logo-image

Saturday Puja: शनिदेव के साथ हनुमान जी की पूजा करने के लाभ जानिए

Saturday Puja: शनिदेव के साथ हनुमान जी की पूजा करने के कई लाभ होते हैं. शनिदेव को कर्मफल का प्रतिनिधित्व करने वाले ग्रह के रूप में जाना जाता है.

Updated on: 24 Feb 2024, 12:46 PM

नई दिल्ली :

Saturday Puja: शनिदेव के साथ हनुमान जी की पूजा करने के कई लाभ होते हैं. शनिदेव को कर्मफल का प्रतिनिधित्व करने वाले ग्रह के रूप में जाना जाता है. शनिदेव और हनुमान जी की दोस्ती हिंदू धर्म में एक प्रसिद्ध कहानी है. इस कहानी के अनुसार, हनुमान जी ने शनिदेव को अपनी पूंछ में बांध लिया था. ऐसा उन्होंने क्यों किया, इसके बारे में कई अलग-अलग कहानियां प्रचलित हैं.  एक कहानी के अनुसार हनुमान जी रावण से युद्ध में घायल हो गए थे. उनकी चोट का इलाज करने के लिए, उन्हें संजीवनी बूटी की आवश्यकता थी. संजीवनी बूटी एक पहाड़ पर थी, जिसकी रक्षा शनिदेव कर रहे थे. हनुमान जी ने शनिदेव से अनुरोध किया कि वे उन्हें पहाड़ पर जाने दें, लेकिन शनिदेव ने मना कर दिया. हनुमान जी क्रोधित हो गए और उन्होंने शनिदेव को अपनी पूंछ में बांध लिया. शनिदेव बहुत पीड़ित हुए और उन्होंने हनुमान जी से क्षमा मांगी. हनुमान जी ने शनिदेव को क्षमा कर दिया और उन्हें अपनी पूंछ से मुक्त कर दिया. एक अन्य कहानी के अनुसार रावण ने हनुमान जी को अपनी पूंछ में आग लगा दी थी. हनुमान जी ने अपनी जलती हुई पूंछ को लंका में घुमाया, जिससे लंका जल गई. रावण को हराने के बाद, हनुमान जी ने अपनी पूंछ को शांत करने के लिए शनिदेव की शरण ली. शनिदेव और हनुमान जी की दोस्ती हमें सिखाती है कि हमें हमेशा दूसरों की मदद करनी चाहिए, चाहे वे कितने भी शक्तिशाली या कमजोर क्यों न हों. हमें क्षमाशील होना चाहिए और दूसरों की गलतियों को माफ कर देना चाहिए. हमें क्रोध पर नियंत्रण रखना चाहिए और क्रोध में कोई भी कार्य नहीं करना चाहिए. 

शनिदेव के साथ हनुमान जी की पूजा करने के लाभ 

1. शनि की साढ़े साती और ढैय्या से बचाव:

शनिदेव को न्याय का देवता माना जाता है. शनि की साढ़े साती और ढैय्या व्यक्ति के जीवन में अनेक कष्ट और परेशानियां ला सकती हैं. शनिदेव के साथ हनुमान जी की पूजा करने से इन कष्टों और परेशानियों से बचाव होता है.

2. शनि ग्रह के नकारात्मक प्रभावों से बचाव:

शनि ग्रह को नकारात्मक प्रभावों वाला ग्रह माना जाता है. शनिदेव के साथ हनुमान जी की पूजा करने से शनि ग्रह के नकारात्मक प्रभावों से बचाव होता है.

3. शनि ग्रह की शुभता प्राप्ति:

शनिदेव के साथ हनुमान जी की पूजा करने से शनि ग्रह की शुभता प्राप्त होती है.

4. हनुमान जी की कृपा प्राप्ति:

हनुमान जी को भगवान राम का सबसे प्रिय भक्त माना जाता है. हनुमान जी को शक्ति और साहस का प्रतीक माना जाता है. हनुमान जी की पूजा करने से उनकी कृपा प्राप्त होती है.

5. भक्तों की मनोकामनाएं पूरी होती हैं:

शनिदेव और हनुमान जी दोनों ही भक्तों की मनोकामनाएं पूरी करते हैं.

6. घर में सुख-शांति और समृद्धि:

शनिदेव और हनुमान जी की पूजा करने से घर में सुख-शांति और समृद्धि आती है.

7. शत्रुओं पर विजय:

हनुमान जी को शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने का देवता माना जाता है. शनिदेव के साथ हनुमान जी की पूजा करने से शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है.

8. बुद्धि और विवेक में वृद्धि:

हनुमान जी को बुद्धि और विवेक का प्रतीक माना जाता है. शनिदेव के साथ हनुमान जी की पूजा करने से बुद्धि और विवेक में वृद्धि होती है.

9. स्वास्थ्य लाभ

शनिदेव और हनुमान जी की पूजा करने से स्वास्थ्य लाभ होता है.

10. मनोबल में वृद्धि

हनुमान जी को मनोबल का प्रतीक माना जाता है. शनिदेव के साथ हनुमान जी की पूजा करने से मनोबल में वृद्धि होती है.

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि पूजा विधि-विधान के साथ की जानी चाहिए. यदि आप शनिदेव और हनुमान जी की पूजा करना चाहते हैं, तो आपको किसी योग्य विद्वान से पूजा विधि के बारे में जानकारी प्राप्त करनी चाहिए. Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप visit करें newsnationtv.com/religion

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)