News Nation Logo
Banner

बाढ़ के साथ-साथ अब बिहार के लोगों को सता रहा संक्रमित बीमारियों का डर, देखें तस्वीरें

बिहार में दो महीने पहले आई बाढ़ में राज्‍य के 13 जिलों पूर्वी व पश्चिम चंपारण, अररिया, किशनगंज, शिवहर, सुपौल, मधुबनी, सीतामढ़ी, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, सहरसा, कटिहार और पूर्णिया में काफी तबाही हुई है. हालात अब भी सुधरे नहीं हैं कुछ इलाकों में बाढ़ का पानी तो उतरा है लेकिन अब वहां संक्रमित बीमारियां अपने पैर पसारने लगी हैं. बाढ़ में मरे हुए जानवर आदि के शवों के कारण पानी और हवा में दुर्गंध फैल रही है. इसके लिए नगर निगम की ओर से जगह-जगह रसायन का छिड़काव किया जा रहा है.

News Nation Bureau | Updated : 05 October 2019, 03:32:01 PM
पटना में बारिश के बाद जलजमाव की स्थिति

पटना में बारिश के बाद जलजमाव की स्थिति

1

पटना में बारिश के बाद जलजमाव को लेकर लोगों की जिन्दगी कैदखाने में बदल गई है. तबाही के सातवें दिन भी राजेंद्रनगर इलाके को जलजमाव से राहत नहीं मिल पाई है. पानी निकलने की गति काफी धीमी है.

रबड़ की ट्यूब स आवागमन करने को मजबूर लोग

रबड़ की ट्यूब स आवागमन करने को मजबूर लोग

2

चारों तरफ पानी ही पानी है.. जन जीवन पूरी तरह अस्त व्यस्त है. इस लिए लोग आवागमन को सुगम बनाने के लिए खुद नॉव का निर्माण कर इधर से उधर हो रहे हैं.

रसायन का छिड़काव करता नगर निगम का कर्मचारी

रसायन का छिड़काव करता नगर निगम का कर्मचारी

3

बाढ़ में मरे हुए जानवर आदि के शवों के कारण पानी और हवा में दुर्गंध फैल रही है. इसके लिए नगर निगम की ओर से जगह-जगह रसायन का छिड़काव किया जा रहा है.

पानी में ट्रैक्टर से जाते लोग

पानी में ट्रैक्टर से जाते लोग

4

बिहार में पिछले दो महीने से बाढ़ ने अपना कहर बरपाया हुआ है. लोग ऐसे में ट्रैक्टर ट्राली के माध्यम से आवामगन करते हुए दिख रहे हैं.

ट्यूब की नाव का इस्तेमाल करने को मजबूर हुए लोगृ

ट्यूब की नाव का इस्तेमाल करने को मजबूर हुए लोगृ

5

चारों तरफ जलजमाव के कारण लोग खुद ही लकड़ी या ट्यूब की नाव बना कर अपने बाहर के कामों को करने को मजबूर हैं.

×