logo-image
लोकसभा चुनाव

Durga Saptashati Paath Niyam: इस तरह करते हैं दुर्गा सप्तशती का पाठ, हर मनोकामना होती है पूरी 

Durga Saptashati Path: दुर्गा सप्तशती के पाठ में बहुत शक्ति है. कहते हैं अगर आप सही विधि विधान से ये पाठ करते हैं तो आपकी मनोकामना जरूर पूरी होती है.

Updated on: 07 Dec 2023, 01:57 PM

New Delhi:

Durga Saptashati Path: दुर्गा माता शक्ति का प्रतीक है और दुर्गा सप्तशती का पाठ करने वाले व्यक्ति को भी कई रूपों में शक्तियां मिलती है. मान्यता है कि इस पाठ को पढ़ने से धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष चारों पुरुषार्थों की प्राप्ति होती है.  दुर्गा सप्तशती का पाठ हिन्दू धर्म में माँ दुर्गा की महिमा, शक्ति के गुणगान के लिए किया जाता है.दुर्गा सप्तशती के पाठ से अन्तरात्मा का शुद्धीकरण होता है. दुर्गा सप्तशती का पाठ कष्टों को नष्ट करता है. इस पाठ को पढ़ने से आध्यात्मिक उन्नति होती है. दुर्गा सप्तशती का पाठ हिन्दू धर्म में शक्ति की पूजा और माँ दुर्गा की महिमा के लिए महत्वपूर्ण (Durga Saptasati Path Importance) माना जाता है. यह पुराण में एक प्रमुख टुकड़ा है. 

1. स्थान चयन:

पाठ की शुरुआत एक शुद्ध और पवित्र स्थान पर करें।

यदि आप दुर्गा सप्तशती का पाठ नवरात्रि के दौरान कर रहे हैं, तो एक विशेष पूजा स्थली तैयार करें।

2. मुख्य पाठ:

दुर्गा सप्तशती के मुख्य पाठ को विभिन्न अध्यायों में विभाजित किया गया है। आप इसे पूरा कर सकते हैं या अपनी साधना के अनुसार कुछ विशेष अध्यायों का पाठ कर सकते हैं।

3. पूजा विधि:

पाठ से पहले माँ दुर्गा की मूर्ति या छवि को सजाकर उन्हें पूजें।

पूजा में दीप, अगरबत्ती, फूल, चावल, सिंदूर, कुंकुम, नैवेद्य, फल, और नीम के पत्ते का प्रयोग करें।

4. संकल्प:

माँ दुर्गा के सामने बैठकर एक संकल्प लें कि आप दुर्गा सप्तशती का पाठ कर रहे हैं और आपका उद्देश्य क्या है।

5. श्लोक पाठ:

पाठ का शुरुआत श्लोकों, ध्यानम्, स्तुति, बीजमन्त्र, विनियोग, और कीलकम् के पाठ से करें।

6. अध्याय वार पाठ:

फिर आप अध्याय वार पाठ कर सकते हैं, या जो भी अंश आपकी साधना के लिए उपयुक्त हो.

7. समापन:

पूजा और पाठ के समापन में माँ दुर्गा को धन्यवाद दें और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करें.

8. नियमों का पालन:

दुर्गा सप्तशती का पाठ करते समय, नियमों का पूर्ण पालन करें, जैसे कि व्रत, सात्विक आहार, और नीति नियमों का पालन करें।

ध्यान रखें कि यह साधना और पूजा को समर्पित करने से पहले आपको योग्य गुरु से सलाह लेनी चाहिए, और आपको इसे पूरी आदत के साथ और नियमित रूप से करना चाहिए।

Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप visit करें newsnationtv.com/religion

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं। न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है। इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है।)