News Nation Logo
Banner

हम एडब्ल्यूएस पर बिग डेटा एआई/एमएल क्लाउड एडवांस्ड एनालिटिक्स प्लेटफॉर्म बनाने वाले भारत के पहले टेल्को हैं: वोडाफोन-आइडिया (पार्ट-2)

हम एडब्ल्यूएस पर बिग डेटा एआई/एमएल क्लाउड एडवांस्ड एनालिटिक्स प्लेटफॉर्म बनाने वाले भारत के पहले टेल्को हैं: वोडाफोन-आइडिया (पार्ट-2)

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 24 Jan 2022, 11:30:01 PM
A the

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   भारतीय दूरसंचार उद्योग पिछले एक दशक में प्रौद्योगिकी संचालित व्यवधान के केंद्र में रहा है। 98.6 करोड़ से अधिक सक्रिय वायरलेस ग्राहकों के साथ, उद्योग के पास उद्योगों में व्यवसायों के लिए परिवर्तन लाने का भी अवसर है।

आईएएनएस ने वोडाफोन-आइडिया के ईवीपी और हेड, बिग डेटा एंड एडवांस्ड एनालिटिक्स, डॉ. संजीव चौबे से बात की, ताकि वे इस बारे में जानकारी प्राप्त की जा सके कि कैसे क्लाउड उनके डिजिटल परिवर्तन के केंद्र में रहा है और कैसे वे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई), मशीन लनिर्ंग (एमएल), इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) और एनालिटिक्स जैसी बुद्धिमान तकनीकों का लाभ उठा रहे हैं।

चौबे का मानना है कि दूरसंचार सेवा प्रदाताओं को टेल्को से टेक्नो और 5जी, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, बिग डेटा एनालिटिक्स, क्लाउड कंप्यूटिंग, आईओटी/आईआईओटी/ एआईओटी और रोबोटिक प्रोसेस ऑटोमेशन (आरपीए) जैसी तकनीकों को बदलने की महत्वपूर्ण आवश्यकता है और यही चीज इस डिजिटल परिवर्तन को सक्षम करेगी।

पेश हैं साक्षात्कार के प्रमुख अंश:

प्रश्न: क्लाउड तकनीक ने आपको ऐसा क्या करने की अनुमति दी, जो आप पहले नहीं कर सकते थे?

उत्तर: क्लाउड बड़े पैमाने पर परिवर्तन का एक प्रमुख प्रवर्तक है: चाहे वह उपभोक्ता विश्लेषिकी, डिजिटल अपनाने और नेटवर्क निगरानी और प्रबंधन को लाभान्वित कर रहा हो और पैमाने और गति पर तेजी से निर्णय लेने की सुविधा प्रदान करके संचालन में दक्षता ला रहा हो।

आज की तारीख में हम भारत के पहले टेल्को हैं, जिन्होंने एडब्ल्यूएस क्लाउड पर एक फुल बिग डेटा एआई/एमएल क्लाउड एडवांस्ड एनालिटिक्स प्लेटफॉर्म तैयार किया है।

हमारी क्लाउड यात्रा शुरू करने से पहले, हमारे डेटा सेट पूरे देश में साइलो में एकत्र किए गए थे। फिर, उन्हें विभिन्न मशीन लनिर्ंग और डीप लनिर्ंग एल्गोरिदम चलाने के लिए एकत्र किया गया।

इसके अलावा, चूंकि डेटा सेट मात्रा में बहुत बड़ा था, इसलिए पुराने बुनियादी ढांचे में डेटा समेकन के लिए उपलब्ध कंप्यूट और जीपीयू समर्थन एक चुनौती थी। इन सभी जटिलताओं ने हमारे संचालन में देरी की और टीमों की उत्पादकता में बाधा उत्पन्न भी उत्पन्न की। एडब्ल्यूएस पर तैनात नए डेटा साइंस प्लेटफॉर्म के साथ, हम इन सभी चुनौतियों का समाधान करने और बहुत कुछ हासिल करने में सक्षम हैं।

