News Nation Logo
Banner

पानी पर भड़की आग

कर्नाटक सरकार के उस अपील को भी सुप्रीम कोर्ट ने ठुकरा दिया जिसमें कर्नाटक सरकार ने हजार क्यूसेक पानी देने की ही अपील की थी

News Nation Bureau | Updated : 12 September 2016, 11:30:47 AM
कावेरी नदी को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है

कावेरी नदी को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है

1
कर्नाटक और तमिलनाडु के बीच चल रहा कावेरी जल विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। कावेरी नदी जल विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले को संशोधित करते हुए 20 सितंबर तक प्रतिदिन कर्नाटक सरकार को अब 15 हजार क्यूसेक की जगह 12 हजार क्यूसेक पानी तमिलनाडु को देने का आदेश दिया है। कर्नाटक सरकार के उस अपील को भी सुप्रीम कोर्ट ने ठुकरा दिया जिसमें कर्नाटक सरकार ने 1 हजार क्यूसेक पानी देने की ही अपील की थी
हम आपको बताते हैं आखिर कावेरी जल विवाद है क्या

हम आपको बताते हैं आखिर कावेरी जल विवाद है क्या

2
कावेरी जल विवाद आज से नहीं अंग्रेजों के शासन काल से चला आ रहा है। 1924 में विवाद को लेकर दोनों राज्यों के बीच समझौता भी हुआ था लेकिन विवाद में केरल औऱ पुडुचेरी के शामिल हो जाने के बाद विवाद और पेचीदा हो गया।
बहुत पुराना है कावेरी जल विवाद

बहुत पुराना है कावेरी जल विवाद

3
साल 1972 में सरकार ने इस विवाद को लेकर एक कमेटी बनाई जिसकी रिपोर्ट आने के बाद 1976 में कावेरी नदी के जल को लेकर चार दावेदार राज्यों में एग्रीमेंट किया जिसकी घोषणा संसद में होने के बाद भी विवाद खत्म नहीं हुआ
बहुत पुराना है कावेरी जल विवाद

बहुत पुराना है कावेरी जल विवाद

4
1986 में तमिलनाडु सराकर ने अंतर्राज्यीय जल विवाद अधिनियम 1956 के तहत केंद सरकार से एक ट्रिब्यूनल बनाने की मांग की
बहुत पुराना है कावेरी जल विवाद

बहुत पुराना है कावेरी जल विवाद

5
1990 में ट्रिब्यूनल के गठन के बाद फैसला हुआ कि कर्नाटक सरकार कावेरी नदी का जल एक तय हिस्सा में तमिलनाडु को देगी
सभी फोटो wikipedia से

सभी फोटो wikipedia से

6
कानूनी जानकारों के मुताबिक सिर्फ कानून के माध्यम से ही इस विवाद को सुलझाया जा सकता है, नाकि प्रदर्शन और हिंसा से
×