News Nation Logo

जन्माष्टमी पर राधा-दामोदर मंदिर में दोपहर 12 बजे होता है जन्मोत्सव

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, भारत में ही नहीं बल्कि और भी कई देशों में भी बड़े हर्ष और उत्साह के साथ मनाई जाती है. कृष्ण जन्माष्टमी भगवान श्रीकृष्ण के जन्म दिवस के रूप में मनाई जाती है.

Lalsingh Fauzdar | Edited By : Rajneesh Pandey | Updated on: 28 Aug 2021, 10:15:22 AM
RADHA DAMODAR TEMPLE

राधा-दामोदर मंदिर में दोपहर 12 बजे होता है जन्मोत्सव (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • भारत के अलावा अन्य देशों में भी धूमधाम से मनायी जाती है जन्माष्टमी
  • राधा-दामोदर मंदिर में कृष्ण जन्मोत्सव दोपहर 12 बजे होता है
  • शाम को नंदोत्सव के रात 12 बजे से पहले ही मंदिर के पट हो जाते हैं बन्द

जयपुर:

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, भारत में ही नहीं बल्कि और भी कई देशों में भी बड़े हर्ष और उत्साह के साथ मनाई जाती है. कृष्ण जन्माष्टमी भगवान श्रीकृष्ण के जन्म दिवस के रूप में मनाई जाती है. यह पर्व भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है. छोटी काशी जयपुर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी बड़े धूमधाम से मनाई जाती है. हालांकि कोविड के कारण इस बार बड़े कार्यक्रम आयोजित
नहीं होंगे. भक्त ऑनलाइन दर्शन कर पायेंगे. जयपुर में ऐसे प्राचीन मंदिर हैं, जहां श्रीकृष्ण जन्माष्टमी हटकर मनाई जाती है. चौड़ा रास्ता स्थित राधा दामोदर मंदिर में रात को नही दिन के 12 बजे श्रीकृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाती है.

यह भी पढ़ें : इस बार जन्माष्टमी पर बन रहा है खास संयोग, ऐसे करें पूजा, पूरी होगी कामना

राधा दामोदर मंदिर की क्या है मान्यता?

ऐसी मान्यता है कि भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को अर्धरात्रि यानि ठीक 12 बजे भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था, जो भगवान विष्णु का ही अवतार थे. जन्माष्टमी के दिन सभी कृष्ण मंदिरों में रात 12 बजे के बाद कान्हा जन्म लेंगे. फिर ठाकुरजी का अभिषेक किया जाएगा. लेकिन जयपुर में एक ऐसा कृष्ण मंदिर है जहां कृष्ण जन्मोत्सव दोपहर 12 बजे होता है. इसी दिन शाम तक नंदोत्सव हो जाता है. राधा दामोदर नाम से प्रसिद्ध इस मंदिर में करीब 500 सालों से ये परंपरा चली आ रही है.

इन मंदिरों में भी धूमधाम से मनाई जाती है जन्माष्टमी

जयपुर को वृन्दावन बनाने में गोविंद देव तो प्रधान हैं. लेकिन जयपुर के गोपीनाथ, राधा-विनोद और राधा-दामोदर के मंदिरों का भी महत्व कम नहीं है. जैसे वल्लभ सम्प्रदाय में सात स्वरूपों की सेवा है और श्रीनाथजी का स्वरूप विग्रह सर्वोच्च है. उसी तरह गौडिया सम्प्रदाय में भी सात स्वरूपों की सेवा है और गोविंद देव उनमें प्रमुख हैं. इन सात स्वरूप में से चार गोविंद देव, गोपीनाथ, राधा-दामोदर और राधा विनोद जयपुर में विराजमान हैं. मदन मोहन करौली में है. जबकि राधा-रमण और श्याम सुन्दर वृन्दावन में हैं.

जयपुर के आराध्य गोविंद देव मंदिर से सभी भलीभांति परिचित हैं. यहां जन्माष्टमी पर होने वाला कृष्ण जन्मोत्सव कार्यक्रम की प्रसिद्धी भी कम नहीं है. लेकिन जयपुर में ही मौजूद राधा-दामोदर का भी अपना इतिहास रहा है. एक ऐसी परंपरा जो सदियों से चली आ रही है. चौड़े रास्ते में ताड़केश्वर शिवालय के सामने स्थित राधा दामोदर मंदिर में 500 सालों से जन्माष्टमी पर दोपहर 12 बजे कान्हा का जन्मोत्सव मनाने की परंपरा है.

बताया जाता है कि राधा-दामोदर जी की मूर्ति वृंदावन से तत्कालीन महाराजा सवाई जयसिंह जी के आग्रह पर जयपुर लाकर स्थापित की गई थी. ये विग्रह उन 5 विग्रहों में शामिल है. राधा-दामोदर के विग्रह के लिए कहा जाता है कि श्री गोविंद विग्रह के प्राप्तकर्ता रूप गोस्वामी ने इसका स्वहस्त निर्माण किया और अपने भतीजे जीव गोस्वामी को सेवा-पूजा के लिए सौंप दी. इस प्रकार राधा दामोदर
की सेवा का प्राकट्य माघ शुक्ल दशमी संवत् 1599 का माना जाता है. मंदिर महंत मलय गो स्वामी ने बताया कि राधा-दामोदर जी के मंदिर में भी जन्माष्टमी का उत्सव मनाया जाता है. इसकी विशेषता ये है कि दूसरे गौडिया मन्दिरों से अलग इस दिन भगवान का अभिषेक यहां दिन में दोपहर 12 बजे होता है. राधा दामोदर जी में ये परम्परा वृन्दावन से ही चली आ रही है. इसका कारण यह है कि गुसाइयों को इस दिन गोविंद देव मंदिर में जाने और वहां की सेवा में भाग
लेने का अवसर मिल जाए.

उन्होंने बताया कि दामोदर ठाकुर जी के नटखट बाल स्वरूप हैं, जिस तरह बच्चों को देर रात तक नहीं जगाया जाता और लाड़-प्यार से खिला-पिला कर रात में सुला दिया जाता है. उसी तरह दामोदर जी का दोपहर में अभिषेक कर शाम को नंदोत्सव कर रात 12 बजे से पहले ही मंदिर के पट बन्द कर दिये जाते हैं.

First Published : 28 Aug 2021, 10:13:23 AM

For all the Latest Religion News, Dharm News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.