logo-image
लोकसभा चुनाव

Pradosh Vrat 2024: वैशाख मास का प्रदोष व्रत कब? इस मुहूर्त में करें पूजा, चमक उठेगी किस्मत

Vaishakh Pradosh Vrat 2024 Date: प्रदोष व्रत भगवान शिव को समर्पित एक महत्वपूर्ण हिंदू व्रत है. यह व्रत हर महीने की शुक्ल और कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को रखा जाता है.

Updated on: 19 May 2024, 05:23 PM

नई दिल्ली:

Vaishakh Pradosh Vrat 2024 Date: प्रदोष व्रत भगवान शिव को समर्पित एक महत्वपूर्ण हिंदू व्रत है. यह व्रत हर महीने की शुक्ल और कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को रखा जाता है. इस दिन शिव जी और माता पार्वती की पूजा की जाती है. मान्यता है कि जो भी जातक इस व्रत को करता है उसके जीवन की सारी परेशानियां दूर हो जाती हैं और भगवान शिव से सुख-समृद्धि का आशीर्वाद मिलता है. इसके साथ ही जातकों को मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है.ऐसे में आइए जानते हैं वैशाख मास और मई माह का दूसरा का प्रदोष व्रत  (Pradosh Vrat) कब रखा जाएगा. साथ ही जानिए पूजा शुभ मुहूर्त औऱ महत्व के बारे में. 

वैशाख मास का प्रदोष व्रत कब?  (Vaishakh Pradosh Vrat 2024 Kab Hai)

पंचांग के अनुसार, इस बार वैशाख मास और मई माह का दूसरा प्रदोष व्रत कल यानी 20 मई दिन सोमवार को रखा जाएगा. सोमवार होने की वजह से यह सोम प्रदोष व्रत कहलाएगा. 
बता दें कि सोमवार का व्रत भोलेनाथ के लिए किया जाता है और प्रदोष व्रत भी भगवान शिव को समर्पित होता है. ऐसे में इस दिन का महत्व और अधिक बढ़ गया है. 

सोम प्रदोष व्रत शुभ मुहूर्त (Som Pradosh Vrat 2024 Shubh Muhurat)

इस दिन पूजा के लिए शुभ मुहूर्त सुबह 7 बजकर 9 मिनट से 9 बजकर 12 मिनट तक है. अगर आप इस मुहूर्त में पूजा करेंगे तो इससे आपको बहुत लाभ मिलेगा. इसके साथ ही आप पर शिव जी की कृपा भी बरसेगी.
 
प्रदोष व्रत 2024 महत्व (Pradosh Vrat 2024 Importance)

पौराणिक कथाओं के अनुसार, प्रदोष व्रत रखने से भगवान शिव और माता पार्वती की कृपा प्राप्त होती है. इस व्रत को रखने से जातकों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं, ग्रह-दोषों से मुक्ति मिलती है और पापों का नाश होता है. इसके साथ ही भगवान महादेव भक्त के कष्टों को दूर करते हैं और धन-बुद्धि का आशीर्वाद देते हैं. 

Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)