News Nation Logo

Sawan Masik Shivratri 2022 Puja Vidhi: प्रेम विवाह में आ रही अड़चनों की रामबाण काट है मासिक शिवरात्रि, अपनाएं ये सरल पूजा विधि

News Nation Bureau | Edited By : Gaveshna Sharma | Updated on: 25 Jul 2022, 10:41:41 AM
Sawan Masik Shivratri 2022 Puja Vidhi

प्रेम विवाह में आ रही अड़चनों की रामबाण काट है मासिक शिवरात्रि (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली :  

Sawan Masik Shivratri 2022 Puja Vidhi: हिंदू पंचांग में हर साल में 12 शिवरात्रि होती हैं, लेकिन इनमें से दो शिवरात्रि को खास महत्व दिया जाता है. इनमें सबसे प्रमुख फाल्गुन मास की शिवरात्रि मानी जाती है, जिसे महाशिवरात्रि भी कहा जाता है.  वहीं इसके अलावा दूसरी महत्वपूर्ण शिवरात्रि सावन की मानी जाती है. इस समय सावन का पवित्र महीना चल रहा है. मंदिरों में बम-बम बोले के जयकारे सुनाई दे रहे हैं. ये महीना भगवान भोले को समर्पित होता है. इस साल सावन माह की शिवरात्रि 26 जुलाई 2022 दिन, मंगलवार को मनाई जाएगी. सावन में विधि-विधान से भोले बाबा की पूजा-अर्चना की जाती है. हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है.

यह भी पढ़ें: Bonsai Tree Vastu Tips: बोनसाई का पेड़ लगाने के जानें लाभ, स्वास्थ्य को रखे ठीक और मन को करे शांत

सावन 2022 मासिक शिवरात्रि पूजा विधि (Sawan Masik Shivratri 2022 Puja Vidhi)

- मासिक शिवरात्रि तथा चतुर्दशी के दिन सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करके भगवान शिव का ध्यान करें तथा व्रत का संकल्प लें.

- पूजन के दौरान शिवलिंग पर जल, दूध, गंगाजल (यदि उपलब्ध हो तो) शकर, घी, शहद और दही अर्पित करके पूजन करें.

- पुष्प, बिल्वपत्र, धतूरा आदि भी चढ़ाएं

- भगवान शिव के साथ देवी पार्वती की आरती करें

- मिठाई का भोग लगाएं

- शिव के मंत्र- ॐ नम: शिवाय। शिवाय नम: । ॐ नमः शिवाय शुभं शुभं कुरू कुरू शिवाय नमः ॐ । आदि का जाप अधिक से अधिक करें.

- शिव-पार्वती की पूजा करने के बाद रात्रि जागरण तथा अगले दिन प्रात: स्नानादि से निवृत्त होकर पूजन करके ब्राह्मण को दान-दक्षिणा दें और पारणा करके व्रत को पूर्ण करें.

First Published : 25 Jul 2022, 10:37:39 AM

For all the Latest Religion News, Dharm News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.