News Nation Logo
पन्ना: देर रात तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक सवारों को रौंदा पन्ना: बाइक सवार दो लोगों की घटनास्थल पर दर्दनाक मौत, एक गंभीर घायल पन्ना: बनहरी गांव के बताए जा रहे हैं दोनों मृतक Police Commemoration Day के लिए आज राष्ट्रीय पुलिस स्मारक पर फुल ड्रेस रिहर्सल का आयोजन किया गया नैनीताल: मलबे, बॉल्डर और पेड़ो की चपेट में आए तीन घर नैनीताल के बिरला क्षेत्र के कुमाऊं लॉज में देर रात भारी भूस्खलन गृह मंत्री अमित शाह ने भाजपा के 'सेवा ही संगठन' कार्यक्रम के तहत 'मोदी वैन' पहल को हरी झंडी दिखाई मैं PM नरेंद्र मोदी, अमित शाह, जे.पी. नड्डा और राजनाथ सिंह का आभार व्यक्त करता हूं: बाबुल सुप्रियो जिस पार्टी के लिए मैंने 7 साल मेहनत की, उसे छोड़ते वक्त दिल व्यथित था: बाबुल सुप्रियो बिहार: CBSE ने 10वीं और 12वीं कक्षा के टर्म-1 की डेटशीट जारी की युवाओं को रोजगार देने दिल्ली सरकार लांच करेगी रोजगार 2.0 एप सेना प्रमुख एमएम नरवणे जम्मू के दो दिवसीय दौरे पर, लेंगे सुरक्षा का जायजा बांग्लादेश में हिंदुओं पर हो रहे हमलों को लेकर देश में उबाल नैनीताल में बादल फटने से तबाही का आलम. रामनगर के रिसॉर्ट में 100 लोग फंसे उत्तराकंड के सीएम ने जलप्रलय वाले स्थानों का दौरा किया

दुर्गा महाअष्टमी का दिन , जाने क्या है संधि पूजा का समय

नवरात्रि के पर्व में अष्टमी की तिथि का विशेष महत्व है. ये दिन सबके लिए बहुत ख़ास होता है जिससे हम दुर्गा महा अष्टमी भी कहते है. इस दिन मां दुर्गा की विशेष पूजा की जाती है. मां दुर्गा की पूजा में नियम और अनुशासन को अधिक महत्व प्रदान किया जाता है.

News Nation Bureau | Edited By : Nandini Shukla | Updated on: 12 Oct 2021, 05:47:14 PM
durga maa

दुर्गा महाअष्टमी का दिन , जाने क्या है संधि पूजा का समय (Photo Credit: file photo)

New Delhi:

नवरात्रि के पर्व में अष्टमी की तिथि का विशेष महत्व है. ये दिन सबके लिए बहुत ख़ास होता है जिससे हम दुर्गा महा अष्टमी भी कहते है. इस दिन मां दुर्गा की विशेष पूजा की जाती है. मां दुर्गा की पूजा में नियम और अनुशासन को अधिक महत्व प्रदान किया जाता है. शुभ मुहूर्त में विधि पूर्वक पूजा करने से मां दुर्गा प्रसन्न होती हैं और अपने भक्तों के कष्टों को दूर कर उन्हें सुख-समृद्धि प्रदान करती हैं. वहीं दुर्गा अष्टमी पर बनने वाले शुभ मुहूर्त कौन से हैं, आइये आपको बताते है. पंचांग के अनुसार अष्टमी की तिथि 12 अक्टूबर 2021, मंगलवार को रात 09 बजकर 49 मिनट 38 सेकंड से प्रारंभ होकर 13 अक्टूबर 2021, बुधवार को रात्रि 08 बजकर 09 मिनट और 56 सेकंड पर समाप्त होगी. 

यह भी पढ़े- देश में कितने दिन का बचा है कोयला स्टॉक? जानिए केंद्रीय मंत्री का जवाब

अष्टमी की तिथि पर दुर्गा उत्सव पर विशेष आयोजन और पूजा की जाती है. दुर्गा उत्सव का पर्व षष्ठी की तिथि से आरंभ होता है. कई स्थानों पर दुर्गा पूजा पंडाल सजा कर मां दुर्गा की विशेष पूजा की जाती है. लोगों को भोग बाटा जाता है जिसमे भगवान का पसंद दीदा खाना खिचड़ी मीठी चटनी आलू भाजा और सब्जी दी जाती है जिससे हम चौचड़ि भी बोलते है. इस दिन 64 योगिनियों और मां दुर्गा के आठ क्रूर रूप जिनहें अष्ट शक्ति भी कहा जाता है. इनकी पूजा की जाती है. 

संधि पूजा का टाइम -

 पंचांग के अनुसार संधि काल वो समय होता है जब अष्टमी की तिथि समाप्त होती है और नवमी की तिथि का आरंभ होता है. यह लगभग 48 मिनट तक रहता है. - प्रात: 03:23 से प्रात: 04:56 तक है और  प्रात: 04:48 से प्रात: 05:36 तक है.

यह भी पढ़े- लालू को जेल तक पहुंचाने वाले IAS अफसर अमित खरे बने PM मोदी के नए सलाहकार

पूजा का समय :
लाभ – प्रात: 06:26 से शाम 07:53 तक.
अमृत – प्रात: 07:53 से रात्रि 09:20 तक.
शुभ – प्रात: 10:46 से दोपहर 12:13 तक.
लाभ – प्रात: 16:32 से शाम 17:59 तक.

पूजा का समय :

शुभ – रात्रि 7 :32 से रात्रि 9 :06 तक.
अमृत – रात्रि 9 :06 से रात्रि 10 :39 तक.
लाभ (काल रात्रि) – रात्रि 03:20 से रात्रि 04:53 तक.

दिन का चौघड़िया :
लाभ – प्रात: 06:26 से शाम 07:53 तक.
अमृत – प्रात: 07:53 से रात्रि 09:20 तक.
शुभ – प्रात: 10:46 से दोपहर 12:13 तक.
लाभ – प्रात: 4:32 से शाम 5:59 तक.


 पूजा का समय :

शुभ – रात्रि 7 :32 से रात्रि 9 :06 तक.
अमृत – रात्रि 9 :06 से रात्रि 10:39 तक.
लाभ (काल रात्रि) – रात्रि 03:20 से रात्रि 04:53 तक.

First Published : 12 Oct 2021, 05:47:14 PM

For all the Latest Religion News, Dharm News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो