logo-image
लोकसभा चुनाव

Somwar Puja: सोमवार को शिव जी की पूजा क्यों करते हैं, जानें पौराणिक महत्व और चमत्कारी उपाय 

Somwar Puja: शिव जी पूजा का सोमवार को खास महत्व होता है, लेकिन क्या आपने सोचा है कि क्यों? इसके पौराणिक कारण क्या है और भगवान शिव के किस उपाय से आपकी किस समस्या का समाधान निकलेगा आइए जानते हैं.

Updated on: 13 May 2024, 09:56 AM

New Delhi :

Somwar Puja: सोमवार का दिन भगवान शिव के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण माना जाता है. इस दिन उनकी पूजा करने से विशेष फल प्राप्त होते हैं. "सोम" शब्द का अर्थ है "चंद्रमा". चंद्रमा भगवान शिव के मस्तक पर विराजमान हैं और उन्हें अत्यंत प्रिय हैं. पौराणिक कथाओं के अनुसार, सोमवार का दिन भगवान शिव के विवाह का दिन माना जाता है. सोमवार का व्रत भगवान शिव को समर्पित होता है. इस दिन भक्त व्रत रखकर, पूजा-अर्चना करते हैं और शिवजी से आशीर्वाद प्राप्त करते हैं. शास्त्रों में कहा गया है कि सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा करने से पापों का नाश होता है, मनोकामनाएं पूरी होती हैं और भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है. सोमवार को भगवान शिव का प्रिय दिन माना जाता है. इस दिन उनकी पूजा करने से भगवान शिव शीघ्र प्रसन्न होते हैं. अगर आपकी नौकरी नहीं लग रही, नौकरी है लेकिन प्रमोशन नहीं मिल रहा या फिर शादी से जुड़ी, बिजनेस से जुड़ी कोई समस्या है तो आप सोमवार के दिन इस तरह से उनकी पूजा करें और ये विशेष उपाय आपकी समस्या दूर कर  सकते हैं. 

सोमवार के दिन शिव की पूजा कैसे करें?

सोमवार को प्रातःकाल सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करें. स्वच्छ वस्त्र पहनकर पूजा स्थान को साफ करने के बाद भगवान शिव की प्रतिमा या शिवलिंग स्थापित करें. भगवान शिव को जल, दूध, घी, बेलपत्र, धतूरा, फल, फूल आदि अर्पित करने का महत्व है. शिव चालीसा का पाठ करें या "ॐ नमः शिवाय" मंत्र का जाप करें. धूप, दीप जलाकर भगवान शिव की आरती उतारें. भोग लगाकर सभी को प्रसाद बांटें. दिनभर व्रत रखें और सात्विक भोजन करें. शाम को शिव आरती करें और फिर व्रत खोलें.

सोमवार के उपाय 

ज्योतिष शास्त्र में, सोमवार को किए गए कुछ उपाय अत्यंत प्रभावशाली माने जाते हैं. इन उपायों से शादी, नौकरी, बिज़नेस, शत्रुओं से परेशानी और बीमारी जैसी समस्याओं से निजात मिल सकती है.

1. शादी में आ रही अड़चनों को दूर करने के लिए

गौरी-शंकर पूजा: सोमवार को भगवान शिव और पार्वती की गौरी-शंकर रूप में पूजा करें. इनकी प्रतिमाओं या शिवलिंग पर चंदन, फूल, बेलपत्र और फल अर्पित करें. "ॐ गौरीशंकरार्पणाभ्यं नमः" मंत्र का जाप करें. अपने घर में भगवान शिव और पार्वती के विवाह का चित्र स्थापित करें. प्रतिदिन इनकी पूजा करें और सुखी वैवाहिक जीवन की कामना करें. किसी मंदिर में जाकर माता गौरी को लाल चुनरी अर्पित करें.

2. नौकरी प्राप्ति के लिए

सोमवार को सूर्यदेव की पूजा करें. इनको लाल फूल, गेहूं और गुड़ अर्पित करें. "ॐ सूर्यनारायणाय नमः" मंत्र का जाप करें. भगवान गणेश को बुद्धि और विद्या का देवता माना जाता है. इनकी पूजा करने से नौकरी प्राप्ति में सहायता मिलती है. सोमवार को पीपल के पेड़ की जड़ में जल, दूध और घी अर्पित करें. पेड़ को परिक्रमा करें और नौकरी प्राप्ति की प्रार्थना करें.

3. बिज़नेस में वृद्धि के लिए

भगवान शिव को शंख से जल अर्पित करें. माता लक्ष्मी को धन और समृद्धि की देवी माना जाता है. इनकी पूजा करने से बिज़नेस में वृद्धि होती है. अपने बिज़नेस स्थान पर गोमती चक्र स्थापित करें. 

4. शत्रुओं से परेशानी से मुक्ति के लिए

हनुमान जी को शक्ति और पराक्रम का देवता माना जाता है. इनकी पूजा करने से शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है. भगवान शिव के वाहन नंदी जी को भी शत्रुओं पर विजय प्राप्ति के लिए पूजा जाता है. "ॐ दुर्गे देवी नमः" मंत्र का जाप करने से शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है.

5. बीमारी से मुक्ति के लिए

सोमवार को किसी शिव मंदिर में जाकर दीप जलाएं और भगवान शिव से स्वास्थ्य लाभ की प्रार्थना करें. किसी बहते हुए जल में नारियल फोड़ें और बीमारी से मुक्ति की प्रार्थना करें. गायत्री मंत्र का जाप करने से रोगों से मुक्ति मिलती है.
 
इन उपायों के अलावा भी सोमवार को कुछ अन्य कार्य किए जा सकते हैं, जैसे दान-पुण्य करें इससे पुण्य प्राप्त होता है और ग्रहों की शांति होती है. सोमवार को भगवान शिव का व्रत रखने से मनोकामना पूर्ण होती है और मन को शांति मिलती है. सोमवार व्रत रखने से भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है. पापों का नाश होता है और मन शुद्ध होता है. रोगों से मुक्ति मिलती है और स्वास्थ्य लाभ होता है. ग्रहों के दोष दूर होते हैं और ग्रह अनुकूल होते हैं. भय और चिंता दूर होती है और मन में शांति प्राप्त होती है. वैवाहिक जीवन में सुख-समृद्धि प्राप्त होती है. व्यापार-व्यवसाय में वृद्धि होती है. जीवन में सफलता और खुशहाली प्राप्त होती है. 

यह भी पढ़ें: Char Dham Yatra: चार धाम की यात्रा कहां से और कैसे शुरू करें, यहां जानें पूरी डिटेल 

Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)