News Nation Logo

कुछ तरह के विमानों पर कमांडरों की मामूली कमी है : विमानन मंत्रालय

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 25 Jul 2022, 05:05:01 PM
Airline

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि कुछ विशेष प्रकार के विमानों में कमांडरों की मामूली कमी है और इसे विदेशी पायलटों का उपयोग करके विदेशी एयरक्रू अस्थायी प्राधिकरण (एफएटीए) जारी कर प्रबंधित किया जा रहा है।

मंत्रालय ने राज्यसभा में एक प्रश्न का उत्तर देते हुए कहा कि 30 जून, 2022 तक भारत में 82 एफएटीए-धारक थे, जबकि भारत में एयरलाइंस के साथ 9,000 से अधिक पायलट कार्यरत थे।

भारत में अपने वाणिज्यिक पायलट लाइसेंस (सीपीएल) प्राप्त करने वाले पायलटों की संख्या हर साल बढ़ रही है। डीजीसीए ने 2021 में 862 सीपीएल जारी किए, जो अब तक का सबसे ऊंचा स्तर है। कोविड-19 से पहले जारी सीपीएल की संख्या 744 (2019), 640 (2018) और 552 (2017) थी।

मंत्रालय ने कहा कि भारतीय उड़ान प्रशिक्षण संगठनों (एफटीओ) में उड़ान के कुल घंटों की संख्या पूर्व-कोविड वर्ष (2019) में 1.20 लाख घंटे से बढ़कर 2021 में 1.62 लाख घंटे हो गई। 2021 में गंभीर व्यवधानों- कोविड-19 की दूसरी लहर, चक्रवात यास, तौकता, मानसून की शुरुआत और आयातित विमानन ईंधन की बढ़ी हुई लागत के कारण सुधार सुस्त पड़ा।

सरकार के स्वामित्व वाला एफटीओ - आईजीआरयूए (अमेठी, यूपी) - ऊपर उल्लिखित गंभीर व्यवधानों के बावजूद विमान 2021-22 में 19,110 उड़ान घंटों के सर्वकालिक उच्च स्तर पर संचालित हुए। इसकी तुलना में कोविड-19 महामारी से पहले, इसने 2019-20 में 14,830 उड़ान घंटे और 2018-19 में 14,039 उड़ान घंटे संचालित किए। मंत्रालय ने कहा कि एफटीओ की संख्या और पायलटों के वार्षिक उत्पादन में और वृद्धि होने की संभावना है।

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) 2020 में एक उदार एफटीओ नीति लेकर आया, जिसमें हवाईअड्डा रॉयल्टी भुगतान (एएआई को एफटीओ द्वारा राजस्व शेयर भुगतान) को समाप्त कर दिया गया और भूमि के किराये को काफी युक्तिसंगत बनाया गया।

एएआई ने 2021 में एक प्रतिस्पर्धी बोली प्रक्रिया के बाद बेलगावी (कर्नाटक), जलगांव (महाराष्ट्र), कालाबुरागी (कर्नाटक), खजुराहो (मध्य प्रदेश) और लीलाबारी (असम) में पांच हवाईअड्डों पर नौ एफटीओ स्लॉट प्रदान किए।

इनमें से चार एफटीओ - कलबुर्गी में दो और जलगांव और लीलाबाड़ी में एक-एक ने 30 जून से वाणिज्यिक परिचालन शुरू कर दिया है। जून 2022 में एक प्रतिस्पर्धी बोली प्रक्रिया के बाद एएआई द्वारा पांच हवाईअड्डों पर छह और एफटीओ स्लॉट प्रदान किए गए, ये हैं : भावनगर (गुजरात), हुबली (कर्नाटक), कडप्पा (आंध्र प्रदेश), किशनगढ़ (राजस्थान) और सेलम (तमिलनाडु)।

मंत्रालय ने कहा कि प्रमुख देशों में एफटीओ की तुलना में भारत में पायलट प्रशिक्षण की लागत लागत-प्रतिस्पर्धी है, बाद वाले कम से कम 40 प्रतिशत महंगे हैं। भारत में एफटीओ की संख्या में नियोजित वृद्धि के साथ भारतीय एफटीओ के लागत लाभ में और सुधार होने की संभावना है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 25 Jul 2022, 05:05:01 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.