News Nation Logo
Banner

Hanuman Jayanti 2019: हनुमान चालीसा से जुड़े कुछ रोचक फैक्ट्स, जिसे बहुत कम लोग ही जानते हैं

हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) को सिर्फ मंगलवार ही नहीं बल्कि किसी भी दिन लोग अपने मन से भय भगाने के लिए इसकी कुछ चौपाई पढ़ने लग जाते हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Drigraj Madheshia | Updated on: 18 Apr 2019, 03:56:51 PM
हनुमान जी का चित्र

हनुमान जी का चित्र

नई दिल्‍ली:

हनुमानजी की बात हो और हनुमान चालीसा का जिक्र न हो ऐसा कैसे हो सकता है. बजरंगबली हर भक्‍त और कुछ जाने या न जाने लेकिन हनुमान चालीसा उसे कंठस्‍थ रहती है. रोग, शत्रु के सताए हुए लोग हर मंगलवार को हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं. हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) को सिर्फ मंगलवार ही नहीं बल्कि किसी भी दिन लोग अपने मन से भय भगाने के लिए इसकी कुछ चौपाई पढ़ने लग जाते हैं.

यह भी पढ़ेंः EC के बैन की काट, 72 घंटे चुनाव प्रचार नहीं करेंगे योगी आदित्यनाथ तो जानें क्या करेंगे

शक्ति और साहस का प्रतीक माने जाने वाले भगवान हनुमान की इस चालीसा में 3 दोहे और 40 चौपाई लिखी गई हैं. जिसमें से पहली चौपाई 'जय हनुमान ज्ञान गुन सागर, जय कपीस तिहुं लोक उजागर' सबसे प्रसिद्ध है. हनुमान जी सभी देवताओं में श्रेष्ठ हैं. वे अपने भक्तों की सहायता तुरंत ही करते हैं और हनुमान जी आज भी सशरीर हैं. महावीर विक्रम बजरंगबली के समक्ष किसी भी प्रकार की मायावी शक्ति नहीं ठहर सकती. आज हम आपको हनुमान चालीसा से जुड़े कुछ रोचक फैक्ट्स के बारे में बता रहे हैं…

यह भी पढ़ेंः 8 साल से हनुमान मंदिर की रक्षा कर रहा है ये बंदर, भक्तों के सिर पर हाथ रख देता है आशीर्वाद

कवि तुलसीदास ने हनुमान चालीसा को अवधी भाषा में लिखा है. अपने अंतिम दिनों में कवि तुलसीदास वाराणसी में रहे. वहां नाम का एक घाट भी है, जिसे 'तुलसी घाट' नाम दिया गया. यहीं रहकर तुलसीदास ने हनुमान मंदिर भी बनाया जिसका नाम है 'संकटमोचन मंदिर'. 'श्रीगुरु' हनुमान चालीसा के शुरूआत के दोहे का पहला शब्द है. इसमें श्री का संदर्भ माता सीता है, जिन्हें हनुमान जी अपना गुरु मानते थे.

यह भी पढ़ेंः हनुमान जयंती 2019ः जब प्रभु श्रीराम निकल गए थे अपने परम भक्‍त हनुमान को मारने

प्रसिद्ध कथा के अनुसार जब तुलसीदास ने रामचरितमानस बोलना समाप्त किया तब तक सभी व्यक्ति वहां से जा चुके थे लेकिन एक बूढ़ा आदमी वहीं बैठा रहा. वो आदमी और कोई नहीं बल्कि खुद भगवान हनुमान थे.हनुमान चालीसा को सबसे पहले भगवान हनुमान ने सुना था. हनुमान चालीसा में हनुमान के ऊपर 40 चौपाई लिखी गई हैं. यह चालीसा शब्द इन्हीं 40 अंकों से मिला है.

यह भी पढ़ेंः अमेरिका से रहा है हनुमान जी का नाता! रिसर्च में किया गया दावा

हनुमान चालीसा के पहले 10 चौपाई हनुमान की शक्ति और ज्ञान का बखान करते हैं. 11 से 20 तक के चौपाई में भगवान राम के बारे में कहा गया, जिसमें 11 से 15 तक चौपाई भगवान राम के भाई लक्ष्मण पर आधारित है. हनुमान जी की कृपा के बारे में तुलसीदास ने आखिर की चौपाई में कहा है.

First Published : 18 Apr 2019, 02:00:36 PM

For all the Latest Religion News, Dharm News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो