logo-image
लोकसभा चुनाव

Mohini Ekadashi 2024: मोहिनी एकादशी के दिन इस तरह करें पीपल के पड़े की पूजा, सभी ग्रह दोष होंगे दूर

Mohini Ekadashi 2024: पीपल के पेड़ को हिंदू धर्म में बेहद शुभ और पवित्र माना जाता है. मान्यता है कि इसमें देवी लक्ष्मी और विष्णु जी का वास होता है. मोहिनी एकादशी के दिन पीपल के पेड़ की पूजा करने के क्या लाभ हैं आइए जानते हैं.

Updated on: 19 May 2024, 10:54 AM

New Delhi :

Mohini Ekadashi 2024: मोहिनी एकादशी के दिन पीपल के पेड़ की पूजा का विशेष महत्व है, खासकर हिंदू धर्म में. इस दिन पीपल के पेड़ की पूजा करने से आत्मा को आध्यात्मिक शक्ति और प्रकाश मिलता है, जो उसे पापों से मुक्ति और आध्यात्मिक उन्नति की ओर ले जाता है. पीपल के पेड़ को हिंदू धर्म में पवित्रता का प्रतीक माना जाता है, और मोहिनी एकादशी के दिन इसे पूजन का उपाय किया जाता है. इस दिन लोग पीपल के पेड़ के नीचे जाते हैं और उसे साकार रूप में पूजते हैं, उस पर चंदन, कुमकुम, बताशे, नारियल, फल, और फूल चढ़ाते हैं. ध्यान और प्रार्थना के साथ वे भगवान विष्णु और देवी मोहिनी को प्रार्थना करते हैं. मोहिनी एकादशी का दिन भगवान विष्णु की अराधना का भी महत्व होता है, और पीपल के पेड़ का पूजन भगवान विष्णु की कृपा और आशीर्वाद को प्राप्त करने में सहायक होता है. मोहिनी एकादशी के दिन पीपल के पेड़ की पूजा करने से व्यक्ति को आध्यात्मिक उत्थान और पापों से मुक्ति की प्राप्ति होती है.

1. भगवान विष्णु का वास

हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार, पीपल के वृक्ष में भगवान विष्णु का वास माना जाता है. मोहिनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है, इसलिए इस दिन पीपल वृक्ष की पूजा भी की जाती है. पीपल के पेड़ (बोधि वृक्ष) को हिन्दू धर्म में बहुत महत्व दिया जाता है, और इसे भगवान विष्णु का स्थान माना जाता है. पीपल के पेड़ को एक पवित्र और प्राचीन पेड़ के रूप में समझा जाता है, और इसे विष्णु के आवास के रूप में भी माना जाता है. वैदिक परंपरा में, पीपल के पेड़ को 'आश्वत्थ' कहा जाता है, जो कि ब्रह्मा, विष्णु, और शिव की प्रतिमा मानी जाती है. पुराणों में कहा जाता है कि ब्रह्मा पेड़ की जड़ों, विष्णु पेड़ की मध्य और शिव पेड़ की शाखाओं में निवास करते हैं. इसलिए, पीपल के पेड़ को विष्णु के वास स्थल के रूप में सम्मानित किया जाता है. बुद्ध धर्म में भी, पीपल के पेड़ को महत्वपूर्ण माना जाता है. बुद्ध ने संबोधी बोधि त्रीकोण के नीचे बोधि वृक्ष के नीचे बैठकर निर्वाण प्राप्त किया था. इसलिए, पीपल के पेड़ को धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व के रूप में भगवान विष्णु का आवास स्थल माना जाता है.

2. मोक्ष प्राप्ति

यह माना जाता है कि पीपल वृक्ष की पूजा करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है. मोहिनी एकादशी का व्रत भी मोक्ष प्राप्ति के लिए किया जाता है, इसलिए इस दिन पीपल वृक्ष की पूजा करना विशेष रूप से शुभ माना जाता है. धार्मिक विश्वास के अनुसार, पीपल के पेड़ की पूजा करने से मनुष्य को आध्यात्मिक और मानसिक शांति मिल सकती है, जो उसे मोक्ष की दिशा में प्रगाढ़ कर सकती है. मोहिनी एकादशी एक प्रमुख हिन्दू त्योहार है जो भगवान विष्णु को समर्पित है. इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है और विशेष धार्मिक क्रियाएं की जाती हैं जो भक्तों को आध्यात्मिक उत्थान और मोक्ष की प्राप्ति के लिए मदद करती हैं. इस दिन विष्णु भगवान को प्रसन्न करने के लिए विशेष अन्न, पूजा, और दान की जाती है. समग्र रूप से, पीपल के पेड़ की पूजा और मोहिनी एकादशी के त्योहार के अनुसार भगवान विष्णु की पूजा करने से भक्तों को आध्यात्मिक लाभ और मनोबल मिल सकता है, जो मोक्ष की दिशा में प्रगाढ़ कर सकता है.

