logo-image
लोकसभा चुनाव

Chaitra Navratri 2024 Hawan: चैत्र नवरात्रि में घर में ऐसे करें हवन, जानें सही विधि और मंत्र

Chaitra Navratri 2024 Hawan: हवन एक अनुष्ठान है जिसमें आग में विभिन्न सामग्रियों की आहुति दी जाती है. ऐसा माना जाता है कि हवन नकारात्मक ऊर्जा को दूर करता है. और सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करता है.

Updated on: 15 Apr 2024, 09:58 AM

नई दिल्ली :

Chaitra Navratri 2024 Hawan: हवन देवी दुर्गा को प्रसन्न करने और उनका आशीर्वाद प्राप्त करने का एक उत्तम तरीका है. नवरात्रि के दौरान हवन करना विशेष रूप से शुभ माना जाता है. चैत्र नवरात्रि के दौरान हवन का अत्यंत महत्व होता है. इस पवित्र अवसर पर हवन करने से व्यक्ति अपने आत्मा को शुद्ध करता है और दिव्य ऊर्जा का संचार होता है. हवन करने से पूजा के दौरान मंत्रों का उच्चारण किया जाता है, जिससे वातावरण में पॉजिटिव ऊर्जा का संचार होता है. इसके फलस्वरूप व्यक्ति का मन शांति में रहता है और वह ध्यान में स्थिर होता है. हवन करने से नकारात्मकता का नाश होता है और व्यक्ति के जीवन में सुख, समृद्धि, और सम्मान की वृद्धि होती है. इसके अलावा, हवन करने से देवी देवताओं को आनंदित करने का मौका मिलता है और उनकी कृपा प्राप्त होती है. चैत्र नवरात्रि के दौरान हवन करने से व्यक्ति का आत्मिक और धार्मिक विकास होता है और वह आनंद, शांति, और संतोष का अनुभव करता है. इसलिए, हवन चैत्र नवरात्रि में धार्मिक एवं सामाजिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है.

नवरात्रि में हवन कैसे करें 

हवन करने के लिए एक शुभ स्थान चुनें. आप अपने घर के मंदिर या किसी अन्य शुभ स्थान पर हवन कर सकते हैं. हवन कुंड बनाएं और उसमें लकड़ी, घी, और अन्य हवन सामग्री डालें. आप हवन कुंड खुद बना सकते हैं या किसी पंडित से बनवा सकते हैं. हवन कुंड के चारों ओर बैठें और देवी दुर्गा का ध्यान करें. आप देवी दुर्गा की आरती भी कर सकते हैं. हवन मंत्रों का जाप करें और घी और अन्य सामग्री को आग में अर्पित करें. आप हवन मंत्रों का जाप खुद कर सकते हैं या किसी पंडित से करवा सकते हैं. हवन के बाद, प्रसाद वितरित करें. आप प्रसाद में फल, मिठाई, और अन्य चीजें शामिल कर सकते हैं.

नवरात्रि के हवन में क्या क्या सामान लगता है?

लकड़ी आम, पीपल, या देवदार की लकड़ी, शुद्ध घी, चावल, गेहूं, जौ, चना, मूंग, दाल, तिल, गुड़, कपूर, लौंग, इलायची, जायफल, और धूप

नवरात्रि में हवन करते समय कौन सा मंत्र बोले?

ॐ नमो देव्यै महादेव्यै
ॐ क्लीं नमः
ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे
ॐ त्रैलोक्यमोहिनी महामाये

हिंदू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार कम से कम 108 बार हवन में आहुति देनी चाहिए. हवन करते समय आपको स्नान करके स्वच्छ वस्त्र पहनने चाहिए. एकाग्रचित रहें और किसी भी अन्य काम में ध्यान न दें. हवन करते समय आपको सकारात्मक विचार रखना चाहिए. हवन देवी दुर्गा की कृपा प्राप्त करने का एक शक्तिशाली तरीका है. यदि आप नवरात्रि के दौरान हवन करने का विचार कर रहे हैं, तो उपरोक्त जानकारी आपको शुरुआत करने में मदद कर सकती है.

Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)

यह भी पढ़ें: Vastu Tips Sunset: सूर्यास्त के बाद गलती से ना करें ये काम, भारी पड़ सकता है नुकसान