News Nation Logo
Banner

दुनिया के केवल 2 प्रतिशत कोविड टीके अफ्रीका में दिए गए: डब्ल्यूएचओ

दुनिया के केवल 2 प्रतिशत कोविड टीके अफ्रीका में दिए गए: डब्ल्यूएचओ

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 15 Sep 2021, 11:40:01 AM
Africa confirmed

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

जिनेवा: अफ्रीका को बाकी दुनिया के देशों ने पीछे छोड़ दिया है क्योंकि विश्व स्तर पर 5.7 अरब से ज्यादा कोविड -19 वैक्सीन खुराक में से केवल दो प्रतिशत टीके ही वहां दिए गए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के प्रमुख ने दुनिया को वैक्सीन असमानता के खिलाफ चेतावनी देते हुए यह बात कही है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ट्रेडोस एडनॉम घेब्रेयसस के हवाले से कहा कि डब्ल्यूएचओ का लक्ष्य इस साल के अंत तक हर देश की कम से कम 40 फीसदी आबादी और अगले साल के मध्य तक 70 फीसदी आबादी का टीकाकरण करना है। हालांकि, अफ्रीका में केवल दो देश 40 प्रतिशत लक्ष्य तक पहुंच पाए हैं, जो किसी भी क्षेत्र में सबसे कम है।

उन्होंने कहा, ऐसा इसलिए नहीं है क्योंकि अफ्रीकी देशों के पास कोविड-19 टीके लगाने की क्षमता या अनुभव नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि उन्हें बाकी दुनिया ने पीछे छोड़ दिया है।

पिछले साल, डब्ल्यूएचओ और उसके सहयोगियों ने कोवैक्स की शुरूआत की, जो कि कोविड-19 टीकों की निष्पक्ष और समान पहुंच सुनिश्चित करने के लिए वैश्विक पहल है।

अब तक, इसके मुताबिक 141 देशों को 26 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन की खुराक वितरित की हैं।

हालांकि, कोवैक्स को कई चुनौतियों का भी सामना करना पड़ा है, जो डब्ल्यूएचओ के अनुसार, निर्माताओं द्वारा द्विपक्षीय सौदों को प्राथमिकता देने और कई उच्च-आय वाले देशों द्वारा टीकों की वैश्विक आपूर्ति को बांधने से उत्पन्न हुई थी।

अफ्रीका सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के निदेशक जॉन नेकेंगसॉन्ग के अनुसार, जिन्होंने ब्रीफिंग में हिस्सा लिया, 3.5 प्रतिशत से कम अफ्रीकियों को कोविड -19 के खिलाफ टीका लगाया गया है, जो कि 60 प्रतिशत के आधिकारिक लक्ष्य से बहुत कम है।

ट्रेडोस ने कहा, यह लोगों को बीमारी और मृत्यु के उच्च जोखिम में छोड़ता है और एक घातक वायरस के संपर्क में आता है, जिसके खिलाफ दुनिया भर में कई अन्य लोग सुरक्षा का आनंद लेते हैं।

उन्होंने चेतावनी दी, जब तक वैक्सीन असमानता बनी रहेगी, उतना ज्यादा वायरस घूमेगा और बदलेगा साथ ही देर तक सामाजिक और आर्थिक व्यवधान जारी रहेगा और ज्यादा संभावनाएं सामने आएंगी कि टीके कम प्रभावी होंगे।

डब्ल्यूएचओ, अफ्रीकी संघ और कोवैक्स वैक्सीन निर्माताओं से कोवैक्स कार्यक्रम को प्राथमिकता देने और देशों से अपने खुराक-साझाकरण वादों को पूरा करने और वैक्सीन प्रौद्योगिकी और बौद्धिक संपदा को साझा करने की सुविधा देने का अनुरोध करते रहे हैं।

अगस्त में, डब्ल्यूएचओ ने दुनिया भर में सबसे ज्यादा जोखिम वाले लोगों को टीका लगाने को प्राथमिकता देने के लिए कम से कम सितंबर के अंत तक बूस्टर वैक्सीन खुराक पर वैश्विक रोक लगाने का आह्वान किया, जिन्हें अभी तक अपनी पहली खुराक नहीं मिली है।

जैसा कि टीके की असमानता बनी रहेगी, इसके बाद हर देश को अपनी आबादी का कम से कम 40 प्रतिशत टीकाकरण करने में सक्षम बनाने के लिए वर्ष के कम से कम अंत तक स्थगन का विस्तार करना होगा।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 15 Sep 2021, 11:40:01 AM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.