3. पापों का नाश

पीपल वृक्ष को पवित्र वृक्ष माना जाता है. इस वृक्ष की पूजा करने से पापों का नाश होता है और पुण्य की प्राप्ति होती है. मोहिनी एकादशी के दिन पीपल वृक्ष की पूजा करने से व्रत का पुण्य और भी बढ़ जाता है. हिंदू धार्मिक परंपराओं में माना जाता है कि पीपल के पेड़ की पूजा से पापों का नाश होता है. पीपल के पेड़  की जड़ें ऑक्सीजन उत्पादन करती हैं, जिससे परिवेश में शुद्धता बनी रहती है. इसके अलावा, हिंदू धर्म में पीपल के पेड़ को ब्रह्मा, विष्णु, और महेश का स्वरूप माना जाता है, इसलिए इसकी पूजा से अनेक प्रकार के पापों का नाश होता है. लोग मानते हैं कि पीपल के पेड़ के नीचे पूजा करने से उन्हें उच्च स्तर की संतोष, समृद्धि, और आध्यात्मिक उत्थान मिलता है, और वे पापों से मुक्ति प्राप्त करते हैं. इसलिए, पीपल के पेड़ की पूजा को पापों का नाश करने का एक उपाय माना जाता है.

4. ग्रहों की शांति

पीपल वृक्ष ग्रहों को शांत करने में भी मददगार होता है. यदि आपकी कुंडली में कोई ग्रह दोष है, तो मोहिनी एकादशी के दिन पीपल वृक्ष की पूजा करने से आपको ग्रहों से शुभ फल प्राप्त हो सकते हैं. हिंदू धर्म में, ग्रहों के प्रभाव को व्यक्ति की जीवन में धन, स्वास्थ्य, संतान, संबंध, करियर, आदि के अनुभवों के माध्यम से महसूस किया जाता है. अगर कोई ग्रह अशुभ हो तो उसके नकारात्मक प्रभाव को कम करने के लिए भक्ति और पूजा का अभ्यास किया जाता है. पीपल के पेड़ की पूजा करने के द्वारा, व्यक्ति ग्रहों के प्रभाव को संतुष्ट करने और उनकी शांति के लिए प्रार्थना करता है. यह प्रयास किया जाता है कि ग्रहों के अनुकूल प्रभाव बढ़ाए जाएं और उनके अशुभ प्रभाव को कम किया जाए. इसलिए, पीपल के पेड़ की पूजा का एक प्राचीन धार्मिक अनुष्ठान है जो ग्रहों की शांति और व्यक्ति की कल्याण के लिए किया जाता है. यह धार्मिक प्रथा के अलावा आध्यात्मिक उद्देश्य के रूप में भी जानी जाती है, जो व्यक्ति को अधिक आत्मसाक्षात्कार और आध्यात्मिक उत्थान की ओर ले जाता है.

5. वैवाहिक जीवन में सुख

पीपल वृक्ष को विवाह का प्रतीक भी माना जाता है. मोहिनी एकादशी के दिन पीपल वृक्ष की पूजा करने से अविवाहित लोगों को विवाह योग्य जीवनसाथी मिल सकता है और विवाहित लोगों के वैवाहिक जीवन में सुख-समृद्धि आ सकती है. पीपल के पेड़ को हिंदू धर्म में पवित्र माना जाता है और इसे भगवान विष्णु का स्थान माना जाता है. इसलिए, पीपल के पेड़ की पूजा करने से भगवान विष्णु का आशीर्वाद प्राप्त होता है, जो विवाहित जीवन में सुख और समृद्धि के लिए महत्वपूर्ण होता है. पीपल के पेड़ की पूजा करने से परंपरागत रूप से यह माना जाता है कि विवाहित जोड़े को सामृद्धिक और सौहार्दपूर्ण विवाहित जीवन प्राप्त होता है. यह पूजा पति और पत्नी के बीच प्रेम, सम्मान, और समर्थ संबंध को बढ़ावा देती है और उन्हें वैवाहिक संबंधों में सुख और समृद्धि की प्राप्ति में मदद करती है. इसके अलावा, पीपल के पेड़ को धार्मिक और आध्यात्मिक संदर्भ में महत्वपूर्ण माना जाता है, और इसकी पूजा से व्यक्ति का मानसिक और आध्यात्मिक उत्थान होता है, जो विवाहित जीवन में सुख और समृद्धि के लिए आवश्यक होता है.

पीपल वृक्ष की पूजा विधि

मोहिनी एकादशी के दिन प्रातः स्नान करके स्वच्छ वस्त्र पहनें. पीपल वृक्ष के समीप जाकर दीप, धूप, नैवेद्य और जल अर्पित करें. तने पर कच्चा सूत या कलावा बांधें और परिक्रमा करते हुए मंत्रों का जाप करें. पीपल वृक्ष के नीचे बैठकर भगवान विष्णु की पूजा करें और मोहिनी एकादशी व्रत का संकल्प लें. पीपल वृक्ष को कभी भी नहीं काटना चाहिए. नीचे कूड़ा-कचरा नहीं डालना चाहिए. पीपल वृक्ष की जड़ों को नुकसान नहीं पहुंचाना चाहिए. मोहिनी एकादशी के दिन पीपल वृक्ष की पूजा करके आप भगवान विष्णु का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं और अपने जीवन में सुख, समृद्धि और मोक्ष प्राप्त कर सकते हैं.

Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)