News Nation Logo
Banner

अयोध्या में मस्जिद निर्माण के लिए ट्रस्ट ने मांगे दान, जारी किए बैंक डिटेल्स

सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा गठित मस्जिद ट्रस्ट ने बड़े पैमाने पर लोगों से दान लेने के लिए बैंक डिटेल्स जारी कर दी हैं. ट्रस्ट धनीपुर गांव में मिली 5 एकड़ जमीन पर मस्जिद के अलावा गैर-मुस्लिमों के लिए अस्पताल, सामुदायिक रसोई और पुस्तकालय बनवाने जा रहा है.

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Mishra | Updated on: 31 Aug 2020, 04:26:26 PM
2

अयोध्या में मस्जिद निर्माण के लिए ट्रस्ट ने मांगे दान (Photo Credit: IANS)

नई दिल्ली:

यूपी सुन्नी वक्फ बोर्ड (UP Sunni Waqf Board) द्वारा गठित मस्जिद ट्रस्ट (Mosque Trust) ने बड़े पैमाने पर लोगों से दान लेने के लिए बैंक डिटेल्स (Bank Details) जारी कर दी हैं. ट्रस्ट बाबरी मस्जिद के एवज में धनीपुर गांव (Dhanipur Village) में मिली 5 एकड़ जमीन पर मस्जिद के अलावा गैर-मुस्लिमों के लिए अस्पताल, सामुदायिक रसोई और पुस्तकालय का भी निर्माण कर रहा है. इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन (IICF) नाम के इस ट्रस्ट ने दान प्राप्त करने के लिए दो प्रमुख निजी बैंकों में दो करंट अकाउंट खोले हैं.

ट्रस्ट के सचिव अतहर हुसैन ने कहा, "हम धनीपुर परिसर को सांप्रदायिक सद्भाव का अनूठा उदाहरण और चिकित्सा, शिक्षण और प्रार्थना का केंद्र बनाने के लिए सभी समुदायों से दान स्वीकार करेंगे. हमने दान प्राप्त करने के लिए वेबसाइट और पोर्टल बनाने का फैसला किया है क्योंकि दान देने के इच्छुक लोग लगातार हमसे संपर्क कर रहे हैं."

उन्होंने आगे कहा, "हम सरकार से भी वित्तीय सहायता की उम्मीद करते हैं. बल्कि असम के एक सांसद अब्दुल खालिक ने हमें दान देने की पेशकश की है. हमें मुसलमानों और हिंदुओं के भी संदेश मिल रहे हैं, जो मस्जिद और अन्य सुविधाओं के लिए धन देना चाहते हैं."

वहीं राम मंदिर निर्माण की देखरेख करने वाले श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट ने पहले ही मंदिर निर्माण के लिए दान लेने के लिए बैंक खाते खोल लिए हैं.

बता दें कि इंडो-इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन का गठन नौ सदस्यों के साथ किया गया था. अभी इसमें छह सदस्य और जोड़े जाएंगे. यह ट्रस्ट मस्जिद के निर्माण और अयोध्या में कॉम्प्लेक्स की देखरेख करेगा.

First Published : 31 Aug 2020, 04:26:26 PM

For all the Latest Religion News, Dharm News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.