News Nation Logo
Banner

सिकंदराबाद के सिकंदर संतोष आनंद को मिला यश भारती पुरस्कार, जानिए उनके बेहतरीन गानों के बारे में

Santosh Anand belongs to Sikandrabad town District Bulandshahr ( 30 km from Ghaziabad on G T Road towards Buland shahar)started his career in 1970 through the film Purab Aur Paschim. This film's Soundtrack was composed by Kalyanji Anandji. He wrote his favorite millennium song "Ek Pyaar Ka Naghma Hain" in 1972 film Shor. It was composed by Laxmikant Pyarelal and sung by Lata Mangeshkar and Mukesh. The film, Roti Kapda Aur Makan its music was tuned by Laxmikant Pyarelal. The songs like "Mehngai Mar Gayi", "Aur Nahin Bas Aur Nahin" and especially "Main Na Bhoolunga", sung by Mukesh. Santosh obtained his first filmfare award for that film

News Nation Bureau | Updated : 27 October 2016, 08:01:31 AM
संतोष आनंद

संतोष आनंद

1
संतोष आनंद जब कलम थामते हैं तो प्रेम रोग से लेकर बहन के मोहब्बत तक को बयां करते हैं। कभी उनके गीतों में शराब का नशा झलकता है तो कभी मेघा रे मेघा रे से विरह का दर्द। उत्तर प्रदेश की धरती पर पैदा हुए इस गीतकार ने जब भी कलम से ज़िंदगी का फलसफा बयां किया तो घरी दो घरी की ज़िंदगी में मौहब्बत करने की सीख दी । क्रांति, शोर, रोटी, कपड़ा और मकान, प्रेमरोग जैसे अनेक फिल्मों में गीत लिखने वाले इस कलाकार को उत्तर प्रदेश सरकार ने यश भारती पुरस्कार देने की घोषणा की है। उन्होंने 26 फिल्मों में 109 गीत लिखे हैं। आइए जानते हैं संतोष आनंद के आनंदित करने वाले गीतों के बारे में
फिल्म क्रांति

फिल्म क्रांति

2
ज़िंदगी की न टूटे लड़ी, प्यार कर ले घड़ी दो घड़ी
फिल्म तिरंगा

फिल्म तिरंगा

3
गीत- इसे समझो न रेशम का तार भैया, ये है बहनों से भाईयों का प्यार भैयै
फिल्म प्रेमरोग

फिल्म प्रेमरोग

4
अरे कुछ नहीं, कुछ नहीं फिर कुछ नहीं है भाता जब रोग ये लग जाता मैं हूँ प्रेम रोगी.
फिल्म रोटी कपड़ा और मकान

फिल्म रोटी कपड़ा और मकान

5
गीत- हाय-हाय ये मजबूरी, ये मौसम और ये दूरी
फिल्म- प्यासा सावन

फिल्म- प्यासा सावन

6
गीत- मेघा रे मेघा रे, मत परदेस जा रे
×