News Nation Logo
Banner

राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मिले पीएम मोदी, चीन में हुआ भव्य स्वागत

पीएम मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने चीनी शहर वुहान में दो दिवसीय अनौपचारिक वार्ता के दौरान द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने के तरीकों पर चर्चा की।

News Nation Bureau | Updated : 27 April 2018, 08:45:46 PM
पीएम मोदी और जिनपिंग (IANS)

पीएम मोदी और जिनपिंग (IANS)

1
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने दो दिवसीय दौरे पर चीन में है। पीएम मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने चीनी शहर वुहान में दो दिवसीय अनौपचारिक वार्ता के दौरान द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने के तरीकों पर चर्चा की। इस सम्मेलन को 'अपनी तरह का एक अनोखा' सम्मेलन माना जा रहा है।
पीएम मोदी और जिनपिंग (IANS)

पीएम मोदी और जिनपिंग (IANS)

2
मोदी चीन के समयानुसार दोपहर करीब 3.30 बजे हुबेई प्रांतीय म्युसियम पहुंचे और बड़ी ही गर्मजोशी से शी जिनपिंग से हाथ मिलाया। पीएम मोदी और जिनपिंग ने करीब एक घंटे तक म्युसियम का दौरा किया।
पीएम मोदी और जिनपिंग (IANS)

पीएम मोदी और जिनपिंग (IANS)

3
पीएम मोदी और जिनपिंग ने करीब एक घंटे तक म्युसियम का दौरा किया।
पीएम मोदी और जिनपिंग (IANS)

पीएम मोदी और जिनपिंग (IANS)

4
दोनों नेताओं ने हुबई की संस्कृति पर विशेष रूप से केंद्रित चीनी सभ्यता के पुरावशेष की प्रदर्शनी देखी।
पीएम मोदी और जिनपिंग (IANS)

पीएम मोदी और जिनपिंग (IANS)

5
मोदी और शी ने दो प्राचीन सभ्यता चीन व भारत के बीच संबंधों और संचारों पर अपने विचार साझा किए।
मोदी और जिनपिंग (IANS)

मोदी और जिनपिंग (IANS)

6
पीएम मोदी चीन में चीनी पारम्परिक रंग से रूबरू हुए। मोदी और जिनपिंग के बीच यह अपनी तरह की अनोखी मुलाकात है, जो द्विपक्षीय संबंधों की नई शुरुआत का संकेत है।
पीएम मोदी और जिनपिंग (IANS)

पीएम मोदी और जिनपिंग (IANS)

7
भारत और चीन के बीच 1962 में युद्ध हुआ था और इस तरह दोनों देशों के बीच आपसी अविश्वास का लंबा-चौड़ा इतिहास रहा है। साल 2017 में डोकलाम विवाद को लेकर दोनों देशों के बीच हालात बहुत बिगड़ गए थे।
पीएम मोदी और जिनपिंग (IANS)

पीएम मोदी और जिनपिंग (IANS)

8
धानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को 2019 में अनौपचारिक बैठक के लिए भारत आमंत्रित किया। मोदी ने दो दिवसीय अनौपचारिक सम्मेलन के पहले दिन कहा कि इस तरह की बैठकों की जरूरत है और इसके बाद उन्होंने शी को अगले वर्ष भारत आमंत्रित किया।