News Nation Logo
Banner

Sambhavnath Bhagwan Aarti: संभवनाथ भगवान की करेंगे ये आरती, जन्म-मृत्यु के बंधन से मिलेगी मुक्ति

संभवनाथ भगवान (sambhavnath bhagwan) जैन धर्म के तीसरे तीर्थंकर हैं. उनकी आरती (sambhavnath bhagwan aarti) असंभव को संभव करने का स्रोत है. सच्चे मन से भगवान संभवनाथ की आरती (sambhavnath bhagwan 3rd trithankar aarti) पढ़ने से मनोवांछित फल मिलता है.

News Nation Bureau | Edited By : Megha Jain | Updated on: 04 May 2022, 10:13:18 AM
sambhavnath bhagwan aarti

sambhavnath bhagwan aarti (Photo Credit: social media)

नई दिल्ली:  

संभवनाथ भगवान (sambhavnath bhagwan) जैन धर्म के तीसरे तीर्थंकर हैं. उनकी आरती (sambhavnath bhagwan aarti) असंभव को संभव करने का स्रोत है. इसमें अननंत शक्ति विद्यमान है. जीवन और मृत्यु के बंधन से मुक्ति पाने के लिए भगवान संभवनाथ की आरती पढ़ना सबसे उत्तम माना गया है. इतना ही नहीं सच्चे मन से भगवान संभवनाथ की आरती (sambhavnath bhagwan 3rd trithankar aarti) पढ़ने से मनोवांछित फल मिलता है. इसके साथ ही जीवन के सारे दुख भी दूर (sambhavnath bhagavan stavan) होते हैं.   

यह भी पढ़े : Vaishakh Purnima 2022 Significance and Yamraj Connection: वैशाख पूर्णिमा का जानें महत्व और करें ये दान, भगवान विष्णु देंगे आशीर्वाद और यमराज हो जाएंगे प्रसन्न

संभवनाथ भगवान की आरती (sambhavnath bhagvan aarti) 

आरती सम्भवनाथ तुम्हारी, हम सब गाये महिमा तिहारी। 
चौदह वर्ष तपस्या ठानी, कर्मजयी तुम केवल ज्ञानी।
शीश झुकाते भक्त पुजारी, आरती सम्भवनाथ तुम्हारी।

तुमने आत्मज्योति प्रकटाई, कर्म शत्रुओ पर जय पाई।
संकटहारी शिव भर्तारी, आरती सम्भवनाथ तुम्हारी।

राजपाट क्षण भर में छोड़ा, शिव पथ पर जीवन रथ मोड़ा।
तुम हो तीर्थंकर पदधारी, आरती सम्भवनाथ तुम्हारी।

शरण तुम्हारी जो आता है, मनवांछित फल वह पाता है।
तुम शरणागत  को सुखकारी, आरती सम्भवनाथ तुम्हारी।  

संकटमोचन नाम तुम्हारा, जिसने मन से तुम्हे पुकारा।
मिली सिद्धियां मंगलकारी, आरती सम्भवनाथ तुम्हारी।

नाथ आरती यह स्वीकारो, भवसागर से पार उतारो।
हम सब सेवक आज्ञाकारी, आरती सम्भवनाथ तुम्हारी।  

First Published : 04 May 2022, 10:12:17 AM

For all the Latest Religion News, Aarti News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.