News Nation Logo

Health Insurance: हेल्थ इंश्योरेंस में मैटरनिटी कवर (Maternity Cover) नहीं लिया है तो ले लीजिए, होंगे ये फायदे

मिडिल क्लास परिवारों के लिए अस्पतालों में प्रसव (Maternity) कराना महंगा होता जा रहा है. अमूमन एक बार में प्रसव पर 1 लाख रुपये से 5 रुपये तक का खर्च होता है.

Dhirendra Kumar | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 10 May 2019, 08:23:14 AM
फाइल फोटो

नई दिल्ली:  

Health Insurance: भारत में मौजूदा समय में प्रसव के ऊपर खर्च बढ़ता जा रहा है. मध्यम वर्गीय परिवारों के लिए अस्पतालों में प्रसव (Maternity) कराना महंगा होता जा रहा है. अमूमन एक बार में प्रसव पर 1 लाख रुपये से 5 लाख रुपये तक का खर्च होता है.

यह भी पढ़ें: Travel Insurance: अगर विदेश यात्रा पर जाने की सोच रहे हैं तो कर लें ये जरूरी काम

सही समय पर प्लानिंग जरूरी - Plan at the right time
युवा दंपति बच्चे की प्लानिंग कर रहे हैं. उन्हें बच्चे के जन्म और प्रसव संबंधी खर्चों के लिए सही प्लानिंग करना बेहद जरूरी है, ताकि भविष्य में होने वाले खर्चों का बोझ उनकी रोजमर्रा जिंदगी पर ना पड़े. ऐसे दंपति को ऐड-ऑन मैटरनिटी कवर वाला स्वास्थ्य बीमा -हेल्थ इंश्योरेंस (maternity cover insurance) लेना फायदेमंद रहेगा.

यह भी पढ़ें: टर्म प्लान क्यों है जरूरी, होल लाइफ प्लान से कैसे है अलग, जानिए पूरा गणित

क्या होता है मैटरनिटी कवर? what is the maternity cover
स्वास्थ बीमा में मैटरनिटी कवर-maternity cover होने से आप मेहनत की कमाई से बचाए हुए पैसे को खर्च करने से बच सकते हैं. इसके अलावा मैटरनिटी कवर होने से गर्भवती स्त्री (pregnant women) और नवजात शिशु को मेडिकल सुरक्षा भी मिलती है. कंपनियां मैटरनिटी कवर 20-25 वर्ष की आयु वाले दंपतियों के लिए तैयार करती हैं. हालांकि मौजूदा समय में अलग-अलग कंपनियों के हेल्थ इंश्योरेंस (health insurance) में मैटरनिटी कवर में ज्यादा उम्र की महिलाओं को भी शामिल किया जाता है. जानकार कहते हैं कि शादी के तुरंत बाद मैटरनिटी कवर ले लेना चाहिए, ताकि जब जरूरत पड़े तो वेटिंग पीरिएड से बचा जा सके.

यह भी पढ़ें: सावधान! कहीं आपके एजेंट ने इंश्योरेंस की जगह इनवेस्टमेंट प्लान तो नहीं पकड़ा दिया

पॉलिसी लेते समय इन बातों का रखें ध्यान - Keep these things in mind for purchase

  • स्वास्थ बीमा खरीदते समय मैटरनिटी लाभ देने वाले प्लान के लिए अलग-अलग नियम और शर्तें होती हैं. नियमों और शर्तों को ध्यानपूर्वक जरूर पढ़ें
  • प्रतीक्षा अवधि (waiting period), कवरेज लिमिट, सामान्य एवं सीजेरियन सेक्शन डिलिवरी के लिए सब-लिमिट पर ध्यान देना चाहिए
  • नवजात शिशु को पहले से दिन से कवरेज, टीकाकरण लाभ जैसे फीचर हैं कि नहीं जरूर जानना चाहिए
  • मौजूदा समय में मैटरनिटी प्लान 2-4 वर्ष की प्रतीक्षा अवधि (waiting period) के साथ मिलते हैं इसलिए पॉलिसी को जल्द से जल्द खरीदें

यह भी पढ़ें: इंश्योरेंस नहीं लिया है तो ले लीजिए, क्योंकि परेशानी कभी भी आ सकती है

(Disclaimer: निवेशक निवेश से पहले अपने वित्तीय सलाहकार की सलाह जरूर लें. न्यूज स्टेट की खबर को आधार मानकर निवेश करने पर हुए लाभ-हानि का न्यूज स्टेट से कोई लेना-देना नहीं होगा. निवेशक स्वयं के विवेक के आधार पर निवेश के फैसले लें)

First Published : 10 May 2019, 08:23:14 AM

For all the Latest Business News, Personal Finance News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.