logo-image
लोकसभा चुनाव

Holi Bhai Dooj 2024: होली के बाद कब है भाई दूज, जाने इसकी पौराणिक कहानी 

Holi Bhai Dooj 2024: होली के दो दिन बाद आने वाली भाई दूज का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है. इसे क्यों मनाया जाता है इसकी पौराणिक कहानी क्या है आइए जानते हैं.

Updated on: 26 Mar 2024, 10:43 AM

नई दिल्ली:

Holi Bhai Dooj 2024: भाई दूज, जिसे भ्रातृ द्वितीया और यम द्वितीया भी कहा जाता है, हिंदुओं का एक महत्वपूर्ण त्योहार है. यह त्योहार होली के दो दिन बाद मनाया जाता है. भाई दूज का त्योहार भाई-बहन के प्यार और स्नेह का प्रतीक है. इस दिन बहनें अपने भाई को तिलक लगाकर उनकी लंबी उम्र और खुशहाली की कामना करती हैं. भाई भी अपनी बहनों को उपहार देकर और उनकी रक्षा का वचन देकर उनका सम्मान करते हैं. भाई दूज के इतिहास के बारे में कई कहानियां प्रचलित हैं. भाई दूज, जिसे भाई टीका भी कहा जाता है, हिंदुओं का एक महत्वपूर्ण त्योहार है. यह त्योहार होली के दो दिन बाद मनाया जाता है. इस दिन बहनें अपने भाई को तिलक लगाकर उनकी लंबी उम्र और खुशहाली की कामना करती हैं. भाई भी अपनी बहनों को उपहार देकर और उनकी रक्षा का वचन देकर उनका सम्मान करते हैं.

होली 2024 के बाद भाई दूज: तिथि, समय और महत्व

होली 2024: 25 मार्च 2024

भाई दूज 2024: 27 मार्च 2024

भाई दूज का शुभ मुहूर्त

पहला मुहूर्त: सुबह 08:36 बजे से 10:25 बजे तक

दूसरा मुहूर्त: दोपहर 03:31 बजे से शाम 05:04 बजे तक

भाई दूज की पूजा विधि: भाई दूज के दिन, बहनें अपने भाई को स्नान करवाकर उन्हें नए कपड़े पहनाती हैं. फिर, बहनें अपने भाई के माथे पर तिलक लगाती हैं और  उनकी आरती उतारती हैं. इसके बाद, भाई अपनी बहनों को उपहार देते हैं और उनका आशीर्वाद लेते हैं.

होली भाई दूज की पौराणिक कथा 

पहली कहानी: इस कहानी के अनुसार, यमदेव और यमुना भाई-बहन थे. यमुना अपने भाई से बहुत प्यार करती थीं. एक बार यमदेव यमुना से मिलने आए. यमुना ने अपने भाई का स्वागत किया और उन्हें भोजन करवाया. यमदेव यमुना के प्यार से बहुत प्रसन्न हुए और उन्होंने यमुना से वरदान मांगने को कहा. यमुना ने वरदान मांगा कि हर साल यमदेव धरती पर आकर उनसे मिलें. यमदेव ने यमुना का वरदान स्वीकार किया और तब से यह त्योहार मनाया जाता है.

दूसरी कहानी: इस कहानी के अनुसार, सूर्यदेव की पत्नी संज्ञा ने अपनी छाया छाया को अपने बच्चों यम, यमुना, शनि की देखभाल करने के लिए कहा. छाया यम से बहुत प्यार करती थीं. एक बार यम ने छाया से पूछा कि आप मुझसे इतना प्यार क्यों करती हैं? छाया ने कहा कि क्योंकि तुम मेरे पुत्र हो. यम यह सुनकर बहुत क्रोधित हो गए और उन्होंने छाया को शाप दिया कि तुम हमेशा के लिए पृथ्वी पर रहोगी. छाया ने यम से क्षमा मांगी, लेकिन यम ने अपना शाप वापस नहीं लिया. यमुना को जब यह पता चला तो वह बहुत दुखी हुईं. उन्होंने यम से विनती की कि वे छाया को क्षमा कर दें. यम ने यमुना की विनती स्वीकार कर ली और कहा कि हर साल एक दिन यम धरती पर आकर छाया से मिलेंगे. यह दिन भाई दूज के रूप में मनाया जाता है.

भाई दूज का त्योहार भाई-बहन के प्यार और स्नेह का प्रतीक है. यह त्योहार हमें सिखाता है कि हमें अपने भाई-बहनों का सम्मान करना चाहिए और उनकी रक्षा करनी चाहिए.  

Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)