News Nation Logo
Banner

Sharad Purnima 2022 Katha: शरद पूर्णिमा पर जरूर सुनें ये पुण्यफलदायी कथा, वैवाहिक जीवन के कष्ट हो जाएंगे दूर

News Nation Bureau | Edited By : Gaveshna Sharma | Updated on: 07 Oct 2022, 04:35:40 PM
Sharad Purnima 2022 Katha

शरद पूर्णिमा की कथा काटेगी वैवाहिक जीवन के सभी कष्ट (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली :  

Sharad Purnima 2022 Katha: हिंदू पंचांग के अनुसार, आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को शरद पूर्णिमा मनाई जाती है. इस बार शरद पूर्णिमा 9 अक्टूबर, रविवार को पड़ रही है. हिन्दू धर्म ग्रंथों में शरद पूर्णिमा का अत्यधिक महत्व है. माना जाता है कि इस दिन चंद्रमा पूरी 16 कलाओं से परिपूर्ण होता है. इसके साथ ही, शरद पूर्णिमा के दिन ही समुद्र मंथन से मां लक्ष्मी प्रकट हुई थीं. इसी कारण से शरद पूर्णिमा के दिन चंद्र देव के साथ साथ मां लक्ष्मी की पूजा का भी विधान है. मान्यताओं के अनुसार, जो भी व्यक्ति शरद पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी और चंद्रदेव की पूर्ण श्रद्धा से पूजा करता है उसके जीवन में धन का अभाव और स्वास्थ खराब कभी नहीं होता. मात्र शरद पूर्णिमा के दिन ही मां लक्ष्मी वैकुण्ठ धाम छोड़ धरती पर पूरा दिन वास करती हैं. ऐसे में चलिए जानते हैं शरद पूर्णिमा की कथा के बारे में. 

यह भी पढ़ें: Sharad Purnima 2022 Puja Vidhi aur Mantra: शरद पूर्णिमा पर मां लक्ष्मी और चंद्र देव की ये पूजा विधि दिलाएगी हर रोग से मुक्ति, मंत्रों के जाप से दूर होगी मन की चिंता

शरद पूर्णिमा 2022 कथा (Sharad Purnima 2022 Katha)
हर महीने में पड़ने वाली पूर्णिमा तिथि पर व्रत करने से भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की विशेष कृपा प्राप्त होती है. मां लक्ष्मी और भगवान विष्णु का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए एक साहूकार की दो बेटियां महीने में आने वाली हर पूर्णिमा को व्रत किया करती थीं. इन दोनों बेटियों में बड़ी बेटी पूर्णिमा का व्रत पूरे विधि-विधान से किया करती थी. जबकि छोटी बेटी व्रत तो करती थी लेकिन नियमों का पूरी तरह पालन नहीं करती थी. नियमों को आडंबर मानकर उनकी अनदेखी करती थी.

जैसी ही दोनों बेटी बड़ी हुई साहूकार ने दोनों बेटियों का विवाह कर दिया. बड़ी बेटी के घर समय पर स्वस्थ संतान का जन्म हुआ. छोटी बेटी को भी संतान हुई लेकिन, उसकी संतान ने जन्म लेते ही दम तोड़ दिया. जब उसके साथ ऐसा दो से तीन बार हो गया तो उसने एक ब्राह्मण को बुलाकर अपनी पूरी व्यथा सुनाई साथ ही इसका उपाय बताने के लिए भी कहा. उसकी सारी बात सुनकर और कुछ प्रश्न पूछने के बाद ब्राह्मण ने उससे कहा कि तुम पूर्णिमा का अधूरा व्रत करती हो, इस कारण तुम्हे व्रत का पूरा फल नहीं मिल रहा है और तुम्हे अधूरे व्रत का दोष लगा है. ब्राह्मण की बात सुनकर छोटी बेटी ने पूर्णिमा व्रत पूरे विधि-विधान से करने का निर्णय लिया.

लेकिन पूर्णिमा आने से पहले ही उसने एक बेटे को जन्म दिया. जन्म लेते ही बेटे की मृत्यु हो गई. इस पर उसने अपने बेटे के शव को एक पीढ़े पर रख दिया और ऊपर से एक कपड़ा इस तरह ढक दिया कि किसी को पता न चले. फिर उसने अपनी बड़ी बहन को बुलाया और बैठने के लिए वही पीढ़ा दे दिया. जैसे ही बड़ी बहन उस पीढ़े पर बैठने लगी, उसके लहंगे की किनारी बच्चे को छू गई और वह जीवित होकर तुरंत रोने लगा. इस पर बड़ी बहन पहले तो डर गई और फिर छोटी बहन पर क्रोधित होकर उसे डांटने लगी कि क्या तुम मुझ पर बच्चे की हत्या का दोष और कलंक लगाना चाहती हो! मेरे बैठने से यह बच्चा मर जाता तो?

इस पर छोटी बहन ने उत्तर दिया, यह बच्चा मरा हुआ तो पहले से ही था. दीदी, तुम्हारे तप और स्पर्श के कारण तो यह जीवित हो गया है. पूर्णिमा के दिन जो तुम व्रत और तप किया करती हो, उसके कारण तुम दिव्य तेज से परिपूर्ण और पवित्र हो गई हो. अब मैं भी तुम्हारी ही तरह व्रत और पूजन करूंगी. इसके बाद उसने पूर्णिमा व्रत विधि विधान से किया और इस व्रत के महत्व और फल का पूरे नगर में प्रचार किया. तो इस प्रकार मां लक्ष्मी और भगवान विष्णु ने साहूकार की बड़ी बेटी की कामना पूर्ण कर सौभाग्य प्रदान किया और छोटी बेटी के भी आगे चलकर भाग खुल गए. 

First Published : 07 Oct 2022, 04:35:40 PM

For all the Latest Religion News, Dharm News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.