logo-image
लोकसभा चुनाव

Sanatan Dharma: सनातन धर्म में क्या हैं दूसरी शादी के नियम, जानें इजाजत है या नहीं 

Sanatan Dharma: विवाह एक लंबे समय से चली आ रही प्रथा है जो वैदिक सभ्यता के समय से ही प्रचलित है और कई विविधताओं के साथ आज भी जारी है.आइए जानें सनातन धर्म में क्या हैं सादी के नियम.

Updated on: 18 Apr 2024, 06:17 PM

नई दिल्ली :

Sanatan Dharma: सनातन धर्म में दूसरी शादी के नियमों को समझने के लिए, हमें यह जानना होगा कि विवाह को किस दृष्टि से देखा जाता है. हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 के अनुसार, भारत में हिन्दू धर्म के अनुयायियों के लिए एकपत्नीत्व का नियम लागू होता है. इसका अर्थ है कि एक ही समय में एक पुरुष केवल एक महिला से विवाहित हो सकता है और एक ही समय में एक महिला केवल एक पुरुष से विवाहित हो सकती है. हर व्यक्ति और हर परिस्थिति अलग होती है. यह जानकारी केवल सामान्य जानकारी के लिए है और इसे कानूनी सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए. दूसरी शादी करने का निर्णय लेने से पहले आपको अपने धर्मगुरु, परिवार और वकील से सलाह लेनी चाहिए.

इस नियम के कुछ अपवाद भी हैं

अगर पति या पत्नी की मृत्यु हो जाती है, तो जीवित साथी दूसरी शादी कर सकता है.

अगर पति या पत्नी लापता हो जाता है और 7 साल तक उसका पता नहीं चलता है, तो जीवित साथी दूसरी शादी कर सकता है.

अगर पति या पत्नी क्रूरता या त्याग का दोषी ठहराया जाता है, तो जीवित साथी दूसरी शादी कर सकता है.

धार्मिक दृष्टिकोण से

हिंदू धर्म में विवाह को एक पवित्र बंधन माना जाता है जो सात जन्मों तक चलता है. दूसरी शादी को "विधवा विवाह" या "विधुर विवाह" कहा जाता है. कुछ हिंदू समुदायों में, विधवा विवाह को सामाजिक रूप से स्वीकार नहीं किया जाता है, जबकि कुछ समुदायों में इसे स्वीकार किया जाता है. दूसरी शादी के लिए धार्मिक अनुष्ठान भी भिन्न हो सकते हैं. ये नियम और सामाजिक स्वीकृतियां कई समुदायों और क्षेत्रों में अलग हो सकती हैं. दूसरी शादी करने से पहले, कानूनी और धार्मिक पहलुओं पर विचार करना महत्वपूर्ण है, साथ ही अपने परिवार और समुदाय से भी सलाह लेनी चाहिए. सनातन धर्म में दूसरी शादी एक जटिल विषय है जिसमें कानूनी, धार्मिक और सामाजिक पहलू शामिल हैं.  दूसरी शादी करने से पहले, सभी पहलुओं पर ध्यानपूर्वक विचार करना और कानूनी सलाह लेना महत्वपूर्ण है.

 Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)

ये भी पढ़ें: Vastu Tips to Attract Money: घर के मंदिर में रखें ये एक चीज़, पूजा करते ही बढ़ने लगेगी आमदनी