News Nation Logo

Shardiya Navratri 2022 Jau Auspicious and Inauspicious Signs: नवरात्र के दौरान घर में बोई जाने वाली जौ बताती है आपका भविष्य, आकार और रंग से मिलते हैं ये गंभीर संकेत

News Nation Bureau | Edited By : Gaveshna Sharma | Updated on: 18 Sep 2022, 12:20:07 PM
Shardiya Navratri 2022 Jau Auspicious and Inauspicious Signs

नवरात्र के दौरान घर में बोई जाने वाली जौ बताती है आपका भविष्य (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली :  

Shardiya Navratri 2022 Jau Auspicious and Inauspicious Signs: शारदीय नवरात्रि की शुरुआत 26 सितंबर से हो रही है. इस बार नवरात्रि 9 दिन मनाई जाएगी. शारदीय नवरात्री 25 सितंबर से 5 अक्टूबर 2022 तक चलेगी. नवरात्रि के 9 दिन माँ दुर्गा के 9 रूपों की पूजा की जाती है. क्या मंदिर और क्या घर, पृथ्वी का कण कण माँ दुर्गा के जयकारे से गूँज उठता है. वहीं, नवरात्र के पहले दिन कलश स्थापना के साथ जवारे (जौ) बोए जाते हैं. यूं तो ये जौ घर में समृद्धि का प्रतीक माने जाते हैं. लेकिन इनके माध्यम से कई शुभ और अशुभ संकेत भी मिलते हैं. ऐसे आइए जानते हैं कैसे जौ (जवारे) देते हैं भिन्न भिन्न प्रकार के संकेत. 

यह भी पढ़ें: Shardiya Navratri 2022 Ghatsthapna Samagri aur Jau Mahatva: शारदीय नवरात्रि पर इस संपूर्ण सामग्री लिस्ट के साथ माता रानी के स्वागत के लिए हो जाएं तैयार

नवरात्रि के जवारे देते हैं ये संकेत
- अगर अंकरित जौ का रंग नीचे से पीला और ऊपर से हरा है. माना जाता है कि साल का आधा समय अच्छा और आधा समय खराब बीतेगा.
- जौ सफेद या हरे रंग की उगती है तो यह शुभ संकेत है.
- जौ अंकुरित होने के बाद झड़ने लगे तो यह अशुभ संकेत है.
- यदि जौ बोने के तीन दिनों बाद उगने लगे और हरी-भरी हो जाए. इसे शुभ माना जाता है.
- जवारे की बढ़ोतरी तेजी से हो तो माना जाता है कि देवी की कृपा से सुख-समद्धि आएगी.
- जौ पीले रंग में उगने से घर में खुशियां आने के संकते हैं.
- जवारे आने वाले समय कई कठिन परिस्थितियों के संकेत देते हैं.
- अगर जवारे ठीक से नहीं उगते हैं, तो इसे अशुभ माना गया है.
- जवारे सुखे उगे तो यह कठिन समय की ओर इशारा करता है.
- जवारे सूखे और पीली होकर झड़ने लगे तो ये अशुभ संकेत होता है.

First Published : 18 Sep 2022, 12:20:07 PM

For all the Latest Religion News, Dharm News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.