News Nation Logo
Banner

Sharad Purnima 2019:शरद पूर्णिमा पर रात को पृथ्वी पर घूमती हैं मां लक्ष्मी, खीर बनाकर करें पूजा, बरसेगा धन

अश्विन शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहते हैं. 13 अक्टूबर को शरद पूर्णिमा पर चंद्रमा से अमृत बरसेगा. इस दिन लक्ष्मी की पूजा करने पर धन बरसेगा.

By : Nitu Pandey | Updated on: 12 Oct 2019, 10:34:43 PM
शरद पूर्णिमा पर रात को पृथ्वी पर घूमती हैं मां लक्ष्मी ऐसे करें पूजा

शरद पूर्णिमा पर रात को पृथ्वी पर घूमती हैं मां लक्ष्मी ऐसे करें पूजा (Photo Credit: प्रतिकात्मक)

नई दिल्ली:

अश्विन शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहते हैं. 13 अक्टूबर को शरद पूर्णिमा पर चंद्रमा से अमृत बरसेगा. इसे कोजागरी या कोजागर पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता हैय इस रात को जागरण करने और चांद की रोशनी में खीर रखने का विशेष महत्व होता है. शास्त्रों के मुताबिक, देवी लक्ष्मी का जन्म शरद पूर्णिमा के दिन हुआ था. इस दिन वह भगवान विष्णु के साथ अपनी सवारी उल्लू पर बैठकर पृथ्वी का भ्रमण करती हैं. शरद पूर्णिमा की रात को चंद्रमा अपनी पूरी 16 कलाओं का प्रदर्शन करता है.

चांद 16 कलाओं से संपूर्ण होकर रातभर अपनी किरणों से अमृत वर्षा करता है. ऐसे में रात को आसमान के नीचे खीर रखने से वह अमृत के समान हो जाती है.

कहते हैं मां लक्ष्मी इस दिन रात में जगने और मां लक्ष्मी के आराधना करनेवालों को धन और वैभव का आशीर्वाद देती हैं. इसलिए इसे कोजागरी पूर्णिमा भी कहते हैं. घी के दीपक जलाकर मां लक्ष्मी को प्रसन्न किया जाता है.

इसे भी पढ़ें:इस दिवाली घर लाएं ये 5 चीजें, फिर देखें चमत्‍कार, दूर हो जाएगी पैसों की किल्‍लत

ये है पूजा की विधि

शरद पूर्णिमा को सुबह अपने इष्ट देवता को ध्यान में रखकर पूजा-अर्चना करें. शाम को चंद्रोदय होने पर चांदी या मिट्टी से बने दिए में घी का दीपक जलाएं. प्रसाद के लिए खीर बनाएं. रातभर इसे चांद की चांदनी में रखें. फिर मां लक्ष्मी को भोग लगाने के बाद प्रसाद रूपी खीर खाएं.चांद की रोशनी में रखी गई खीर खाने से पित्त रोग से छुटकारा मिलता है.

शरद पूर्णिमा का महत्व

मान्यताओं के अनुसार, चांद साल में सिर्फ एक बार अपनी 16 कलाओं से परिपूर्ण होता है. इस अवसर पर सर्वाथ सिद्धि योग भी बनता है. ग्रह और नक्षत्र का यह संयोग बहुत शुभ होता है, जिससे धन लाभ होता है.

और पढ़ें:Dussehra Special: आज के दिन को क्यों कहा जाता है दशहरा या विजयदशमी, जानें

क्या कहता है विज्ञान

शरद पू्र्णिमा की रात को खुले आसमान के नीचे प्रसाद बनाकर रखने का वैज्ञानिक महत्व भी है. इस समय मौसम में तेजी से बदलाव हो रहा होता है, यानी मॉनसून का अंत और ठंड की शुरुआत. शरद पूर्णिमा की रात को चंद्रमा धरती के बहुत नजदीक होता है. ऐसे में चंद्रमा से निकलने वाली कि‍रणों में मौजूद रासायनिक तत्व सीधे धरती पर आकर गिरते हैं, जिससे इस रात रखे गये प्रसाद में चंद्रमा से निकले लवण व विटामिन जैसे पोषक तत्‍व समाहित हो जाते हैं. जो बेहद ही फायदेमंद होते हैं.

First Published : 12 Oct 2019, 10:34:43 PM

For all the Latest Religion News, Dharm News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×