News Nation Logo

Sawan Vinayak Chaturthi 2022 Chandra Darshan Varjit: विनायक चतुर्थी पर चंद्र दर्शन से जुड़ा है श्री कृष्ण के विवाह का रहस्य, श्राप के कारण चोरी का लग गया था आरोप

News Nation Bureau | Edited By : Gaveshna Sharma | Updated on: 31 Jul 2022, 03:45:35 PM
ganesh n1

विनायक चतुर्थी पर चंद्र दर्शन से जुड़ा है श्री कृष्ण के विवाह का रहस्य (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली :  

Sawan Vinayak Chaturthi 2022 Chandra Darshan Varjit: हर माह के दोनों पक्षों की चतुर्थी भगवान गणेश को समर्पित है. कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी के नाम से जाना जाता है. वहीं, शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी कहा जाता है. सावन में विनायक चतुर्थी 1 अगस्त, सोमवार की पड़ रही है. इस बार भगवान शिव और गणेश जी की पूजा-अर्चना साथ ही की जाएगी. इस दिन व्रत रखकर आप भोलेनाथ के साथ गणेश जी का भी आशीर्वाद पा सकेंगे.

यह भी पढ़ें: Sawan Vinayak Chaturthi 2022 Puja Vidhi: विनायक चतुर्थी पर गणपति की ये पूजा विधि, दिला सकती है आपको संकटों से मुक्ति

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सावन का महीना शिव परिवार की पूजा के लिए बहुत लाभकारी माना गया है. ऐसे में विनायक चतुर्थी पर गणेश जी का आशीर्वाद पाने का विशेष अवसर है. विनायक चतुर्थी के दिन रवि योग का निर्माण हो रहा है. मान्यता है कि इस दिन चंद्र दर्शन नहीं किए जाते हैं. आइए जानते हैं इसकी कथा के बारे में.   

इस दिन भूल से भी न करें चंद्र दर्शन
शास्त्रों में निहित है कि विनायक चतुर्थी के दिन चंद्र दर्शन वर्जित होते हैं. द्वापर युग में भगवान श्री कृष्ण से जुड़ी हुई एक घटना है. एक बार श्री कृष्ण ने विनायक चतुर्थी पर चंद्रमा को देख लिया था, जिसके बाद उन पर स्यामंतक मणि चोरी करने का झूठा आरोप लगा था.

अपने इस झूठ को गलत साबित करने के लिए श्री कृष्ण को जामवंत से कई दिनों तक युद्ध करना पड़ा था. इसके बाद श्री कृष्ण उस झूठ से मुक्त हो गए थे और जामवंत ने अफनी पुत्री जामवंती का विवाह श्री कृष्ण से कर दिया था. तब से ही विनायक चतुर्थी के दिन चंद्र दर्शन करने की मनाही है. 

First Published : 31 Jul 2022, 03:45:35 PM

For all the Latest Religion News, Dharm News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.