logo-image
लोकसभा चुनाव

Ram Navami 2024: भगवान राम के जीवन से सीखें 6 बड़ी बातें, भविष्य होगा उज्ज्वल

Ram Navami 2024: भगवान राम के जीवन से हमें ये 6 बड़ी बातें सीखनी चाहिए. इन गुणों को अपनाकर हम अपने जीवन को सफल और सार्थक बना सकते हैं.

Updated on: 12 Apr 2024, 03:13 PM

नई दिल्ली :

Ram Navami 2024: भगवान राम के जीवन से सीखे जाने वाले महत्वपूर्ण धर्म और जीवन के कई पाठ हैं. राम नवमी हिन्दू धर्म में भगवान राम के जन्म दिवस के रूप में मनायी जाती है. यह त्योहार चैत्र मास के नवमी तिथि को सम्पूर्ण भारतवर्ष में धूमधाम से मनाया जाता है. भगवान राम, विष्णु के एक अवतार माने जाते हैं, जो सत्य, धर्म, और परम आदर्शों की प्रतिष्ठा करते हैं. उनके जीवन की कथाएं और कार्यक्षेत्र विशेष रूप से हमें धार्मिकता, नैतिकता, और सामाजिक उत्कृष्टता की महत्वपूर्ण सीखें देती हैं. राम नवमी के दिन लोग भगवान राम का जन्मदिन मनाते हैं.

इस दिन मंदिरों में भजन-कीर्तन की धूमधाम से होती है, और लोग धार्मिक पाठ-पूजा करते हैं. उन्हें समर्पित किए जाने वाले प्रसाद भी बांटे जाते हैं. राम नवमी को अत्यंत पवित्र माना जाता है और इस दिन धर्मिक उत्सव के रूप में लोग अपने घरों को सजाते हैं. विशेष रूप से बालकृष्ण और रामलीला का आयोजन किया जाता है जिसमें भगवान राम की जीवन कथा का प्रस्तुतिकरण किया जाता है. राम नवमी के दिन लोग अपने घरों में पूजा-अर्चना करते हैं और भगवान राम को फल-फूल, प्रसाद, और विशेष भोग चढ़ाते हैं. इस दिन को मनाकर लोग धर्मिकता, नैतिकता, और सदाचार की ओर अपने कदम बढ़ाते हैं और अपने जीवन को भगवान के आदर्शों के अनुसार जीते हैं.

1. धर्म के प्रति समर्पण: रामायण में राम को मर्यादा पुरुषोत्तम के रूप में जाना जाता है. उन्होंने हमेशा धर्म का पालन किया, चाहे परिस्थिति कितनी भी कठिन क्यों न हो. उन्होंने अपने वनवास के दौरान वनवासियों की रक्षा की और राज्य प्राप्ति के बाद प्रजा का पालन-पोषण किया. इससे हमें यह सीख मिलती है कि कठिन समय में भी धर्म के मार्ग पर चलना चाहिए.

2. कर्तव्यनिष्ठा: राम अपने कर्तव्यों के प्रति अत्यंत समर्पित थे. उन्होंने अपने पिता राजा दशरथ के आदेश का पालन करते हुए 14 साल का वनवास स्वीकार किया. उन्होंने अपने भाई लक्ष्मण, सीता और हनुमान जैसे लोगों के प्रति भी अपने कर्तव्यों को निभाया. इससे हमें यह सीख मिलती है कि हमें अपने कर्तव्यों को ईमानदारी से पूरा करना चाहिए, चाहे वे हमारे लिए कितने भी कठिन क्यों न हों.

3. आदर्श पुत्र: राम अपने पिता राजा दशरथ के प्रति आदर्श पुत्र थे. उन्होंने हमेशा अपने पिता का सम्मान किया और उनकी आज्ञा का पालन किया. भले ही उन्हें वनवास जाना पड़ा, उन्होंने कभी अपने पिता के निर्णय पर प्रश्न नहीं उठाया. इससे हमें यह सीख मिलती है कि हमें अपने माता-पिता का आदर करना चाहिए और उनकी आज्ञा का पालन करना चाहिए.

4. आदर्श पति: राम सीता के प्रति एक आदर्श पति थे. उन्होंने सीता का हमेशा सम्मान किया और उनकी रक्षा की. वनवास के दौरान भी उन्होंने सीता का साथ नहीं छोड़ा. रावण द्वारा सीता के अपहरण के बाद, उन्होंने अथक प्रयास करके सीता को वापस लाया. इससे हमें यह सीख मिलती है कि हमें अपने जीवनसाथी का सम्मान करना चाहिए, उनकी रक्षा करनी चाहिए और उनके प्रति वफादार रहना चाहिए.

5. क्षमाशीलता: भगवान राम बहुत ही क्षमाशील थे. उन्होंने अपने दुश्मनों को भी क्षमा कर दिया. उदाहरण के लिए, उन्होंने रावण के भाई विभीषण को शरण दी. इससे हमें यह सीख मिलती है कि हमें दूसरों को क्षमा करना सीखना चाहिए, भले ही उन्होंने हमारे साथ गलत किया हो.

6. सत्यवादिता: राम हमेशा सत्यवादी थे. उन्होंने कभी झूठ नहीं बोला. उनके जीवन का हर कार्य सत्यनिष्ठा का प्रतीक है. इससे हमें यह सीख मिलती है कि हमें हमेशा सत्य बोलना चाहिए.

ये राम के जीवन के कुछ मुख्य पाठ हैं. हम इन पाठों को अपने जीवन में उतारकर एक धर्मी और आदर्श व्यक्ति बन सकते हैं.

 Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)

ये भी पढ़ें: Maa Kushmanda Ki Aarti: नवरात्रि के चौथे दिन जरूर पढ़ें ये आरती, मां कुष्मांडा की बरसेगी कृपा