News Nation Logo
उत्तराखंड : बारिश के दौरान चारधाम यात्रा बड़ी चुनौती बनी, संवेदनशील क्षेत्रों में SDRF तैनात आंधी-बारिश को लेकर मौसम विभाग ने दिल्ली-NCR के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया राजस्थान : 11 जिलों में आज आंधी-बारिश का ऑरेंज अलर्ट, ओला गिरने की भी आशंका बिहार : पूर्णिया में त्रिपुरा से जम्मू जा रहा पाइप लदा ट्रक पलटने से 8 मजदूरों की मौत, 8 घायल पर्यटन बढ़ाने के लिए यूपी सरकार की नई पहल, आगरा मथुरा के बीच हेली टैक्सी सेवा जल्द महाराष्ट्र के पंढरपुर-मोहोल रोड पर भीषण सड़क हादसा, 6 लोगों की मौत- 3 की हालत गंभीर बारिश के कारण रोकी गई केदारनाथ धाम की यात्रा, जिला प्रशासन के सख्त निर्देश आंधी-बारिश के कारण दिल्ली एयरपोर्ट से 19 फ्लाइट्स डाइवर्ट
Banner

Dharmik Significance Of Tree: वृक्ष में देवताओं का होता है वास, लेकिन इस तरह के पेड़ लाते हैं धन हानि और कंगाली

यूं तो वृक्ष में देवताओं का वास माना गया है लेकिन अगर आपके घर के आस पास कांटेदार वृक्ष है तो उससे धन हानि का संकट बढ़ जाता है. इसके अतिरिक्त कुछ पेड़ों की घर पर छाया पड़ना भी घर वालों को कष्ट देता है.

News Nation Bureau | Updated : 05 March 2022, 04:37:16 PM
article

Social Media

1

प्रत्येक वृक्ष का अपना महत्व है. कोई औषधि के रूप में उपयोग किया जाता है तो कोई भगवान की पूजा के लिए. भारतीय परंपरा में पीपल, बरगद और केले के वृक्ष को विष्णु रूप माना जाता है.

1

Social Media

2

प्रत्य़ेक धार्मिक कार्य में इन वृक्षों का प्रयोग दिखाई देता है. इनमें से पीपल और बरगद को वृक्ष तथा केले को पादपों की श्रेणी में रखा जाता है. भगवान श्री कृष्ण ने गीता में कहा है - मैं वृक्षों में पीपल हूं. 

2

Social Media

3

पीपल, आम, बरगद, गूलर एवं पाकड़ के पत्तों को ही पञ्चपल्लव के नाम से जाना जाता है और किसी भी शुभ कार्य में इन पत्तों को कलश में स्थापित करना शुभ माना जाता है. 

4

Social Media

4

 वहीं, अगर आपके घर के आस पास कांटेदार वृक्ष है तो उससे धन हानि का संकट बढ़ जाता है. इसके अतिरिक्त कुछ पेड़ों की घर पर छाया पड़ना भी घर वालों को कष्ट देता है. 

5

Social Media

5

घर में यदि पूर्व में पीपल, पश्चिम में बरगद, उत्तर में गूलर और दक्षिण में पकड़ लगाया जाए तो शुभ होता है. इन वृक्षों को घर से इतना दूर लगाना चाहिए कि दिन के दूसरे पहर में इनकी छाया घर पर न पड़े. यहां दूसरे प्रहर का अभिप्राय प्रातः 9 बजे के बाद से है.

6

Social Media

6

घर में दूध, फल एवं कांटेदार वृक्ष लगाने चाहिए. दूध वाले वृक्षों  से धनहानि, फल वाले वृक्षों से संतति क्षय तथा कांटेदार वृक्षों से शत्रु भय होता है. इन वृक्षों की लकड़ी भी घर में शुभ नहीं होती.

8

Social Media

7

घर के आंगन में उक्त वृक्षों के अतिरिक्त तुलसी, अशोक, चंपा, चमेली, गुलाब एवं केला लगाना भी शुभ फलकारी कहा गया है. 

7

Social Media

8

केले के वृक्ष को सर्वाधिक शुभ कहा गया है. केले की पूजा करने से घर में शांति रहती है और लक्ष्मी का आगमन भी होता है. इसलिए लोग घर में केले का पौधा लगाते हैं. 

9

Social Media

9

केले को साक्षात नारायण का रूप माना जाता है, इसलिए भगवान नारायण के प्रतीक के रूप में केला पूजा, मंडप और विवाह मंडप में लगाया जाता है, केले की पूजा करने से गुरु दोष भी समाप्त होता है.

3

Social Media

10

अतः घर में पीपल, बरगद और केले की पूजा करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है. कुछ जगह पर घर में अर्थात घर के अंदर केले का पौधा नहीं रखना चाहिए. ऐसा वर्णन मिलता है कि यह गृहस्वामी के उत्थान में बाधक होता है. इसे आंगन में लगाने का विधान है.