News Nation Logo

BREAKING

Banner

कौन हैं हेमंत सोरेन जो एक बार फिर संभाल सकते हैं झारखंड की कमान

हेमंत सोरेन गठबंधन के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार थे. हेमंत सोरेन अभी झारखंड विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष हैं. पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सत्ता में एक बार फिर वापसी के लिए जी-तोड़ प्रयास कर रहे हैं आइए जानते हैं उनके बारे में.

News Nation Bureau | Updated : 22 December 2019, 04:54:42 PM
हेमंत सोरेन। (Credit-FB)

हेमंत सोरेन। (Credit-FB)

1

झारखंड की 81 विधानसभा सीटों पर 30 नवंबर से 20 दिसंबर तक पांच चरणों में चुनाव संपन्न हो चुके हैं. इस बार झामुमो-कांग्रेस-राजद महागठबंधन ने राज्य में साथ मिलकर चुनाव लड़ने का फैसला किया है. चुनाव में झामुमो 43 सीटों पर, कांग्रेस 31 सीटों पर और शेष 7 सीटों पर राजद चुनाव लड़ा. हेमंत सोरेन गठबंधन के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार थे. हेमंत सोरेन अभी झारखंड विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष हैं. पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सत्ता में एक बार फिर वापसी के लिए जी-तोड़ प्रयास कर रहे हैं आइए जानते हैं उनके बारे में.

हेमंत सोरेन। (Credit-FB)

हेमंत सोरेन। (Credit-FB)

2

हेमंत सोरेन की गिनती झारखंड के कद्दावर नेताओं में होती है. कुछ ही सालों के अंदर हेमंत सोरेन ने सियासत की बुलंदियों को छूने में कामयाबी हासिल की. 38 वर्षीय हेमंत झारखंड के दिशोम गुरु शिबू सोरेन के बेटे हैं. हेमंत का जन्म 10 अगस्त 1975 को रामगढ़ जिले के सुदूर नेमरा गांव में हुआ था. 

हेमंत सोरेन। (Credit-FB)

हेमंत सोरेन। (Credit-FB)

3

हेमंत सोरेन का जन्म 10 अगस्त 1975 को हुआ था. उनके दो बेटे निखिल और अंश हैं. जबकि उनकी पत्नी कल्पना सोरेन निजी स्कूल की संचालक हैं. उनकी मां रूपी सोरेन हैं जो उन्हें इंजीनियर बनाना चाहती थीं, लेकिन हेमंत ने 12वीं तक ही पढ़ाई की. उन्होंने इंजीनियरिंग में दाखिला तो लिया मगर बीच में ही पढ़ाई छोड़ दी.

हेमंत सोरेन। (Credit-FB)

हेमंत सोरेन। (Credit-FB)

4

यहीं से उन्होंने अपने जीवन को राजनीति की तरफ मोड़ लिया. उन्होंने 2003 में छात्र मोर्चा की राजनीति शुरू की और फिर आगे ही बढ़ते चले गए. हेमंत सोरेन 2009 में राज्यसभा के सदस्य चुने गए. बाद में उन्होंने दिसंबर 2009 में हुए विधानसभा चुनाव में संथाल परगना के दुमका सीट से जीत हासिल की और राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया. 

हेमंत सोरेन। (Credit-FB)

हेमंत सोरेन। (Credit-FB)

5

2010 में भारतीय जनता पार्टी के अर्जुन मुंडा की सरकार बनी, तो समर्थन के बदले हेमंत सोरेने को उप मुख्यमंत्री बनाया गया था. हालांकि जनवरी 2013 को झामुमो की समर्थन वापसी के चलते बीजेपी के नेतृत्व वाली अर्जुन मुंडा की गठबंधन सरकार गिरी थी.

हेमंत सोरेन। (Credit-FB)

हेमंत सोरेन। (Credit-FB)

6

इसी बीच लोकसभा चुनाव की भी गूंज सुनने लगी तो झारखंड में अपना फायदा देखते हुए कांग्रेस पार्टी झामुमो के साथ चली गई. यह गठबंधन एक समझौते के तहत बना, जो 2014 के लोकसभा चुनाव के लिए था. शर्त थी कि 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस 10 और झामुमो 4 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. इसी समझौते के तहत हेमंत सोरेन को मुख्यमंत्री पद मिला. 

हेमंत सोरेन। (Credit-FB)

हेमंत सोरेन। (Credit-FB)

7

13 जुलाई 2013 को हेमंत सोरेन ने झारखंड के 9वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की. 28 साल की उम्र में हेमंत सोरेन झारखंड के मुख्यमंत्री बने.

×