logo-image
लोकसभा चुनाव

Bhavishya Malika : 23 जून से 5 जुलाई 2024 तक रहें सावधान, भयंकर तबाही ला सकते हैं ये 13 दिन 

Bhavishya Malika : भविष्य मालिका के जानकारों की मानें तो इस पुराण में लिखी एक-एक बात आजतक सच होती है आयी है. ऐसे में साल 2024 के आषाढ़ के इन 13 दिनों के बारे में क्या लिखा है आइए जानते हैं.

Updated on: 18 Jun 2024, 02:19 PM

नई दिल्ली:

Bhavishya Malika : 23 जून से 5 जुलाई 2024 तक का समय ज्योतिषीय दृष्टि से महत्वपूर्ण माना जा रहा है. इस दौरान, ग्रहों की स्थिति विशेष होगी, जिसका विश्व और भारत पर प्रभाव पड़ेगा. 23 जून 2024 से आषाढ़ का महीना शुरू हो जाएगा. भविष्य मालिका पुराण की मानें तो ये 2024 में आने वाले 13 दिन का पक्ष उतना घातक होगा जितना की महाभारत में था. बाढ़, तूफान, भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाएं आ सकती हैं. राजनीतिक अशांति बढ़ सकती है और हिंसा की घटनाएं हो सकती हैं. आर्थिक संकट गहरा सकता है और महंगाई बढ़ सकती है. स्वास्थ्य समस्याएं बढ़ सकती हैं और बीमारियां फैल सकती हैं. इस दौरान नकारात्मक विचारों से दूर रहें और सकारात्मक सोच रखें.

मालिका में क्या लिखा है- निरुवा अचुत दासोलो जयफुल्ला 13 में कलेस हो जाएगा. जब सभी जगह 13 होंगे, उसी समय कल ही शेस हो जाएगा. द्वादश अच्युत होई व मेला 13 रे कलंक का खेल यानि द्वादश अचीव तो जो बताया गया 12 अचेत घूमेंगे जब तेरहवां पता चलेगा उस समय काल्ति रियल खेल लगेगा. मीन शनि गुरुवार ने पढ़ी पर ही के ध्रुव ध्रुव मिथुन मांसदे तेरा दिना बच्चा काल धरणी ग्रासित है यानि मीन शनि जो योग होगा वो गुरुवार के दिन पड़ेगा. इसके बारे में उड़ीसा के अलग-अलग विद्वानों का अलग अलग मत है. 2024 के लास्ट में लग जाएगा. जब भी लगेगा गुरुवार को लगेगा. कुछ लोग बोलते हैं 29 मार्च 2025 को जो कि कैलेंडर में दिख रहा है उस समय लगेगा. लेकिन उस समय शनिवार है, गुरुवार नहीं है तो ये गुप्त में गुरुवार को लग जाएगा. 

इस 2024 में इसी आषाढ़ मास में ही 13 दिन का पक्ष पड़ रहा है और कई विद्वानों का मानना है कि महाभारत काल में भी ठीक इसी प्रकार की ग्रह युति हुई थी. इसी प्रकार का 13 दिन पंच पड़ा था. लेकिन, उस समय ग्रहण भी था इस बार ग्रहण नही है. बाकी महीने में 13 दिन का पक्ष महाभारत काल में भी पड़ा था और ये जब भी पड़ा है हमेशा 2021 में भी सितंबर में पड़ा था. उस समय कोरोना पिक पर था. 

अब जब ये 13 दिन का पक्ष आता है तो मालिका क्या कहती है? क्या होता है मालिका में लिखा है कि 13 दिन आप अच्छे होई. ब बाबू घोर कली लगी जाई थीबू यानि जब 13 दिन का पक्ष होता है उसमें घोरकली लग जाता है और क्या लिखा है कि 13 दिना पक्ष है बजावे कलंकी र चिन्ता लागी बाबे यानि कल्कि जी को चिंता लगती है सोचते हैं विचार करते हैं उस समय और बहुत कुछ लिखा है 

शास्त्रों में क्या लिखआ है - यदा जायफे पक्ष त्रयोदश दिनात्मक भव्य लोक क्षय घोड़ों रुंड मुंड माला युता महि यानि जब 13 दिन का पक्ष पड़ता है तो इस भव लोक में घोर विपत्ति पड़ती है और रूंड मुंड मालायुता मजी यानी ढेर सारे मुंडो का माला ये माता पृथ्वी पहनती है. बहुत ज्यादा नरसंहार होता है, पापुलेशन कम होती है. अब ये 13 दिन का पक्ष पढ़ने वाला है 23 जून से 5 जुलाई 2024 (Bhavishya Malika prediction for ashad month 2024) अगर शास्त्रों की माने तो इसी तरह दिन में ही बहुत कुछ हो जाएगा. बहुत कुछ का नींव रखा जाएगा, जिसका आने वाले समय में पूरा दुष्प्रभाव देखने को मिलेगा.

Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)