logo-image
लोकसभा चुनाव

Hanuman Jayanti 2024: दिल्ली के प्राचीन हनुमान मंदिर में आज लगी है जबरदस्त भीड़, जानें इसका इतिहास 

Hanuman Jayanti 2024: यह मंदिर कनॉट प्लेस में स्थित है और यह दिल्ली के सबसे प्रसिद्ध हनुमान मंदिरों में से एक है. यह मंदिर अपनी भव्य वास्तुकला और भगवान हनुमान की विशाल मूर्ति के लिए जाना जाता है.

Updated on: 23 Apr 2024, 04:05 PM

New Delhi:

Hanuman Jayanti 2024: प्राचीन हनुमान मंदिर, कनॉट प्लेस, दिल्ली में स्थित, केवल एक धार्मिक स्थल नहीं है, बल्कि आध्यात्मिकता, शांति और चमत्कारों का केंद्र भी है. 18वीं शताब्दी में निर्मित, यह मंदिर स्वामी रामदास द्वारा स्थापित किया गया था, जो हनुमान जी के परम भक्त थे. मंदिर की वास्तुकला की बात करें को दक्षिण भारतीय और गुजराती शैलियों का मिश्रण दर्शाती है. गर्भगृह में भगवान हनुमान की विशाल मूर्ति भक्तों को आकर्षित करती है. मंदिर परिसर में शनिदेव, मां दुर्गा, गौरीशंकर, राधा-कृष्ण और संत गोपालानंद स्वामी की भी मूर्तियां स्थापित हैं. ये मंदिर शनिदेव से मुक्ति पाने के लिए प्रसिद्ध है. शनि ग्रह के दोषों को दूर करने में मदद करता है. कष्टों से मुक्ति और मनोकामना पूर्ति के लिए जाना जाता है. मंदिर में प्रवेश करते ही सकारात्मक ऊर्जा महसूस होती है. भक्त पूजा-अर्चना, आरती में भाग लेते हैं, और प्रसाद ग्रहण करते हैं. मंदिर का वातावरण शांत और आध्यात्मिक है, जो ध्यान और आत्म-चिंतन के लिए अनुकूल है. 

मंदिर का समय: सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक

आरती का समय: सुबह 7:30 बजे, दोपहर 12:30 बजे और शाम 7:30 बजे

प्रवेश शुल्क: कोई प्रवेश शुल्क नहीं

कैमरा: मंदिर परिसर में कैमरे की अनुमति नहीं है

पोशाक: मंदिर में प्रवेश करते समय विनम्र पोशाक पहनें

भगवान हनुमान की विशाल मूर्ति

प्राचीन हनुमान मंदिर भगवान हनुमान की विशाल मूर्ति के लिए जाना जाता है. यह मूर्ति 11 फीट ऊँची है और काले संगमरमर से बनी है. भगवान हनुमान को युद्ध के देवता के रूप में दर्शाया गया है, उनके एक हाथ में गदा है और दूसरा हाथ आशीर्वाद की मुद्रा में है.

शनिदेव मंदिर

प्राचीन हनुमान मंदिर परिसर में शनिदेव का एक प्रसिद्ध मंदिर भी है. शनि ग्रह से पीड़ित लोगों को शनिदेव की पूजा करने से लाभ होता है.

24 घंटे का अखंड रामायण पाठ

प्राचीन हनुमान मंदिर 24 घंटे चलने वाले अखंड रामायण पाठ के लिए भी जाना जाता है. यह पाठ 1964 से लगातार चल रहा है और विश्व का सबसे लंबा अखंड रामायण पाठ होने का दावा करता है.

108 फीट ऊँचा ध्वज स्तंभ

मंदिर परिसर में 108 फीट ऊँचा ध्वज स्तंभ भी है. यह स्तंभ 1998 में स्थापित किया गया था और भारत का सबसे ऊँचा ध्वज स्तंभ होने का दावा करता है.

प्राचीन हनुमान मंदिर हिंदुओं के लिए एक महत्वपूर्ण तीर्थस्थल है. यह मंदिर भगवान हनुमान के भक्तों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है. यहां लोग भगवान हनुमान से आशीर्वाद प्राप्त करने, अपनी मनोकामनाएं पूरी करने और शनि ग्रह के दोषों से मुक्ति पाने के लिए आते हैं. मंदिर का वातावरण शांत और आध्यात्मिक है. मंदिर परिसर में कई छोटे-छोटे मंदिर और मूर्तियां हैं. मंदिर में हर दिन आरती और भजन का आयोजन किया जाता है. मंदिर परिसर में एक धर्मशाला भी है जहां श्रद्धालु रुक सकते हैं. अगर आप दिल्ली आते हैं, तो प्राचीन हनुमान मंदिर अवश्य जाएं और इस अद्भुत अनुभव को महसूस करें.

Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)

ये भी पढ़ें:Hanuman Jayanti 2024 Wishes: आज हनुमान जयंती की पूजा के ये हैं 3 शुभ मुहूर्त, इन शुभ संदेशों के साथ करें सबको विश