क्लाउड पर उपलब्ध कंप्यूट और मेमोरी पावर का उपयोग करके, हम डेटा को समेकित कर सकते हैं और अपनी मशीन/डीप लनिर्ंग एल्गोरिदम को प्रभावी ढंग से चला सकते हैं और समानांतर डेटा प्रोसेसिंग भी आसानी से कर सकते हैं। इन एल्गोरिदम को चलाने का समय पहले ही 60 प्रतिशत से अधिक कम हो गया है और आगे अनुकूलन के साथ, हम उम्मीद करते हैं कि हमारा डेटा विज्ञान मंच निकट भविष्य में और अधिक वितरित करेगा।

इसके अतिरिक्त, एपीआई के रूप में पूर्व-प्रशिक्षित एमएल मॉडल के साथ-साथ टेंसर फ्लो, एमएक्सनेट, केरस, पाइटोरच, ग्लूऑन आदि जैसे गहन शिक्षण ढांचे की उपलब्धता हमें डेटा सेट के साथ बड़े पैमाने और गति पर अधिक प्रयोग करने में मदद करती है और अंतत: हमारे ग्राहक अनुभव को बेहतर बनाती है।

भविष्य में, हम 5जी, एज, आईओटी मुद्रीकरण, कस्टमर 360, नेटवर्क फंक्शन वर्चुअलाइजेशन ट्रांजिशन आदि सहित नई प्रौद्योगिकी पहलों में अपनी चुनौतियों का समाधान करने के लिए इस प्लेटफॉर्म को एकीकृत और प्रभावी ढंग से उपयोग करने में सक्षम होंगे।

प्रश्न: क्लाउड टेक्नोलॉजी के साथ कनेक्टेड इंटेलिजेंस के लिए एआईओटी और आईआईओटी एनालिटिक्स में तेजी से विश्वव्यापी प्रगति पर आपके क्या विचार हैं?

उत्तर: फॉर्च्यून बिजनेस इनसाइट्स के अनुसार, वैश्विक आईओटी बाजार का आकार 2021 में 381.30 अरब अमेरिकी डॉलर से बढ़कर 2028 में 1854.76 अरब अमेरिकी डॉलर होने का अनुमान है। जबकि अगर हम रिसर्चएंडमार्केट्स रिपोर्ट का पालन करते हैं, तो विश्व स्तर पर एआईओटी बाजार 2026 तक 78.3 अरब डॉलर तक पहुंच जाएगा। इसके अलावा, वैश्विक आईआईओटी बाजार, जिसका मूल्य 2020 में लगभग 216.13 डॉलर था, उसकी 2028 तक लगभग 1.1 खरब डॉलर तक बढ़ने की उम्मीद है।

उपरोक्त डेटा स्पष्ट रूप से न केवल भारत के लिए बल्कि टेल्को के विश्व स्तर पर एक कनेक्टिविटी सेवा प्रदाता के रूप में दूरसंचार के लिए रोडमैप और ²ष्टि को स्पष्ट रूप से निर्धारित करता है।

आईओटी और डेटा एनालिटिक्स में निर्णय लेने के लिए एआई का उपयोग निर्णय लेने के मामले में कुशल और प्रभावी स्मार्ट सिटी सॉल्यूशंस के लिए महत्वपूर्ण होगा। यह स्मार्ट हवाई अड्डों, स्मार्ट रेलवे स्टेशनों, स्मार्ट सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं आदि सहित 100 स्मार्ट सिटी परियोजनाओं को विकसित करने की भारत सरकार की योजना के अनुरूप है, जहां 5जी, एआई, आईओटी और क्लाउड प्रौद्योगिकियां इन शहरों और सर्विसेज के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी।

