News Nation Logo
Banner

गेटवे आॅफ इंडिया पर नौसेना के जवानों ने दिखाया जांबाज प्रदर्शन

मुबंई के गेटवे आॅफ इंडिया में रविवार को नेवी दिवस के मौके पर 'Beating the Retreat' किया गया।

News Nation Bureau | Updated : 04 December 2016, 02:41:25 PM
मुबंई का गेटवे आॅफ इंडिया

मुबंई का गेटवे आॅफ इंडिया

1
मुबंई के गेटवे आॅफ इंडिया में रविवार को नेवी दिवस के मौके पर 'Beating the Retreat' किया गया। इस दौरान नौसेना के जवानों ने जांबाजी का लाजवाब प्रदर्शन किया, जिसे देखने के बाद हर कोई अपने देश के जवानों को सलाम करेगा।
हर साल 4 दिसंबर को मनाया जाता है नौसेना दिवस

हर साल 4 दिसंबर को मनाया जाता है नौसेना दिवस

2
हर साल की तरह इस साल भी 4 दिसंबर को नौसेना दिवस बेहद ही खास अंदाज में मनाया गया है। वहीं दूसरी ओर पीएम मोदी ने भी आज अपने घर पर इस मौके पर रिसेप्शन रखा, जिसमें लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद भी पहुंचे।
1971 में भारतीय नौसेना ने पाकिस्‍तान के खिलाफ छेड़ा था ऑपरेशन ट्राइडेंट

1971 में भारतीय नौसेना ने पाकिस्‍तान के खिलाफ छेड़ा था ऑपरेशन ट्राइडेंट

3
क्या आप इसका इतिहास जानते हैं। अगर नहीं, तो हम आपको बताते हैं कहां से शुरू हुआ नौसेना दिवस को मनाने का सिलसिला। साल 1971 में 4 दिसंबर को ही भारतीय नौसेना ने पाकिस्‍तान के खिलाफ ऑपरेशन ट्राइडेंट छेड़ा था और इसकी कामयाबी में ही हर साल इस दिन नौसेना दिवस मनाया जाता है।
नौसेना के जवानों ने जाबांजी

नौसेना के जवानों ने जाबांजी

4
इस दौरान नौसेना के जवानों ने जाबांजी का लाजवाब प्रदर्शन किया।इन्हें देखने के बाद हर कोई अपने देश के जवानों को सलाम करेगा।
ये अभियान पाकिस्‍तानी नौसेना के मुख्‍यालय को निशाने पर लेकर शुरू किया गया

ये अभियान पाकिस्‍तानी नौसेना के मुख्‍यालय को निशाने पर लेकर शुरू किया गया

5
यह अभियान पाकिस्‍तानी नौसेना के मुख्‍यालय को निशाने पर लेकर शुरू किया गया, जो कराची में था। हिंदुस्‍तान के इस हमले में 3 विद्युत क्‍लास मिसाइल बोट, 2 एंटी-सबमरीन और एक टैंकर शामिल था।
कराची में रात को हमला बोलने की योजना थी

कराची में रात को हमला बोलने की योजना थी

6
कराची में रात को हमला बोलने की योजना थी, क्‍योंकि पाकिस्‍तान के पास ऐसे विमान नहीं थे, जो रात में बमबारी कर सकें। इस जंग में भारत का कोई जवान शहीद नहीं हुआ था, जबकि पाकिस्‍तान के 5 नौसेनिक मारे गए थे, जबकि 700 से अधिक घायल हुए थे। इसी जीत का जश्‍न हर साल 4 दिसंबर को नौसेना दिवस के रूप में मनाया जाता है।