logo-image
लोकसभा चुनाव

Chanakya Niti: दोस्त उठा रहा आपका फायदा? इन 3 तरीकों से आजमाएं दोस्ती, जानें क्या कहती है चाणक्य नीति

Chanakya Niti: सच्चे दोस्त की पहचान करना बहुत जरूरी है. आइए जानते हैं 3 ऐसे तरीके जिनसे आप अपने दोस्त की सच्चाई का पता लगा सकते हैं.

Updated on: 22 Jun 2024, 11:57 AM

नई दिल्ली :

Chanakya Niti For True Friendship: दोस्ती जीवन का एक अनमोल उपहार है. सच्चे दोस्त सुख-दुःख में हमेशा साथ रहते हैं और जीवन को जीने लायक बनाते हैं. लेकिन आज के दौर में सच्चे दोस्त ढूंढना आसान नहीं है.  अक्सर लोग स्वार्थ के चलते दोस्ती करते हैं और मुश्किल समय में साथ नहीं देते. वहीं, चाणक्य नीति में मित्रता के बारे में बहुत कुछ बताया गया है. सच्चा दोस्त घमंडी नहीं होता. वह आपकी सफलता से खुशी महसूस करता है और आपकी प्रगति में बाधा नहीं डालता. वह आपके साथ सच बोलता है, भले ही वह आपको बुरा लगे. आपकी कमियों को बताने से नहीं डरता और आपको सुधारने में मदद करता है. यहां तक के लिए सच्चा दोस्त हमेशा आपके लिए मौजूद रहता है, चाहे आप कितने भी व्यस्त क्यों न हों.  चाणक्य के अनुसार, सच्चे दोस्त की पहचान करना बहुत जरूरी है. आइए जानते हैं 3 ऐसे तरीके जिनसे आप अपने दोस्त की सच्चाई का पता लगा सकते हैं. 

1. विपत्ति में परीक्षा

सच्चा दोस्त वही होता है जो मुश्किल समय में आपका साथ दे. जब आप परेशानी में हों तो देखें कि आपका दोस्त आपके लिए क्या करता है. यदि वह आपकी मदद करने के लिए तैयार है और आपके लिए अपना समय और पैसा लगाने को तैयार है, तो निश्चित रूप से वह सच्चा दोस्त है. 

2. गुप्त बातें किसी को न बताना

यदि आप अपने दोस्त को अपनी सभी गुप्त बातें बताने में सहज महसूस करते हैं और आपको डर नहीं लगता कि वह आपकी बातों का गलत इस्तेमाल करेगा, तो निश्चित रूप से वह सच्चा दोस्त है.  सच्चा दोस्त आपकी बातों को गोपनीय रखता है और कभी भी आपके विश्वास का दुरुपयोग नहीं करता. 

3. सही सलाह देना

सच्चा दोस्त हमेशा आपको सही सलाह देता है, भले ही वह आपको कड़वी लगे.  वह आपको गलत रास्ते से जाने से रोकता है और हमेशा आपके भले के लिए सोचता है. यदि आपका दोस्त हमेशा आपको खुश करने की कोशिश करता है और आपको गलत बातें भी कहता है, तो वह सच्चा दोस्त नहीं है. 

Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)