पृथ्वी की आंतरिक परतों को बेहतर ढंग से समझने में मदद करेगी।

एएनयू के रिसर्च स्कूल ऑफ अर्थ साइंसेज के मुख्य वैज्ञानिक टाल्सिक ने मीडिया से कहा, यह एक ऐसे क्षेत्र में है जहां ऑस्ट्रेलियाई प्लेट प्रशांत प्लेट से मिलती है, लेकिन इसे एक सक्रिय सबडक्शन क्षेत्र के रूप में नहीं जाना जाता है, इसलिए ये भूकंप अभी भी हमारे लिए एक रहस्य हैं।

टाल्सिक के मुताबिक, वैज्ञानिक रूप से, इस परियोजना का सबसे रोमांचक भुगतान यह हो सकता है कि यह प्लेट टेक्टोनिक्स में सबसे बड़ी पहेली में से एक में लापता टुकड़ों को जोड़ने में हमारी मदद कर सकता है, सबडक्शन कैसे शुरू होता है।

कॉमनवेल्थ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (सीएसआईआरओ) ने 24 दिनों की यात्रा के लिए न्यूजीलैंड के अनुसंधान पोत आरवी तंगारोआ को कमीशन किया।

टाल्सिक ने कहा कि एक सिस्मोमीटर को पुन: प्राप्त करने में छह घंटे तक लग सकते हैं और सतह पर वापस चढ़ने में दो घंटे लग सकते हैं।

उपकरण मैक्वेरी द्वीप के आसपास रहे हैं, जो दक्षिणी महासागर के फ्यूरियस फिफ्टीज अक्षांशों में एक क्षेत्र है जो अपने चरम समुद्र और मौसम के लिए प्रसिद्ध है।

हमारे उपकरणों की तैनाती के दौरान मौसम अक्सर खराब था। हमें तेज हवाओं और लहरों का सामना करना पड़ा जिसने हमें अध्ययन क्षेत्र में हमारे लगभग 40 प्रतिशत समय के लिए मैक्वेरी द्वीप की ली में हेव-टू या आश्रय के लिए मजबूर किया।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 23 Nov 2021, 11:55:01 AM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.