एआई और इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) प्रौद्योगिकियों और समाधानों (एआईओटी) का अभिसरण थिंकिंग नेटवर्क और सिस्टम की ओर अग्रसर है। एआई-सक्षम एज डिवाइस मार्केट एआईओटी के भीतर सबसे तेजी से बढ़ने वाला सेगमेंट होगा। एआईओटी डेटा प्रोसेसिंग सिस्टम को स्वचालित करता है, कच्चे आईओटी डेटा को उपयोगी जानकारी में परिवर्तित करता है।

एआईओटी समाधान एक सेवा के रूप में अगली पीढ़ी के एआई निर्णय (एआई-डास) के अग्रदूत हैं। एआईओटी के साथ, एआई बुनियादी ढांचे के घटकों (कंपोनेंट्स) में अंतर्निहित है, जैसे कि प्रोग्राम, चिपसेट और एज कंप्यूटिंग, सभी आईओटी नेटवर्क से जुड़े हुए हैं। एपीआई का उपयोग तब डिवाइस स्तर, सॉफ्टवेयर स्तर और प्लेटफॉर्म स्तर पर घटकों के बीच अंतर को बढ़ाने के लिए किया जाता है। ये इकाइयां मुख्य रूप से सिस्टम और नेटवर्क संचालन के अनुकूलन के साथ-साथ डेटा से मूल्य निकालने पर ध्यान केंद्रित करेंगी।

ये समाधान ग्राहकों को अग्रणी वायरलेस सक्षम एआईओटी उत्पादों को प्राप्त करने की क्षमता प्रदान करेंगे और बाजार में उनके समय को कम करेंगे।

एआईओटी सॉल्यूशंस के प्रमुख क्षेत्रों में डेटा सर्विसेज, प्रेडिक्टिव एसेट मैनेजमेंट, इंटेलिजेंट इमर्सिव एक्सपीरियंस, प्रोसेस इम्प्रूवमेंट, नेक्स्ट-जेन यूआई और यूएक्स और इंटेलिजेंट इंडस्ट्रियल ऑटोमेशन शामिल हैं।

यह इंटेलिजेंट कनेक्टिविटी, बिग डेटा और एआई/एमएल प्रौद्योगिकियों के कृषि उत्पादकता, मोटर वाहन, परिवहन और रसद, औद्योगिक और विनिर्माण कार्यों, स्वास्थ्य देखभाल, सार्वजनिक सुरक्षा और सुरक्षा जैसे प्रमुख औद्योगिक क्षेत्रों में एक प्रमुख भूमिका निभाने की उम्मीद है।

एडब्ल्यूएस आईओटी क्लाउड सेवाओं के साथ बड़े पैमाने पर औद्योगिक और सार्वजनिक रूप से स्थापित सेंसर और उपकरणों से डेटा एकत्र करने, व्यवस्थित करने और विश्लेषण करने के लिए और वास्तविक समय के निर्णय लेने के लिए, एआईओटी उद्योगों को किनारे और क्लाउड पर कार्यों को निर्बाध रूप से प्रबंधित और नियंत्रित करने में सक्षम बनाता है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस प्लस आईओटी (एआईओटी) एनालिटिक्स के प्रमुख घटकों में सेंसर, आईओटी गेटवे, नेटवर्क, स्टोरेज और एनालिटिक्स इंजन फॉर डेटा एनालिसिस, मॉनिटरिंग और एज पर एक्शन और नोटिफिकेशन के लिए इंटेलिजेंट ऑटोमेशन शामिल हैं।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लनिर्ंग एल्गोरिदम क्लाउड और एज दोनों में आईओटी सेंसर जैसे विजुअल/ऑप्टिकल सेंसर, तापमान सेंसर, प्रेशर सेंसर, इन्फ्रारेड सेंसर, गैस (जीएएस), जायरोस्कोप सेंसर, एक्सेलेरोमीटर, आद्र्रता (ह्यूमिडिटी) सेंसर, लेवल सेंसर इत्यादि से उभरते डेटा पर लीवरेज हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 24 Jan 2022, 11:30:01 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.